दिल लगाने से पहले

दिल लगाने से पहले गुण भी मिला लीजिए :-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant), best online astrologer, best top astrologer in delhi, best top astrologer in india

कबीरदास जी ने कहा है-
पोथी पढ पढ जग मुआ पंडित भयो न कोई।
ढाई आखर प्रेम के, पढ़े सो पंडित होई।।

प्रेम एक दिव्य अलौकिक एवं वंदनीय तथा प्रफुल्लता देने वाली स्थिति है। प्रेम मनुष्य के करुणा-दुलार-स्नेह की अनुभूति देता है। फिर चाहे यह भक्त का भगवान से हो, माता का पुत्र से या प्रेमी का प्रेमिका के लिए प्रेम हो सभी का अपना महत्त्व है।

प्रेम और विवाह, विवाह और प्रेम दोनों के समान अर्थ हैं लेकिन दोनों के क्रम में परिवर्तन है। विवाह पश्चात् पति या पत्नी के बीच समर्पण व भावनात्मकता प्रेम का एक पहलू है प्रेम संबंध का विवाह में परिणीत होना इस बात को दर्शाता हैं कि प्रेमी प्रमिका, एक-दूसरे से भावनात्मक रूप से इतना जुड़े हैं कि जीवन भर साथ रहना चाहते हैं।

सर्वविदित है कि हिन्दू संस्कृति में जिन 16 संस्कारों का वर्णन किया है उनमें से विवाह एक महत्त्वपूर्ण संस्कार है। जीवन के विकास, उसमें, सरलता और सदृष्टि को नये आयाम देने के लिए विवाह परम आवश्यक प्रक्रिया है। इस सच्चाई को नकारा नहीं जा सकता है। प्रेम और विवाह आदर्श स्थितियों में वंदनीय, आनंददायक और प्रफुल्लता देने वाला है।

वर्तमान आधुनिक परिवेश, खुला वातावरण एवं इंटरनेट संस्कृति के कारण हमारी युवा पीढ़ी अपने लक्ष्यों से भटक रही है। बिना सोच विचार किए गए प्रेम-विवाह शीघ्र ही मन मुटाव के चलते तलाक तक पहुँच जाते हैं, इंटरनेट के अलावा टी.वी. धारावाहिकों एवं फिल्मों की देखादेखी युवक-युवती एक दूसरे को आकर्षित करने का प्रयास करते हैं।

रोज डे, वेलेन्टाईन डे, जैसे अवसर पर इस कार्य को बढ़ावा देते हैं। प्यार-मोहब्बत करें, लेकिन सोच समझकर अवसाद का शिकार होने, आत्महत्या से बचने या बदनामी से बचने हेतु दिल लगाने से पूर्व अपने साथी से अपने गुण-विचार ठीक प्रकार मिला लें ताकि भविष्य में पछताना ना पड़ें। सोच समझ कर निर्णय लें।

ग्रहों के कारण व्यक्ति प्रेम करता है, और इन्हीं ग्रहों के प्रभाव से दिल भी टूटते हैं। ज्योतिष ग्रंथों में प्रेम-विवाह के योगों के बारे में स्पष्ट वर्णन नहीं मिलता है, परन्तु जीवन-साथी के बारे में अपने समान कुल, जाति, वर्ण या अपने से अन्य या निम्न स्तरीय का विस्तृत विवरण है, कोई भी स्त्री-पुरूष अपने उच्च/नीच स्तर में तभी विवाह करेगा जब वे दोनों प्रेम करते होंगे।

आज की पढ़ी-लिखी और घोर भौतिकवादी युवापीढ़ी प्रेम-विवाह की ओर आकर्षित हो रही है। कई बार प्रेम एक-दूसरे की देखा देखी या फैशन के तौर पर पर भी होता है किन्तु जीवनपर्यन्त निभ नहीं पाता।ग्रह-अनुकूल नहीं होने के कारण ऐसी स्थिति बनती हैं। शास्त्रों में प्रेम-विवाह को गंधर्व विवाह के नाम से जाना जाता है।

किसी युवक-युवती के मध्य प्रेम की जो भावना पैदा होती है, वह सब उनके ग्रहों का प्रभाव ही होता है, जो कमाल दिखाता है। ग्रह हमारी मनोदशा, पसंद, नापसंद और रूचियों को तय करते हैं, और बदलते भी हैं। वर्तमान प्रेम विवाह, बहुत हद तक गंधर्व विवाह का ही परिवर्तित रूप है।

प्रेम विवाह के कुछ मुख्य योगः-
1. लग्नेश का पंचम से संबंध हो और जन्मपत्रिका में पंचमेश सप्तमेश का किसी भी रूप में संबंध हो। शुक्र, मंगल की युति, शुक्र की मंगल की राशि में स्थिति, मंगल की शुक्र की राशि में स्थिति और लग्न त्रिकोण का संबंध प्रेम संबंधों का सूचक है। पंचम या सप्तम भाव में शुक्र सप्तमेश या पंचमेश के साथ हो।

2. किसी की जन्मपत्रिका में लग्न, पंचम, सप्तम भाव व इनके स्वामियों और शुक्र तथा चन्द्रमा जातक के वैवाहिक जीवन व प्रेम संबंधों को समान रूप से प्रभावित करते हैं लग्न या लग्नेश का सप्तम और सप्तमेश का पंचम भाव व पंचमेश से किसी भी रूप में संबंध प्रेम संबंध की सूचना देता है। यह संबंध सफल होगा अथवा नहीं इसकी सूचना ग्रह योगों की शुभ-अशुभ स्थिति देती है।

3. यदि सप्तमेश लग्नेश से कमजोर हो या यदि सप्तमेश अस्त हो तो अथवा जिस राशि में हो या नवांश में नीच राशि हो तो जातक का विवाह अपने से निम्न कुल में होता है। इसके विपरीत लग्न से सप्तमेश बली हो, शुभ नवांश में हो तो जीवन-साथी उच्चकुल का होता है।

4. पंचमेश सप्तम भाव में हो अथवा लग्नेश और पंचमेश भाव के स्वामी के साथ लग्न में स्थित हो। सप्तमेश पंचम भाव में हो और लग्न से संबंध बना रहा हो। पंचमेश सप्तम भाव में हो उसका संबंध लग्नेश से हो। पंचमेश सप्तम में हो और सप्तमेश पंचम में हो। सप्तमेश लग्न में और लग्नेश सप्तम में हो, साथ ही पंचम भाव के स्वामी से दृष्टि संबंध हो तो भी प्रेम संबंध का योग बनता है।

5. पंचम में मंगल भी प्रेम-विवाह करवाता है। यदि राहु पंचम या सप्तम में हो तो विवाह की संभावना होती है। सप्तम भाव में यदि मेष राशि में मंगल हो तो प्रेम विवाह होता है। सप्तमेश और पंचमेश एक-दूसरे के नक्षत्र पर हों तो भी प्रेम विवाह का योग बनता है। शुक्र व गुरु दोनों विवाह के कारक है। यदि यह एक-दूसरे को देखें तब भी प्रेम विवाह होता है।

6. पंचमेश तथा सप्तमेश कहीं भी, किसी भी तरह से द्वादशेष से संबंध बनाएं। लग्नेश या सप्तमेश का आपस में स्थान परिवर्तन अथवा आपस में युति होना अथवा दृष्टि संबंध।

7. दाराकारक और पुत्रकारक की युति भी प्रेम-विवाह कराती है। पंचमेश और दाराकारक का संबंध भी प्रेम-विवाह करवाता है। (जैमिनी सुत्रानुसार)

8. सप्तमेश स्वग्रही से, लग्न में राहु हो, शनि और केतु 7वें स्थान में हों, एकादश स्थान पापग्रहों के प्रभाव में बिल्कुल ना हो, शुक्र लग्न में लग्नेश के साथ, मंगल सप्तम भाव में हो, सप्तमेश के साथ, चन्द्रमा लग्न में लग्नेश के साथ हो।

9. अन्तर्जातीय विवाह योग- कर्क लग्न हो, सप्तम में चन्द्रमा पर शनि की दृष्टि हो, नवम भाव, सप्तम भाव तथा नवमेश होकर बृहस्पति का पाप ग्रहों से संबंध हो, कर्क लग्न में शनि होने पर अन्तर्जातीय विवाह होता है।

प्रेम विवाह असफल रहने/दिल टूटने के कारणः-

1. शुक्र व मंगल की स्थिति व प्रभाव प्रेम संबंधों को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। यदि किसी जातक की कुण्डली में सभी अनुकूल स्थितियां होते हुए भी शुक्र की स्थिति अनुकूल नहीं हो तो प्रेम संबंध टूटकर दिल टूटने की घटना होती है।

2. सप्तम भाव या सप्तमेश का पाप पीड़ित होना, पाप योग में होना, वह प्रेम विवाह की सफलता पर प्रश्न लगाता है। पंचमेश व सप्तमेश दोनों की स्थिति इस प्रकार हो कि उनका सप्तम-पंचम से कोई दृष्टि संबंध न हो तो प्रेम की असफलता दृष्टिगत होती है।

3. शुक्र का सूर्य के नक्षत्र में होना और उस पर चन्द्रमा का प्रभाव होने की स्थिति में प्रेम संबंध होने के उपरान्त या परिस्थितिवश विवाह हो जाने पर भी सफलता नहीं मिलती। शुक्र का सूर्य-चन्द्रमा के मध्य परिस्थितिवश विवाह हो जाने पर भी सफलता नहीं मिलती। शुक्र का सूर्य-चन्द्रमा के मध्य में होना असफल प्रेम का कारण हैं।

4. पंचम व सप्तम भाव के स्वामी ग्रह यदि धीमी गति के ग्रह हों तो प्रेम संबंधों का योग होने पर चिर स्थायी प्रेम की अनुभूति दर्शाता हैं। इस प्रकार के जातक जीवन भर प्रेम प्रसंगों को नहीं भूलते चाहे वे सफल हो या असफल।

प्रेम विवाह को मजबूत करने के उपायः-
1. शुक्र देव की पूजा करें।
2. पंचमेश व सप्तमेश की पूजा करें।
3. पंचमेश का रत्न धारण करें।
4. ब्लयू टोपाज- सुखद दामपत्य एवं वशीकरण हेतु।
5. चन्द्रमणी- प्रेम प्रसंग मे सफलता हेतु।
प्रेम विवाह के लिए जन्मकुण्डली के पहले, पांचवे, सप्तम भाव के साथ-साथ 12वें भाव को भी देखें क्योंकि विवाह के लिए 12वां भाव भी देखा जाता है। यह भाव शय्या सुख का भी है। इन भावों के साथ-साथ इन भावों के स्वामियों की स्थिति का पता करना होता है। यदि इन भावों के स्वामियों का संबंध किसी भी रूप से अपने भावों से बना रहा हो तो निश्चित रूप से जातक प्रेम विवाह करता है।

अन्तरजातीय विवाह के मामले में शनि की मुख्य भूमिका होती है। यदि कुण्डली में शनि का संबंध किसी भी रूप में प्रेम-विवाह कराने वाले भावेशों के भाव से हो जातक अन्तरजातीय विवाह करेगा। जीवन-साथी का संबंध 7वें भाव से होता है। जबकि पंचम भाव को संतान, उदर एवं बुद्धि का भाव माना गया है लेकिन यह भाव प्रेम को भी दर्शाता है। प्रेम विवाह के मामलों में यह भाव विशेष भूमिका दर्शाता है।

प्रेम संबंध का परिणाम विवाह होगा या नहीं, इस प्रकार की स्थिति में ज्योतिष का आश्रय लेकर काफी हद तक बचा जा सकता है। दिल लगाने से पूर्व या टूटने की स्थिति ना आए इस हेतु प्रेमी-प्रेमिका को अपनी जन्मपत्रिका के ग्रहों की स्थिति किसी योग्य ज्योतिषी से अवश्य पूछ लेनी चाहिए कि उनके जीवन में प्रेम की घटना होगी या नहीं। प्रेम ईश्वर का वरदान हैं। प्रेम करें अवश्य लेकिन सोच समझ कर।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————-

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।