शनि ग्रह

कैसा फल देता है शनि, अन्य ग्रहों के साथ? :-


Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)
खगोलीय दृष्टि से शनि हमारे सौरमंडल में सूर्य से सबसे दूर स्थित ग्रह है। ज्योतिषीय दृष्टिकोण में बारह राशियों में शनि को मकर और कुम्भ राशि का स्वामी मना गया है, शनि की उच्च राशि तुला तथा नीच राशि मेष है, शनि को एक क्रोधित ग्रह के रूप में उल्लेखित किया गया है। शनि का रंग काला है। शनि की गति नवग्रहों में सबसे धीमी है, इसी लिए शनि एक राशि में ढाई वर्ष तक गतिमान रहता है, और बारह राशियों के चक्र को तीस साल में पूरा करता है। ज्योतिष में शनि को कर्म, आजीविका, जनता, सेवक, नौकरी, अनुशाशन, दूरदृष्टि, प्राचीन वस्तु, लोहा, स्टील, कोयला, पेट्रोल, पेट्रोलयम प्रोडक्ट, चमड़ा, मशीन, औजार, तपस्या और अध्यात्म का कारक माना गया है। स्वास्थ की दृष्टि से शनि हमारे पाचन–तंत्र, हड्डियों के जोड़, बाल, नाखून,और दांत को नियंत्रित करता है। जन्मकुण्डली में यदि शनि का यदि अन्य ग्रहों से योग हो तो भिन्न भिन्न प्रकार के फल व्यक्ति को प्राप्त होते हैं, आईये उन्हें जानते हैं :-

शनि सूर्य – कुण्डली में शनि और सूर्य का योग बहुत शुभ नहीं माना गया है, यह जीवन में संघर्ष बढ़ाने वाला योग माना गया है, फलित ज्योतिष में सूर्य, शनि को परस्पर शत्रु ग्रह माना गया है, कुंडली में शनि सूर्य का योग होने पर व्यक्ति को आजीविका के लिए संघर्ष का सामना करना पड़ता है, विशेष रूप से करियर का आरंभिक पक्ष संघर्षपूर्ण होता है, और यदि शनि अंशों में सूर्य के बहुत अधिक निकट हो तो, आजीविका में बार बार उतार-चढ़ाव रहते हैं, शनि सूर्य का योग होने पर जातक को या तो पिता के सुख में कमी होती है, या पिता के साथ वैचारिक मतभेद रहते हैं, यदि शनि और सूर्य का योग शुभ भाव में बन रहा हो तो, ऐसे में संघर्ष के बाद सरकारी नौकरी का योग बनता है।

शनि चन्द्रमा – कुंडली में शनि और चन्द्रमा का योग होने पर व्यक्ति मानसिक रूप से हमेशा परेशान रहता है, मानसिक अस्थिरता की स्थिति रहती है, इस योग के होने पर नकारात्मक विचार, डिप्रेशन, एंग्जायटी और अन्य साइकैट्रिकल समस्याएं उत्पन्न होती हैं, व्यक्ति एकाग्रता की कमी के कारण अपने कार्यों को करने में समस्या आती है, यह योग माता के सुख में कमी या वैचारिक मतभेद भी उत्पन्न करता है, पर यदि शनि चन्द्रमा का योग शुभ भाव में बन रहा हो तो, ऐसे में विदेश यात्रा या विदेश से जुड़कर आजीविका का साधन बनता है।

शनि मंगल – कुंडली में शनि मंगल का योग भी करियर के लिए संघर्ष देने वाला होता है, करियर की स्थिरता में बहुत समय लगता है, और व्यक्ति को बहुत अधिक पुरुषार्थ करने पर ही सफलता मिलती है, शनि मंगल का योग व्यक्ति को तकनीकी कार्यों जैसे इंजीनियरिंग आदि में आगे ले जाता है, और यह योग कुंडली के शुभ भावों में होने पर व्यक्ति पुरुषार्थ से अपनी तकनीकी प्रतिभाओं के द्वारा सफलता पाता है, शनि मंगल का योग यदि कुंडली के छटे या आठवे भाव में हो तो, स्वास्थ में कष्ट उत्पन्न करता है, शनि मंगल का योग विशेष रूप से पाचन तंत्र की समस्या, जॉइंट्स पेन और एक्सीडेंट जैसी समस्याएं देता है।

शनि बुध – शनि और बुध का योग शुभ फल देने वाला होता है। कुंडली में शनि बुध के एक साथ होने पर ऐसा व्यक्ति गहन अध्ययन की प्रवृति रखने वाला होता है, और प्राचीन वस्तुएं, इतिहास और गणनात्मक विषयों में रुचि रखने वाला होता है, और व्यक्ति प्रत्येक बात को तार्किक दृष्टिकोण से देखने वाला होता है, कुंडली में शनि बुध का योग व्यक्ति को बौद्धिक कार्य, गणनात्मक और वाणी से जुड़े कार्यों में सफलता दिलाता है।

शनि बृहस्पति – शनि और बृहस्पति के योग को बहुत अच्छा और शुभ फल देने वाला माना गया है, कुंडली में शनि बृहस्पति एक साथ होने पर व्यक्ति अपने कार्य को बहुत समर्पण भाव और लगन के साथ करने वाला होता है, यह योग आजीविका की दृष्टि से बहुत शुभ फल देने वाला होता है, व्यक्ति अपने आजीविका के क्षेत्र में सम्मान और यश तो प्राप्त करता ही है, पर शनि बृहस्पति का योग होने पर व्यक्ति अपने कार्य क्षेत्र में कुछ ऐसा विशेष करता है, जिससे उसकी कीर्ति बहुत बढ़ जाती है। कुंडली में शनि और बृहस्पति का योग होने पर ऐसे व्यक्ति के करियर या आजीविका की सफलता में उसके गुरु का बहुत बड़ा विशेष योगदान होता है, यह योग धार्मिक, समाजसेवा और आध्यात्मिक कार्य से व्यक्ति को जोड़कर परमार्थ के पग पर भी ले जाता है।

शनि शुक्र – शनि और शुक्र का योग भी बहुत शुभ माना गया है, कुंडली में शनि और शुक्र का योग होने पर व्यक्ति रचनात्मक या कलात्मक कार्यों से सफलता पाता है, जीवन में आजीविका के द्वारा अच्छी धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है, व्यक्ति विलासिता पूर्ण कार्य से आजीविका चलाता है, यदि पुरुष जातक की कुंडलीं में शनि शुक्र का योग हो तो, ऐसे व्यक्तियों के जीवन में उनके विवाह के बाद विशेष उन्नति और भाग्योदय होता है, तथा उनकी पत्नी जीवन निर्वाह में विशेष सहायक होती है।

शनि राहु – शनि और राहु का योग कुंडली में होने पर व्यक्ति वाक्-चातुर्य और तर्क से अपने कार्य सिद्ध करने वाला होता है, ऐसे में व्यक्ति को आकस्मिक धन प्राप्ति वाले कार्यों से लाभ होता है, व्यक्ति अपनी मुख्य आजीविका से अलग भी गुप्त रूप से धन लाभ प्राप्त करता है, और शुभ प्रभाव के आभाव में यह योग व्यक्ति को छल के कार्यों से भी जोड़ देता है।

शनि केतु – शनि और केतु का योग बहुत संघर्षपूर्ण योग माना गया है कुंडली में यदि शनि और केतु एक साथ हों तो, ऐसे में व्यक्ति की आजीविका या करियर बहुत संघर्ष पूर्ण होता है, व्यक्ति को पूरी मेहनत करने पर भी आपेक्षित परिणाम नहीं मिलते, कई बार व्यक्ति अपनी आजीविका का क्षेत्र बदलने पर मजबूर हो जाता है, यह योग व्यक्ति में आध्यात्मिक दृष्टिकोण भी उत्पन्न करता है, यदि कुंडली में अन्य अच्छे योग भी हों तो भी व्यक्ति के करियर की स्थिति तो अस्थिर ही बनी रहती है, शनि केतु का योग व्यक्ति को पाचनतंत्र, जोड़ो के दर्द और आंतो से जुडी समस्याएं भी देता है। यह तो हैं शनि के सामान्य लक्षण, अब बात कर लेते हैं, शनि देव की साढ़ेसाती की, क्योंकि शनि साढ़ेसाती अक्सर लोगों को भयभीत किसे रहती है।

शनि की साढ़ेसाती :-

साढ़ेसाती का नाम सुनते ही, अच्छे-अच्छे भयभीत हो उठते हैं। जैसे शनि ग्रह कोई भयानक राक्षस है! ‘बस जैसे ही आयेगा हमें कच्चा ही चबा जायेगा।

वस्तुतः ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को दुःख और पीडा का ‘सूचक’ ग्रह कहा गया है। परंतु सूचक का अर्थ यह नहीं की शनि ग्रह का समय केवल दुःख और पीडा ही लेकर आता है। शनि का समय केवल दुःख और पीडा के समय की सूचना मात्र देता है। दुःख और पीडा तो मनुष्य अपने पाप कर्मों के कारण प्राप्त करता है। यह ग्रह मनुष्य के द्वारा किये गये उसके अपने ही पाप कर्मों की सजा देता है।

शास्त्रों में पाप कर्म इस प्रकार वर्णित हैं- कर्मेन्द्रियों (नेत्रों, कर्णों, जिव्हा, नासिका व जन्नेद्रियों द्वारा, मन-वचन-कर्म के तथा मन) के द्वारा जो कर्म किये जाते हैं, अच्छे, बुरे या मध्यम होते हैं।

अच्छे या पुण्य कर्म वे हैं- जो दूसरों को सुख देने वाले होते हैं।

बुरे या पाप कर्म वे हैं- जो दूसरों को दुःख देने वाले होते हैं।

मध्यम कर्म- जो किसी को न तो दुःख ना ही सुख देते हैं।

इन तीनों श्रेणियों के कर्म भी तीन-तीन प्रकार के होते हैं, जो मानसिक, शारीरिक तथा आर्थिक रूप से दूसरों को प्रभावित करते हैं। क्रिया की प्रतिक्रिया के प्राकृतिक सिद्धांत के अनुसार मनुष्य अपने कृत कर्मों से दूसरों को जो भी देता है, वही लौटकर एक दिन उसे मिलता है। “अपना ही बीजा हुआ फल मिलता है” यह ‘कर्म सिद्धांत’ है।
कर्म सिद्धांत के अनुसार अच्छे कर्मों की सूचना शुभ ग्रह राजयोगों के रूप में देते हैं, तथा बुरे कर्मों की सूचना मानसिक, शारीरिक या फिर आर्थिक हानि ‘दुःख और पीडा’ के रूप में पाप ग्रह देते हैं। पाप ग्रहों में सर्वाधिक बलवान ग्रह शनि ग्रह है, इसी लिये यह दुःख और पीडा का सूचक ग्रह कहा गया है। शनि ग्रह यदि कुंडली में अत्यधिक कष्ट की सूचना दे रहा हो तो इसकी शांति के लिए छाया दान बहुत ही कारगर उपाय है।

आज इस लेख के माध्यम से में आपको छाया दान के विषय में बताता हूँ, जिसके द्वारा जातक शनि ग्रह महादशा, अंतर्दशा अथवा साढ़ेसाती में होने वाली भिन्न-भिन्न तरह की परेशानियों से निजात पा सकता है, इस लेख के माध्यम से आप समझ सकते हैं की छाया दान क्या है, और क्यों किया जाना चाहिए :- अक्सर ऐसा होता है कि व्यक्ति का बीता हुआ काल अर्थात भूतकाल अगर दर्दनाक रहा हो या अच्छा न रहा हो तो, वह व्यक्ति के आने वाले भविष्य को भी ख़राब करता है, और भविष्य बिगाड़ देता है। ऐसे समय में बिता हुआ कल आप का आज भी बिगड़ रहा हो, और बीता हुआ कल अच्छा न हो तो, निश्चित तोर पर कल भी बिगाड़ देगा। इससे बचने के लिये छाया दान करना चाहिए।
जीवन में जब तरह तरह कि समस्या आप का भूत काल बन गया हो तो, छाया दान से मुक्ति मिलती है, और कष्ट से आराम मिलता है।

1 . बीते हुए समय में पति पत्नी में भयंकर अनबन रही हो तो : –

अगर बीते समय में पति पत्नी के सम्बन्ध मधुर न रहा हों और उसके चलते आज वर्त्तमान समय में भी वो परछाई कि तरह आप का पीछा कर रहा हो तो, ऐसे समय में आप छाया दान करें और छाया दान आप बृहस्पत्ति वार के दिन कांसे कि कटोरी में घी भर कर पति पत्नी अपना मुख देख कर कटोरी समेत मंदिर में दान दें, इससे आप कि खटास भरे भूत काल से मुक्ति मिलेगा। और भविष्य काल मधुरतापूर्ण और सुखमय रहेगा।

2 . बीते हुए समय में हुई हो भयावह दुर्घटना या एक्सीडेंट :

अगर बीते समय में कोई भयंकर दुर्घटना हुई हो, और उस खौफ से आप समय बीतने के बाद भी नहीं उबार पाये हैं। मन में हमेशा एक डर बना रहता है,ओर आप कही भी जाते हैं तो, आप के मन में उस दुर्घटना का भय बना रहता है तो, आप छाया दान करें। आप एक मिटी के बर्तन में सरसों का तेल भर कर शनि वार के दिन अपनी छाया देख कर शनि मंदिर में दान करें। इससे आप को लाभ होगा, बीती हुई दर्दनाक स्मृति से छुटकारा मिलेगा। और भविष्य सुरक्षित रहेगा।

3 . बीते समय में व्यापर में हुआ घाटा आज भी डरा रहा है आप को :

कई बार ऐसा होता है कि बीते समय में व्यापारिक घाटे या बहुत बड़े नुकसान से आप बहुत मुश्किल से उबरे हों, और आज स्थिति ठीक होने के बावजूद भी आप को यह डर सता रहा है कि दुबारा वैसा ही न हो जाये तो, इससे बचने के लिए आप बुधवार के दिन एक पीतल कि कटोरी में घी भर कर उसमे अपनी छाया देख कर छाया पात्र समेत आप किसी ब्राह्मण को दान दें। इससे दुबारा कभी भी आप को व्यापार में घाटा नहीं होगा। और भविष्य में व्यापार भी फलता फूलता रहेगा।

4 . भूत काल कि कोई बड़ी बीमारी आज भी परछाई बन कर डरा रही हो :

बीते समय में कई बार कोई लम्बी बीमारी के कारण व्यक्ति मानसिक तौर पर उससे उबर नहीं पाता है। और ठीक होने के बावजूद भी मानसिक तौर पर अपने भूत काल में ही घिरा रहता है। तो ऐसी स्थिति में व्यक्ति को शनिवार के दिन एक लोहे के पात्र में तिल का तेल भर कर अपनी मुख छाया देखकर उसका दान शनि मंदिर में करें। इससे आप को इस स्मृति से मुक्ति मिलेगी और भविष्य में बीमार नहीं होंगे, स्वस्थ्य रहेंगे।

5 लम्बे समय के बाद नौकरी मिली है, लेकिन भुतकाल का डर कि फिर बेरोजगार न हो जाये :

बहुत लम्बे समय की बेरोजगारी के बाद नौकरी मिलती है, लेकिन मन में सदेव एक भय सताता है कि दुबार नौकरी न चली जाये, और यह सोच एक प्रेत कि तरह आप का पीछा करती है तो, ऐसे स्थिति में आप सोमवार के दिन तांम्बे की एक कटोरी में शहद भर कर अपनी छाया देख कर ब्राह्मण को दान करना चाहिए, इससे आप को लाभ मिलेगा। इस छाया दान से उन्नति बनी रहती है, रोजगार बना रहता है।

6 .कुछ ऐसा काम कर चुके हैं जो गोपनीय है, लेकिन उसके पश्चाताप से उबर नहीं पाये हैं :
कई बार जीवन में ऐसी गलती आदमी कर देता है कि जो किसी को बता नहीं पता लेकिन मन ही मन हर पल घुटता रहता है, और भूत काल में कि गई गलती से उबर नहीं पता है तो, ऐसी स्थिति में व्यक्ति को पीतल कि कटोरी में बादाम के तेल में मुख देख कर शुक्रवार के दिन छाया दान करना चाहिए। इससे पश्चाताप कि अग्नि से मुक्ति मिलती है, और कि हुई गलती के दोष से मुक्ति मिलती है।

7 . पहली शादी टूट गयी, दूसरी शादी करने जा रहे हैं, लेकिन मन में वह भी टूटने का डर है :

संयोग वश या किसी दुर्घटना वश व्यक्ति कि पहली शादी टूट गयी है, और दूसरी शादी करने जा रहे हैं, और मन में भय है कि जैसे पहले हुआ था वैसे दुबारा न हो जाये तो, इसके लिए व्यक्ति को (स्त्री हो या पुरुष) रविवार के दिन ताँबे के पात्र में घी भरकर उसमे अपना मुख देख कर छाया दान करें। इससे भूत काल में हुई घटना या दुर्घटना का भय नहीं रहेगा। और भविष्य सुखमय रहेगा।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com,vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s