अंक ज्योतिष

कीरो गोल्ड सॉफ्टवेयर (हिन्दी और अंग्रेजी दो भाषाओं में) :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top best astrologer in Delhi)

कहा जाता है कि आज तक के मानव इतिहास में सम्पूर्ण विश्व में भविष्य बताने वाली लगभग 160 विद्यायें खोजी गई हैं। इनमें अनेको विद्यायें तो ऐसी हैं, जिनका प्रचार तथा उपयोग केवल उसी देश तक ही सामित होकर रह गया, जिसमें वे खोजी गई हैं। कुछ ऐसी भी हैं जिनका प्रचार और भी सीमित छेत्र लगभग प्रदेश विशेष तक ही सीमित रह गया, और धीरे-धीरे यह विद्यायें अधिक प्रचलन में न आने के कारण लुप्त सी हो गई। ऐसा नहीं है की यह लुप्त हुई विद्याओं की प्रमाणिकता कम थी, बल्कि ऐसा इसलिये हुआ क्यों कि इनको उचित प्रचार ही नहीं मिला या फिर इनमें से कुछ को छिपाकर रखने की प्रवृति कारण बनी थी।

भविष्य का ज्ञान देने वाली जो तीन विद्यायें सम्पूर्ण विश्व में अधिक प्रसिद्ध हुई हैं- 1. हस्तरेखा विज्ञान, जो कि समुद्रिक विज्ञान का एक भाग है। 2. अंक ज्योतिष Numerology तथा 3. जन्मकुण्डली द्वारा भविष्य कथन। देखा जाये तो तीनों ही विद्याओं के जनक भारतीय विद्धान थे। भारत के 18 ऋषियों ने अपने-अपने समय में इन विद्याओं को खोजा तथा प्रस्तुत किया था। इसके अतिरिक्त भारत में भी भविष्य का ज्ञान देने वाली अनेक अन्य विद्यायें उचित प्रचार न पाने तथा छिपाकर रखने की प्रवृति के कारण लुप्त हांकर रह गई या कह सकते हैं, वह स्थान न पा सकी जैसा इन तीन विद्याओं ने प्राप्त किया। भारत में इन में से एक विद्या ‘जन्मकुण्डली द्वारा फलादेश’ पर महर्षि पराशर, का योगदान सर्वाधिक उल्लेखनीय था, इसके उपरांत विक्रमादित्य के शासनकाल में महर्षि वराहमिहिर ने इसमें बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, इस के अतिरिक्त भी बहुत से विद्वानों ने अपना-अपना योगदान समय-समय पर दिया है। वराहमिहिर ने केवल कुण्डली विज्ञान पर ही नहीं अपितु अंक ज्योतिष तथा सामुद्रिक विज्ञान पर भी अनेक ग्रंन्थों की रचना की है। युरोप के विद्वान कीरो, पैथागोरस, स्फेरियल, हिब्रयू ने अंक ज्योतिष तथा सामुद्रिक शास्त्र के एक भाग ‘हस्तरेखा विज्ञान’ पर तो बहुत परिश्रम किया और प्रसिद्धि भी पाई अनेक अंग्रेजी के ग्रन्थ भी लिखे परंतु जन्मकुण्डली विज्ञान के रहस्यों को अधिक नहीं समझ पाये। कहा जाता है पैथागोरस और कीरो भविष्य ज्ञान की विद्याओं की शिक्षा प्राप्त करने के उद्देश्य से कई वर्ष तक भारत में भारतीय विद्वानों के साथ रहे थे और अनेक विद्यायें यहां से सीखकर गये थे। यह सच है की कीरो ने अंकविद्या ‘अंक ज्योतिष’ पर बहुत सूक्षम अध्ययन किया और इसी लिये अपने क्षेत्र (देश) में बहुत प्रसिद्धि भी पाई थी। यहां तक की इस विद्या के जनक ‘सामुद्र ऋषि’ को बहुत अधिक विद्वान नहीं जानते परंतु कीरो का नाम सभी की जुबान पर रहा है। विद्वान चाहे भारतीय हो या विदेशी सम्मान पाने का अधिकारी तो बराबर है। यहां आपका ध्यान अब Shukracharya संस्थान द्वारा कडे परिश्रम द्वारा बनाया गया Keero Gold की ओर ले जाना चाहता हूं। कीरो गोल्ड एक साॅफ्टवेयर है, जो शुद्ध अंक ज्योतिष पर आधारित है।

कीरो गोल्ड की विशेषतायें-
सर्व प्रथम कीरो-06 नाम से अंक शास्त्र का साॅफ्टवेयर तैयार किया गया था, जो कि वर्तमान कीरो गोल्ड का आधार है। जिसको Keero Gold प्रोफेशनल संस्करण के नाम से जाना जाने लगा। जिसमें व्यक्ति अपनी अंक ज्योतिष से संबंधित अधिकतम आवश्यकताओं को देख व प्रिंट कर सकता है। आप इसके नाम से ही समझ सकते हैं, इस संस्करण का उदेश्य है अंक ज्योतिष द्वारा अंक जन्मपत्री छापकर व विस्तृत फलादेश व गणना देखकर व्यापारिक दृष्टि से प्रयोग करना। किसी भी एडवांस चीज की आवश्यकता तब तक महसूस नहीं होती जब तक कि उसके द्वारा प्राप्त होने वाली सारी सुविधाओं का पता न चले। यह ठीक उसी प्रकार है, जैसे काम तो तब भी चल जाया करता था जब संचार माध्यम सीमित थे, केवल डाक द्वारा पत्र भेजे और पढ़े जाते थे, परंतु आज के आधुनिक समय में ई-मेल, एस. एम. एस. आदि द्वारा संदेश भेजे व प्राप्त किये जाते हैं। आज इन आधुनिक चीजों के बिना जीवन यापन संभव नही लगता है।

कीरो गोल्ड की विशेषतायें :-
यह संस्करण हिन्दी और अंग्रेजी दो भाषाओं में उपलब्ध है। यह संस्करण मुख्यतः पाँच भागों में संगठित है।
1. प्रश्न खण्ड
2. अंक कुण्डली खण्ड
3. मिलापक खण्ड
4. राम शलाका
5. बायोरिद्म

1. प्रश्न खण्ड :-
प्रश्न खण्ड में ‘प्रश्न अंक ज्योतिष’ की पद्धतियों के द्वारा गणना और उसके के फल (उत्तर) उपलब्ध हैं। जैसे कभी-कभी जतक के मन में ऐसे प्रश्न होते हैं, जिनका उत्तर एक शब्द में ही होता है (हाँ, ना, शुभ, सम, अशुभ आदि) इसमें इस प्रकार के प्रश्नों के उत्तर देने वाली विशेषतायें उपलब्ध हैं।

इसमें 7 विभाग हैं-

पहला- नाम सुधारक :-
इस विभाग में आप अपने नाम की त्रुटियां सुधार कर, इसे अपने भाग्यांक के अनुकूल बना सकते हैं, जिससे आपका नाम आपके लिये भाग्य वृद्धि करने वाला हो जायेगा। इनमें से कुछ स्पेलिंग प्रयोग करने योग्य नहीं होते, इस लिये इस के उत्तर में एक से अधिक उत्तर मिलेंगे, यह उत्तर 100 प्रतीशत या 50 प्रतीशत के पैमाने में अनुकूलता के रूप में मिलेंगे।

दूसरा- व्यक्तिगत शुभ घंटे :-
यह होरा शास्त्र पर आधारित गणना आपको किसी भी दिन के शुभ घंटों का ज्ञान देगी, जो की आपके लिये शुभ घंटे होंगे। इन शुभ घंटों में आप अपना कोई भी शुभ कार्य आरम्भ कर सकते है।

तीसरा- ग्राफ :-
इस सुविधा में आप अपने भाग्य स्तर और ऊर्जा स्तर तथा समय (दिन) के बीच बनता हुआ ग्राफ देख सकते हैं, जिससे आपको प्रतिदिन के लिये दिनचर्या बनाने में मदद मिलेगी। भाग्य ग्राफ में आप अपने भाग्य के स्तर का अवलोकन दिन, महीने, वर्ष के रूप में कर सकते हैं। ऊर्जा ग्राफ में आप अपने भाग्य के स्तर का अवलोकन दिन, महीने, वर्ष के रूप में कर सकते हैं। यह सभी गणनायें आपके वर्षांक, मासांक और दैनिकांक पर आधारित होगी।

चौथा- अंक गोचर :-
इस सुविधा में आप अपना वर्तमान, व्यक्तिगत अंक गोचर घडी के आकार में मनचाही गति से देख सकते हैं। साथ में निर्देशरूप में शुभाशुभ समय की जानकारी दी गई है। यह जानकारी आपको अति-उत्तम, उत्तम, मध्यम, कठिन तथा अशुभादि के रूप में मिलेगी। यह गणना व्यक्तिगत वर्षांक, मासांक और दिनांक के पारवहन चक्र पर आधारित है।

पाँचवा- प्रवासी आगमन :-
इस सुविधा में प्रवासी के विषय में जानकारी मिलेगी। जैसे प्रवासी सुरक्षित है या नहीं, किस दिशा में, कम, मध्यम या अधिक दूरी पर है, अथवा वह कितने समय में लौटेगा इत्यादि।

छटा- खोई पाई वस्तु ज्ञान :-
कभी-कभी घर की कोई वस्तु खो जाती है, उस स्थिति में वस्तु की प्राप्ति या ना प्राप्ति की जानकारी मिलती है। यदि मिलेगी तो कैसी अवस्था में, किस ओर मिलेगी।

सातवां- नाम, फोन या वाहन नम्बर जांचना :-
इसमें आपके भाग्यांक के अनुसार आपके लिये आपके फोन, घर, कार्यस्थान या वाहन का नम्बर जांचने की सुविधा शुभ (भाग्यशाली) प्रतीशत में मिलेगी।

2. अंक कुंडली खण्ड :

इस खण्ड में अंक कुंडली के सभी प्रकार का विस्तृत फलादेश रिपोर्ट के रूप में प्रिंटाऊट लेने की सुविधा है। सभी रिपोर्ट के प्रिंटाऊट हिन्दी व अंग्रेजी दोनो भाषाओं में लिये जा सकते हैं।

इसमें 9 विभाग हैं-
पहला- विभाग मूलांक विचार :-
इस अंक पत्रिका में जातक के मूलांक पर आधारित वितृत फलादेश किया गया है। इस के साथ-साथ जातक के भयांक, नामांक, शुभांक, शुभ दिन, शुभ तारीख, शुभ वार, शुभ माह, शुभ वर्ष, अंकों द्वारा स्वास्थ्य, अंकों द्वारा आजीविका के साधन, मित्रांक, शत्रु अंक, महत्वपूर्ण वर्ष, शुभ रंग, शुभ यंत्र, शुभ व्रत आदि का विस्तृत विवरण फलादेश सहित उपलब्ध है। सामान्यतः 8 से 10 पृष्ठ का प्रिंटाऊट इसमें मिलता है।

दूसरा- विभाग अंक कुण्डली :-
इस कुण्डली में जातक की अंक कुण्डली पर आधारित फलित कथन किया गया है। इसके साथ जातक की अंक दशाओं का भी विवरण आरम्भ और समाप्तिकाल सहित हैै। इस कुंडली में जातक की अंक कुंडली में बनने वाले विभिन्न अंक योगों का भी विस्तृत फलादेश है।

तीसरा- विभाग नाम कुण्डली :-
इस कुंडली में जातक के अंग्रेजी नामाक्षरों की विस्तृत फलकथन की सुविधा उपलब्ध है।

चौथा- विभाग वार्षिक फलादेश :-
इस कुण्डली में जातक के 9-10 वर्षो का सामान्य फलादेश किया गया है। यह कुंडली जातक के वर्षांक पर आधारित बनाई जाती है।

पाँचवा- विभाग मासिक फलादेश :-
इस कुण्डली में जातक के 12 महीने का सामान्य फलादेश किया गया है। यह कुण्डली जातक के व्यक्तिगत मासांक पर आधारित बनाई जाती है।

छटा- विभाग दैनिक फलादेश :-
इस कुण्डली में जातक का दैनिक सामान्य फलादेश किया गया है। यह कुण्डली जातक के व्यक्तिगत दैनिक फल पर आधारित बनाई जाती है।

सातवां- विभाग वार्षिक व मासिक फलादेश :-
इस कुण्डली में जातक के वर्ष तथा मास का संयुक्त सामान्य फलादेश किया गया है। यह कुण्डली जातक के वर्षांक व मासंक पर आधारित है।

आठवां- विभाग मासिक फलादेश व दैनिक फलादेश :-
इस कुण्डली में जातक के मासिक तथा दैनिक संयुक्त सामान्य फलादेश किया गया है। यह कुण्डली जातक के मासांक व दैनिक अंक पर आधारित है।

नौवां- विभाग लोशु चक्र (चायनीज अंक शास्त्र) फलादेश :-
इस रिपोर्ट में जातक के लिये लोशु चक्र द्वारा फल कथन किया गया है। डेस्टिनेशन नम्बर का भी विस्तृत फलादेश है। इस के साथ दिनांक का फल सशक्त प्लेन और बनने वाले ऐरो का विस्तृत फलादेश है। व्यक्तिगत लोशु वर्षांक, एवं व्यक्तिगल लोशु मासांक का भी फलादेश है।

3. मेलापक खण्ड :-
इस खण्ड में अंक शास्त्र के आधार पर किन्ही दो व्यक्तियों का मेलापक फल दिया गया है। यह फलादेश प्रतिशत में दिया गया है। इसकी गणना का आधार मूलांक, भाग्यांक और नामांक है, यह इनकी परस्पर अनुकूलता पर आधारित है।

4. राम शलाका :
जीवन में अनेक अवसर ऐसे आते हैं, जब किसी प्रश्न के उत्तर को लेकर दुविधा की स्थिति हो, और आप प्रभु श्रीराम के संकेतात्मक उत्तर चाहते हों, या आप कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने जा रहे हैं, तथा यह तय नहीं कर पा रहे कि क्या किया जाये, क्या नहीं किया जाये? ऐसी स्थिति में अपनी दुविधा भगवान राम को सौंप दीजिये। समझ लीजिये आपका यह उत्तर तो भगवान के द्वार से आ गया। क्या करें और क्या नहीं करें? ऐसी भटकाव वाली स्थिति से उबरने के लिये ही तुलसीदास जी ने इस शलाका की रचना की है। आप मान सकते हैं कि श्री राम शलाका प्रश्नावली के रूप में एक मूल्यवान चाबी हमें हमारी ऋषि परम्परा से प्राप्त हुई है, इसकी उपयोग विधि बिलकुल सरल है-

श्री राम शलाका एक ऐसी प्रश्नावली है, जो गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित ‘श्री राम चरित मानस’ पर आधारित है। इस प्रश्नावली का प्रयोग कर आप जीवन के कई उपयोगी तथा महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। इस प्रश्नावली का प्रयोग करना बेहद सरल है। सबसे पहले अपने नेत्र बंद करके भगवान श्री राम का स्मरण करते हुये अपने प्रश्न को अपने मन में अच्छी तरह विचार लें। इसके बाद इस में दिये गये किसी भी एक अक्षर पर अपने नेत्र बंद किये हुये ही क्लिक करें। आपके द्वारा क्लिक किये हुये अक्षर से प्रत्येक 9वें नम्बर के अक्षर को जोड़कर एक चैपाई बनेगी, जो की आपके प्रश्न का उत्तर होगी।

5. बायोरिद्म ग्राफ :-
बायोरिद्म ग्राफ बायोरिद्म सिद्धांत पर आधारित है, इस में जिस समय गणना की जा रही है, उस दिन से 30 दिन पूर्व तथा 30 दिन आगे तक का यह ग्राफ अंकित हो जाता है। इस के अलावा आप इस ग्राफ को कम्प्यूटर स्क्रीन पर भी देख सकते हैं। इमेज के रूप में सहेज सकते हैं, प्रिटर से प्रिट कर सकते हैं। इस में तीत रेखायें दिखई गई हैं, प्रथम रेखा जातक की शारीरिक स्थिति को ग्राफ के रूप में दर्शाती है, इसी प्रकार दूसरी रेखा मन की स्थिति को ग्राफ के रूप में दिखाती है, तथा तीसरी रेखा बौद्धिक स्तर को ग्राफ के रूप में दर्शाने वाली रेखा है।

अन्य विशेषतायें-
1. यह साॅफ्टवेयर windows Pc और Laptop पर compatible है। window XP/7/8/10 आॅपरेटिंग सिस्टम के लिये तैय्यार किया गया है।

2. यह (Numerology Software) अंक ज्योतिष पर आधारित साॅफ्टवेयर Singale user licence पर आधारित है।

3. इस Numerology Software में वैदिक सूर्यांक, वैदिक चंद्रांक, कीरो, सिफेरियल, हिब्रयु, पाईथागोरस द्वारा दी गई अंक-शास्त्र पद्धतियाँ सम्मिलित हैं।

4. यह Numerology Software हिन्दी व अंग्रेजी दोनो भाषाओं में उपलब्ध है।

5. यह Keero Gold साॅफ्टवेयर विख्यात अंक-शास्त्रीयों द्वारा सत्यापित व परिक्षित है।

6. यह साॅफ्टवेयर (Numerology Software) अंक-शास्त्र की विविध पद्धतियों पर आधारित अंकशास्त्र का विस्तृत व विशालतम संस्करण है।

7. A-4 Size में अनेक प्रिंटर्स से प्रिंटिग की व्यवस्था है।
8. MS word में html में Export कर E-Mail भेजने की सुविधा इस साॅफ्टवेयर में है।

9. सभी विद्वान अपने लिये अपने तरीके से या अपने अनुकूल साॅफ्टवेयर बनवाने के लिये भी सम्पर्क कर सकते हैं।

10. प्रिंट की जाने वाली सभी रिर्पोट में सम्पर्क स्थान पर, प्रयोग कर्ता अपना नाम डाल सकता है, यह सुविधा साॅफ्टवेयर में User management के रूप में उपलब्ध है।

11. Numerology पर आधारित इस Keero Gold साॅफ्टवेयर में जातक के जन्म विवरण को Save करने की सुविधा और भविष्य में किसी भी समय उस विवरण को प्रयोग में लाने की सुविधा भी उपलब्ध है।

Numerology पर आधारित सॉफ्टवेयर का मूल्य 6000/- Rs. है। विशेष छूट के साथ यह सॉफ्टवेयर अभी केवल 4500/- में उपलब्ध है।

——————————————————————————–

अधिक जानकारी के लिए अथवा ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- गुरू जी के कार्यालय में सम्पर्क करें :- 011-22455184, 09810143516

गुरू जी के लेख देखें :- astroguruji.in, aap ka bhavishya.in, rbdhawan@wordpress.com, guruji ke totke.com.

Astrological products and astrology course के लिए विजिट कीजिए :- http://www.shukracharya.com

Advertisements

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s