शनिवार

By Dr. R.B.Dhawan :-

आम तौर पर ये धारणा है कि शनिवार shani vaar को घर मे कुछ वस्तुएं नही लानी चाहियें :-

यूं तो किसी भी वस्तु के उपयोग या क्रय करने का समय उसकी आवश्यकता पर ही निर्भर करता है, परंतु शास्त्रों में शनिवार shani कुछ वस्तुओं को खरीदने के कुछ नियम बताए गए हैं। अर्थात् कुछ एसी वस्तुऐं हैं जो शनिवार को घर नहीं लानी चाहिए, या इस दिन इन्हें नहीं खरीदना चाहिए –
लोहे का सामान :-

ऐसा माना जाता है कि शनिवार को लोहे का सामान खरीदने से शनिदेव shani dev कुपित होते हैं। इस दिन लोहे से बनी चीजों के दान का विशेष महत्व है। लोहे का सामान दान करने से शनि देव Shani dev की कोप दृष्टि नहीं होती है, और घाटे में चल रहा व्यापार भी मुनाफा देने लगता है। इसके अतिरिक्त शनि shani देव यंत्रों से होने वाली दुर्घटना से भी बचाते हैं।
यह वस्तुएं रोग लाती हैं :-

इस दिन तेल खरीदने से बचना चाहिए। हालांकि तेल का दान किया जा सकता है। काले कुत्ते को सरसों के तेल से बना हलुआ खिलाने से शनि shani की दशा अशुभ प्रभाव नहीं देती है। शनिवार को सरसों या किसी भी पदार्थ का तेल खरीदने से वह रोगकारी होता है।
इससे आता है कर्ज :-

नमक हमारे भोजन का सबसे अहम हिस्सा है। अगर नमक खरीदना है तो बेहतर होगा शनिवार shani vaar के बजाय किसी और दिन ही खरीदें। शनिवार को नमक खरीदने से यह उस घर पर कर्ज लाता है। साथ ही रोगकारी भी होता है।
रिश्तों में तनाव लाती है कैंची :-

कैंची ऐसी चीज है जो कपड़े, कागज आदि काटने में सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। पुराने समय से ही कपड़े के कारोबारी, टेलर आदि शनिवार shani vaar को नई कैंची नहीं खरीदते हैं। इसके पीछे यह मान्यता है कि इस दिन खरीदी गई कैंची रिश्तों में तनाव लाती है। इसलिए यदि आपको कैंची खरीदनी है तो शनिवार के अतिरिक्त किसी अन्य दिन खरीदें।
काले तिल बनते हैं रूकावट : –

सर्दियों में काले तिल शरीर को पुष्ट करते हैं। ये शीत से मुकाबला करने के लिए शरीर की गर्मी को बरकरार रखते हैं। पूजन में भी इनका उपयोग किया जाता है। शनि देव Shani dev की क्रूर दशा टालने के लिए काले तिल का दान और पीपल के वृक्ष पर भी काले तिल चढ़ाने का नियम है, परंतु शनिवार shani vaar को काले तिल कभी न खरीदें। कहा जाता है कि इस दिन काले तिल खरीदने से कार्यों में बाधा आती है।
काले जूते असफलता लाते हैं :-

शरीर के लिए जितने जरूरी वस्त्र हैं, उतने ही जूते भी। खासतौर से काले रंग के जूते पसंद करने वालों की तादाद आज भी काफी है। अगर आपको काले रंग के जूते खरीदने हैं तो, शनिवार shani vaar को न खरीदें। मान्यता है कि शनिवार को खरीदे गए काले जूते पहनने वाले को कार्य में असफलता दिलाते हैं।
परिवार पर कष्ट :-

रसोई के लिए ईंधन, माचिस, केरोसीन आदि ज्वलनशील पदार्थ आवश्यक माने जाते हैं। भारतीय संस्कृति में अग्नि को देवता माना गया है और ईंधन की पवित्रता पर विशेष जोर दिया गया है लेकिन शनिवार shani vaar को ईंधन खरीदना वर्जित है। कहा जाता है कि शनिवार को घर लाया गया ईंधन परिवार को कष्ट पहुंचाता है।
दरिद्रता लाती है झाड़ू :-

झाड़ू घर की गंदगी को बुहार कर घर को निर्मल बनाती है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। झाड़ू खरीदने के लिए शनिवार shani vaar को उपयुक्त नहीं माना जाता। शनिवार को झाड़ू घर लाने से दरिद्रता का आगमन साथ साथ होता है।
अन्न पीसने वाली चक्की :-

इसी प्रकार अन्न पीसने के लिए चक्की भी शनिवार को नहीं खरीदनी चाहिए। माना जाता है कि यह परिवार में तनाव लाती है, और इसके आटे से बना भोजन रोगकारी होता है।
काली स्याही दिलाती है अपयश :-

विद्या मनुष्य को यश और प्रसिद्धि दिलाती है, और उसकी अभिव्यक्ति करती है कलम। कलम की ऊर्जा है स्याही। कागज, कलम और दवात आदि खरीदने के लिए सबसे श्रेष्ठ दिन गुरुवार है, इसी लिये शनिवार shani vaar को स्याही कभी न खरीदें। एेसा करने से मनुष्य को अपयश का भागी बनना पढता है।

Top Astrologer in Delhi

Best Astrologer in India

Experience astrologer in Delhi

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s