कैरियर

कैरियर अर्थात् आजीविका के साधन :-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant)

Telephonic Astrological Appointment

जिस कैरियर में आप किस्मत आजमाना चाहते हैं, या जिस मंजिल को पाना चाहते हैं, आवश्यक नहीं वही आप के लिये सही हो, दुनिया में बहुत कम लोग ही ऐसे होते हैं, जो अपनी मनचाही मंजिल पा लेते हैं। बाकी लोगों को लाख कोशिश के बाद भी वह मंजिल नहीं मिलती। आखिर क्यों? इसका जवाब ज्योतिष शास्त्र में छिपा हैं। आपकी कुंडली के ग्रह यह बताते हैं कि आप किस क्षेत्र में उन्नति करेंगे ? और आपका भविष्य का कैरियर क्या होगा। कुंडली केवल आपका भविष्य ही नहीं बताती बल्कि आपका कार्यक्षेत्र भी बतलाती है, यदि कार्यक्षेत्र पहले से पता लग जाये तो उसी दिशा में प्रयास किया जा सकता है। कैरियर के विषय में सबसे अधिक महत्त्व कुंडली के दशम भाव को दिया जाता है। सभी ग्रंथ एकमत है कि आजीविका का विचार लग्न, चन्द्र और सूर्य में से जो बलवान हो, उससे दशम भाव में स्थित ग्रह के कारकत्व के अनुसार करना चाहिए। यदि दशम भाव में कोई ग्रह न बैठा हो तो, ऐसी स्थिति में दशमेश जिस ग्रह के नवांश में हो, उस ग्रह के अनुसार कार्यक्षेत्र का विचार करना चाहिए।

व्यावहारिक तौर पर देखने में आया है कि द्वितीय या एकादश भाव में यदि बलवान ग्रह बैठा है तो जातक को आजीविका क्षेत्र में सफल बनाने में अपनी भूमिका अदा करते हैं। सही व्यवसाय का चयन ही उज्ज्वल भविष्य का मानक होता है जो लोग अपने अनुकूल व्यवसाय का चयन नहीं कर पाते हैं, वो जातक इस लेख के सार को समझकर सही व्यवसाय का श्रीगणेश कर सकते हैं। सही समय पर सही फैसला ही सफलता का मूल मंत्र है। ग्रहों के आधार पर स्थिर कैरियर का निर्धारण करना वर्तमान युग के युवा वर्ग के लिए एक समस्या बनी हुई है। वैसे तो व्यवसाय के अनेक साधन हैं, यदि जातक के माता-पिता छात्र जीवन में ही उसकी जन्मपत्रिका एवं हाथ का अध्ययन कर उसके भावी व्यवसाय अथवा नौकरी से संबंधित तथ्यों का मनन-चिंतन कर उसे उसी के अनुकूल शिक्षा दिलवाते हैं तो, वह भविष्य में अधिक तीव्र गति से सही दिशा में सार्थक विकास कर समाज और परिवार का कल्याण कर सकता है।

विद्या के महत्त्व को स्पष्ट करते हुए विद्वानों ने चतुर्थ और पंचम भाव को भी अत्याधिक महत्त्व दिया है, जिसमें द्वितीय भाव वाक्पटुता या वाणी की क्षमता को इंगित करता है। उच्च योगों के रहने से ही जातक शैक्षणिक क्षेत्र में आगे हो सकता है। लेकिन यदि इन योगों का अभाव हो तो शिक्षा में बाधा से रू-ब-रू होना अवश्यंभावी है। चतुर्थ स्थान उच्च शिक्षा और सुख को व्यक्त करता है। पंचम भाव का संबंध बुद्धि से है। इनके कारक ग्रह भी अनुकूल स्थिति में होने चाहिए द्वितीय भाव का कारक बृहस्पति है, चतुर्थ भाव का कारक चन्द्रमा और बुध हैं। पंचम का कारक भी बृहस्पति ग्रह है, द्वितीय भाव और द्वितीयेश यदि शुभ स्थिति में हों तो, जातक उच्च शिक्षा प्राप्त करता है। यदि अष्टम में पाप ग्रह पड़ें तो, विदेश में उच्च शिक्षा प्राप्त करने का योग बनता है। महर्षि जैमिनी ने यह भी सिद्धांत प्रतिपादित किया है कि द्वितीय और चतुर्थ की अनुकूल स्थिति जातक के विद्या प्राप्ति में आने वाली समस्त बाधाओं का शमन करती है। पंचम भाव शिक्षा से अधिक बुद्धि का स्थान है।

यदि द्वितीय भाव शक्तिहीन हो, लेकिन पंचम शुभ स्थिति में होने से कम शिक्षित व्यक्ति भी उन्नत मस्तिष्क का धनी होता है। उसके वार्तालाप के आधार पर उसकी शिक्षा का आंकलन करना गलत सिद्ध होता है।

पंचम और बृहस्पति व्यावहारिक शिक्षा में आनेवाली बाधाओं को दूर करने में सक्षम होता है। यदि द्वितीयेश और गुरु एक दूसरे से केन्द्र त्रिकोण में हों तो, अच्छी शिक्षा का संकेत हैं। शिक्षा समाप्ति के पहले कैरियर की चिन्ता सबको लगी रहती है। प्रतिदिन मेरे पास अस्थिर कैरियर को लेकर जातक आते रहते हैं। उसकी प्रमुख समस्या होती है कैरियर कैसा हो?
मैं इस लेख के माध्यम से युवा वर्ग की उन सभी समस्याओं का निदान दे रहा हूं। आप भी Telephonic Astrological Appointment द्वारा सलाह ले सकते हैं।

वस्तुत: जन्मकुंडली जातक के भावी जीवन का आईना है। इसकी सार्थकता तभी संभव है, जब हम इससे समुचित लाभ ले सकें। इसके द्वारा ऐसे कैरियर का चयन करें जिससे अर्थ लाभ ही नहीं बल्कि वह व्यवसाय पीढ़ी दर पीढ़ी उन्नति करे, शिखर पर अपना नाम रोशन करे। सेठ धीरू भाई अंबानी इसका उदाहरण हैं। नौकरी करें या व्यवसाय? स्थाई कैरियर कुंडली के ग्रहों के आधार पर चयन किया जाना चाहिए।

जन्मकुंडली के लग्न, दशम भाव, एकादश भाव, सप्तमभाव आदि के सर्वाधिक प्रबल भावेश अथवा उक्त भावों में स्थित ग्रह ही जातक के कैरियर का संकेत देते हैं। विभिन्न ग्रह किस कैरियर की ओर संकेत दे रहे हैं, वह प्रस्तुत लेख की विषय-वस्तु है। ग्रह और उनसे संबंधित कैरियर क्षेत्र निम्नलिखित है-

सूर्य:-
1. सरकारी सेवा विशेषरूप से प्रशासनिक सेवा।

2. विद्युत एवं उससे संबंधित संस्थानों में नौकरी अथवा विद्युत एवं उससे संबंधित वस्तुओं का व्यापार।

3. न्यूरोलाॅजी, नाक, कान, गला, हीमोटोलाॅजी, नेत्र चिकित्सक, अस्थिरोग, शल्य चिकित्सा इत्यादि विषयों चिकित्सक अथवा इन चिकित्साओं से संबंधित वस्तुओं का व्यापार, अस्पताल में नौकरी।

4. दवाइयों का व्यापार अथवा फार्मास्यूटिकल कंपनी में नौकरी।

5. जवाहरात का व्यापार अथवा जवाहरात से संबंधित संस्थान में नौकरी।

6. प्रयोगशाला वैज्ञानिक संस्थान, अनुसंधान केन्द्र एवं अविष्कार से संबंधित जलाधिपूर्ति विभाग, सिचाई विभाग इत्यादि में नौकरी।

7. नेतृत्व और संगठनकर्ता।

8. समुद्री व्यापार, जहाजरानी, जलापूर्ति विभाग, सिचाई विभाग इत्यादि में नौकरी।

9. तेल एवं गैस कंपनी में नौकरी अथवा इनका व्यापार।

10. राजनीति और कूटनीतिक राजनयिक।

11. सरकारी कार्यों के ठेकेदार।

चन्द्रमा:-
1. पशुपालन, पशुपालन से संबंधित संस्थानों में नौकरी, पशुओं एवं पशुपालन से संबंधित वस्तुओं का व्यापार, डेयरी, दूध, दही, घी, पनीर आदि का व्यापार अथवा डेयरी में नौकरी।

2. कृषि कार्य, खेती में काम आनेवाली वस्तुओं का व्यापार, भूमि से संबंधित अन्य कार्य, कृषि एवं सिंचाई से संबंधित विभागों और संस्थानों में नौकरी।

3. चाँदी के आभूषणों, बर्तन एवं वस्तुओं का व्यापार अथवा ऐसे व्यापारिक संस्थानों में नौकरी।

4. होटल, रेस्टोरेंट इत्यादि का व्यापार तथा इनमें नौकरी।

5. पर्यटन, ट्रेवल एजेन्सी में नौकरी।

6. लेखन, संपादन, प्रकाशन एवं पत्रकारिता अथवा इनसें संबंधित संस्थानों में नौकरी।

7. बर्फ की फैक्ट्री, चीनी की मिल, कागज की मिल, तेल मिल अथवा इनका व्यापार और इनमें नौकरी।

8. तरल एवं रसदार पदार्थों का निर्माण और व्यापार इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

9. एजेन्ट जैसे अन्य कार्य।

10. रत्न, उपरत्न एवं मणियों का व्यापार, निर्माण कार्य अथवा इनसे संबंधित अन्य कार्य अथवा ऐसे कार्य करने वाले संस्थानों में नौकरी।

11. नृत्य, संगीत, अभिनय, फिल्म, चित्रकला, कविता, कहानी इत्यादि से संबंधित लेखन अथवा इन सबसे संबंधित अन्य कार्य अथवा इनसे संबंधित वस्तुओं का निर्माण और व्यापार अथवा इस प्रकार के संस्थानों में नौकरी।

12. मनोचिकित्सा, हृदयरोग, यूरोलाॅजी, न्यूरोलाॅजी, हीमोटोलाॅजी नेत्र चिकित्सा इत्यादि विषयों में चिकित्सक अथवा इनसे संबंधित वस्तुओं का निर्माण और व्यापार तथा संबंधित संस्थानों में नौकरी।

13. आर्किटेक्चर एवं इससे संबंधित अन्य कार्य।

14. जहाजरानी तथा समुद्री जहाजों से व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

मंगल:
1. सेना और पुलिस विभाग में नौकरी अथवा इन जैसे अन्य कार्य।

2. ज्योतिष, धर्म, दर्शन, अध्यात्मक एवं अन्य पराविद्याओं से संबंधित व्यवसाय।

3. नेतृत्व एवं संगठनकर्ता के कार्य।

4. ताँबा आदि धातुओं एवं इनसे बनने वाले उपकरणों का उत्पादन और व्यापार।

5. खान, रेल एवं वन विभाग में नौकरी अथवा इन विषयों से संबंधित कार्य।

6. राजनीति एवं कूटनीति तथा विदेशी विभाग में नौकरी।

7. वकील, कानून एवं न्याय से संबंधित कार्य।

8. अग्नि से संबंधित कार्य।

9. केमिकल, मैकेनिकल, माईंस, इलेक्ट्राॅनिक, एग्रीकल्चर आदि विषयों में इंजीनियरिींग अथवा निपुणता।

10. त्वचा रोग, उदर रोग, रक्त विकार, नेत्र रोग, विषजनित रोग, यूरोलाॅजी, नाक-कान-गले से संबंधित अन्य कार्य।

11. औषधि निर्माण, विक्रेता अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

बुध:-
1. लेखन, संपादन, प्रकाशन, पुस्तक विक्रेता, लाइब्रेरी, प्रिटिंग प्रेस, पत्रकारिता इत्यादि से संबंधित कार्य तथा इस प्रकार के कार्यो को करने वाले संस्थानों में नौकरी।

2. दूरसंचार विभाग में नौकरी अथवा तार, कोरियर, डाक, टेलीफोन, रेडियो, दूरदर्शन, टी.वी. मोबाइल इत्यादि के निर्माण, विक्रय एवं अन्य कार्यों से संबंधित संस्थाओं का संचालन अथवा नौकरी।

3. आर्थिक विभाग, एकाउंटस विभाग, वाणिज्य विभाग, बीमा विभाग, बैंक अथवा फाइनेंस कंपनी में नौकरी, सी.ए. अथवा इनसे संबंधित कार्य।

4. ज्योतिष हस्तरेखा एवं पराविद्याओं से संबंधित कार्य।

5. व्यापार और राजनीति।

6. विज्ञान, प्रयोगशाला, अनुसंधान एवं अविष्कार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

7. त्वचा रोग, नाक-कान-गला रोग, श्वास संबंधी रोग (अस्थमा, टी.बी. आदि), न्यूरोलाॅजी आदि से संबंधित चिकित्सक अथवा चिकित्सा के अन्य कार्य।

8. दूरसंचार सिविल, आर्किटेक्चर आदि में इंजीनियरिंग अथवा इस प्रकार के अन्य वास्तु के कार्य।

9. ट्रेवल एजेन्सी, ट्रांसपोर्ट कंपनी आदि का संचालन अथवा इस प्रकार के संस्थानों में नौकरी, चालक और परिचालक बनता है।

गुरु:-
1. शिक्षण संस्थानों का संचालन, व्याख्याता, शिक्षा से संबंधित अन्य संस्थान, शिक्षा एवं शिक्षा से संबंधित संस्थानों में नौकरी।

2. दार्शनिक, कथावाचक, धार्मिक उपदेशक अथवा इनसे संबंधित अन्य कार्य।

3. वकील, न्यायाधीश, न्यायालयों एवं न्याय विभाग में नौकरी, न्यायालयों में प्रयोग की जाने वाली वस्तुओं का व्यापार तथा कानून एवं न्याय से संबंधित अन्य कार्य।

4. पुलिस विभाग अथवा संबंध विभागों में नौकरी और इनसे संबंधित अन्य कार्य।

5. बैंक अथवा फाइनेंस कंपनी का संचालन, ऐसे संस्थानों में नौकरी और ब्याज पर धन देना।

6. मैनजेजर अथवा मैनजमेंट से संबंधित अन्य कार्य।

7. सेल्समैन, एजेन्ट और कमीशन पर आधारित अन्य कार्य तथा व्यापार।

8. विज्ञापन एजेन्सी, विज्ञापन निर्माण, माॅडलिंग अथवा अन्य कार्य।

10. मंत्री, राजदूत, राजनेता और कार्य।

11. जलीय यात्रा अथवा व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

12. विज्ञान, प्रयोगशाला, अनुसंधान एवं अविष्कार अथवा इनसे संबंधित कार्यों में संलग्नता।

13. कृषि, सिंचाई, आॅटोमोबाइल, टेक्सटाइल्स आदि विषयों में इंजीनियर या इंजीनियर जैसे अन्य कार्य।

14. त्वचा, रक्त, उदर, गुप्तरोग, आनुवांशिकी, गायनोकोलाॅजी, नाक-कान-गला, हृदय रोग से संबंधित अथवा दवाइयां और उपकरण के विक्रेता भी हो सकते हैं।

शुक्र:-
1. विलासितापूर्ण वस्तुओं का उत्पादन, व्यापार अथवा ऐसे कार्य करने वाले संस्थानों में नौकरी।

2. आभूषण, वस्त्र, वस्त्र डिजाइनर, माॅडलिंग, सौन्दर्य प्रसाधन, इत्र और अन्य सुगंधित वस्तुएं, घड़ियां, पुष्य, पेंटिंग जैसी वस्तुओं का उत्पादन और विक्रय अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

3. पर्यटन विभाग में नौकरी तथा होटल, रेस्टोरेंट आदि का संचालन अथवा इनमें नौकरी।

4. नृत्य, संगीत, फोटोग्राफी, चित्रकला, फिल्म, अभिनय इत्यादि क्षेत्रों में निपुणता अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी अथवा इनमें प्रयुक्त होने वाली वस्तुओं का उत्पादन और व्यापार।

5. इंटीरियर डेकोरेशन, टेन्ट हाउस, लाइट डेकोरेशन इत्यादि से संबंधित कार्य।

6. लेखन एवं प्रकाशन से संबंधित व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थान में नौकरी।

7. विदेश व्यापार, विदेशी बैंकों में विदेशी मुद्रा विनिमय में कार्य।

8. टेक्सटाइल्स, फूड प्रोसेसिंग, आर्किटेक्चर आदि विषयों में इंजीनियरिंग या विशेषज्ञता।

9. गायनोकोलाॅजी, आनुवंशिकी, रक्त एवं गुप्तरोग, नाक-कान-गला रोग, फेफड़े एवं श्वास नली से संबंधित रोग, नेत्र रोग, यूरोलाॅजी उदर रोग आदि से संबंधित चिकित्सक अथवा ऐसी चिकित्सा से संबंधित अन्य कार्य।

10. राजनीति एवं न्याय से संबंधित क्षेत्र।

11. दर्शन, अध्यात्म एवं अन्य गूढ़ विज्ञान।

12. विज्ञान, प्रयोगशाला, आविष्कार एवं अनुसंधान तथा इनसे संबंधित कार्य तथा तांत्रिक कार्य कर भी अपना नाम रोशन कर सकता है।

शनि:-
1. मशीनों एवं लौह उपकरणों का निर्माण अथवा व्यापार का कार्य अथवा इस प्रकार के कार्यों संलग्न संस्थाओं में नौकरी।

2. कोयला और लकड़ी से संबंधित व्यायसाय।

3. न्याय विभाग अथवा न्यायालयों में नौकरी, न्यायाधीश एवं वकील जैसे व्यवसाय तथा न्यायालय से संबंधित अन्य कार्य।

4. पुलिस विभाग एवं जेल विभाग तथा अन्य सम्बद्ध विभागों में नौकरी अथवा इनसे संबंधित निजी कार्य।

5. लोहे की वस्तुएं, फर्नीचर, घड़ी, खेलकूद के समान, कृषि से संबंधित सामान आदि का उत्पादन एवं व्यवसाय अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

6. स्थानीय स्वायत संस्थानों में नौकरी अथवा अन्य कोई पद निर्वाचन से प्राप्त करना।

7. खान-विभाग, भूगर्भ विभाग आदि में नौकरी खनिजों का व्यापार आदि।

8. खेलकूद एवं शारीरिक परिश्रम मजदूरी से संबंधित कार्य।

9. ज्योतिष, धर्म, अध्यात्म एवं अन्य पराविद्याओं से संबंधित कार्य।

10. मुर्गी पालन, बागवानी जैसे कार्य।

11. विभिन्न प्रकार की ठेकेदारी।

12. संगीत एवं शिक्षण से संबंधित कार्य।

13. मैकेनिकल, माईंस, सिविल इत्यादि विषयों में इंजीनियरिंग अथवा निपुणता।

राहु:-
1. ऐसे व्यवसाय जिनमें उतार-चढ़ाव अधिक आते है। जैसे शेयर, सट्टा, लाॅटरी, राजनीति आदि।

2. यात्रा से संबंधित नौकरी या व्यवसाय।

3. कम्प्यूटर एप्लीकेशन से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

4. इलेक्ट्राॅनिक्स से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

5. ओकल्ट साइंसेज अध्यात्म आदि से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

6. अवैध अथवा अनैतिक प्रकार के व्यवसाय।

केतु:-
1. ऐसे व्यवसाय जिनमें उतार-चढ़ाव अधिक आते हैं। शेयर, सट्टा लाॅटरी, राजनीति आदि।

2. अवैध अथवा अनैतिक प्रकार के व्यवसाय।

राशियों से कैरियर :-

1. मेष- लोहा, चंदन, गोंद, औषधि, लाल रंग की वस्तुएं, सोना, वस्त्र, कम्बल आदि।

2. वृष- घी, सफेद रंग की वस्तुएं, दूध, जौ, नमक, बैल, चाँदी आदि।

3. मिथुन- चावल, बिनौला, जूट, उत्तरी राजस्थान में उत्पन्न बाजरा और गंवार, मोंठ कस्तूरी, हल्दी, समाचार पत्र, प्लास्टिक या रबर जनित वस्तुएं, मूंगफली आदि।

4. कर्क- प्याज, चाँदी, तेजपत्ता, मछली, पानी से उत्पन्न वस्तुएं, मोती शंख, पानी की बोतलें, सोडा, पेय पदार्थ, शराब, बीयर, केला, कमल के फूल आदि।

5. सिंह- चमड़ा, चना, गुड़, एंटीबाॅयटिक औषधियां, रेशेदार पदार्थ आदि।

6. कन्या- मकर, ग्वार, हरे रंग के सर्व पदार्थ, दूब लगाना, पुस्तकें असली मोंठ, अधोवस्त्र, गर्भनिरोधक आदि।

7. तुला- फिल्म रोल, सरसों, प्रसाधन, रूई, गेहूंँ, विलासिता की वस्तुएं, अरहर, केसर और रंग आदि।

8. वृश्चिक- तिल, पालतू पशु, हल्के हथियार, चीनी भवनादि खरीद-फरोख्त, मिठाई, कच्चा गन्ना, बीज आदि।

9. धनु- जल्दी खराब हो जाने वाली वस्तुएं फलों के रस सफेद खाद्यान्न, आलू लचीले पदार्थ, स्टेशनरी मोम आदि।

10. मकर- शीशा, वृक्षों या पौधों की जड़ों से निर्मित द्रव्य, कांसी, मोटरयान या गतिशील वस्तुएं आदि।

11. कुम्भ- सभी काले रंग की वस्तुएं काले उड़द और तिल, छोटे-छोटे सिक्कों का लेन देन विद्युतीय उपकरण एवं स्पेयर पाटर््स फूलों की सजावट और बेचना कम्प्यूटर और फ्लोपी, पानी में घोल कर पीये जा सकने वाले मादक पदार्थ पुस्तक लेखन और प्रकाशन आदि ।

12. मीन- समुद्र से प्राप्त जैविक खाद्य पदार्थ, मछली, हथियार, तेल, मोती, पुखराज, चिकित्सा में काम आने वाले उपकरण, टैंट ओर सजावट आदि इस तरह से आप अपने ग्रहों के आधार पर व्यापार कर समृद्धि प्राप्त कर सकते है।

ज्योतिष शास्त्र हमारे जीवन की भावी योजनाओं के लिए प्रमाणिक विज्ञान (विद्या) है, अत: कैरियर सम्बंधित मार्गदर्शन भी बेहतर मिल सकता है।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

——————————————————-

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s