Deepawli Tantra

By best Astrologer in India:- हर महिला चाहती है की उस में “आकर्षण-सम्मोहन” तथा “वशीकरण” की एेसी शक्ति हो जिससे वह सुन्दरता तो दिखाई दे ही साथ ही अपने पति को किसी अन्य स्त्री के मोहजाल में फंसने से भी रोक सकती हो। यह सब तभी सम्भव है, जब वह महिला स्वयं सुन्दर आकर्षक व स्वास्थ्य हो। साथ में वह आवश्यक होने पर ‘वशीकरण’ का प्रयोग भी कर सके। क्योंकि जब किसी महिला में आकर्षण का आभाव होता है, तब ही उसके पति का किसी अन्य सुन्दरी की ओर झुकाव पैदा होता है। अर्थात तभी उसके पति किसी सुन्दरी के मोहजाल में उलझ सकते हैं। क्योंकि एक व्यवस्थित व संतुलित शरीर वाली स्त्री किसी सामान्य पुरूष को सहज ही आकर्षित कर सकती है। यह बात दूसरी है की कभी-कभी सांवली सलोनी नैन नक्श वाली व्यवस्थित स्त्री का मुस्कुराता चेहरा भी पुरूषों को आकर्षित करता है।
तंत्र-शास्त्रों में ऐसे प्रयोग भी मिलते हैं, जिन्हें करने से स्त्रीयां स्वयं में “आकर्षण-सम्मोहन” की शक्ति का विकास कर सकती हैं, और हीनभावना को निकालकर अपने पति के साथ सुखपूर्वक रह सकती हैं।
इसके लिये है- “आकर्षण-सम्मोहन कवच”। इस कवच की रचना दीपावली की रात्रि में की जाती है। अर्थात दीपावली की रात्रि में “गोपनीय तंत्र प्रयोग” द्वारा ही सिद्ध किया जाता है। यह कवच उन स्त्रीयों के लिये प्रयोग करने योग्य है, जो किसी प्रकार से पति की प्रेमिका से परेशान हैं। जो वह प्रेमिका या मित्र बनकर उनके पति पर डोरे डालती हैं, और पति का झुकाव निरंतर उस महिला की ओर आवश्यकता से अधिक हो गया है।
“आकर्षण-सम्मोहन कवच” का निर्माण करने के लिये गुरूजी ‘डा. आर. बी. धवन ‘ विशेष मुहूर्त का चुनाव करते हैं। इस की विधि तथा प्रयोग गोपनीय रखे जाते हैं। इस लिये “गोपनीय तंत्र प्रयोग” (तांत्रिक मंत्रो) द्वारा ही इस कवच को सिद्ध किया जाता है, यह कार्य गुरूजी स्वयं करते हैं। यह कवच सिद्ध करने के पश्चात सोने के सुन्दर लॉकेट में छिपाकर रखा होता है, और एक वर्ष तक महिला को अपने गले में धारण करना होता है।

“आकर्षण-सम्मोहन कवच” के लिये गुरूजी से सम्पर्क करें।

इसके अतिरिक्त डा. आर. बी. धवन (गुरूजी) द्वारा सम्पादित “दीपावली तंत्र-मंत्र विशेषांक” आप का भविष्य (मासिक ज्योतिषीय पत्रिका) की free membership भी प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिये http://www.shukracharya.com पर लॉगिन करें।

Dr.R.B.Dhawan (Top Astrologer in Delhi)

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s