पितृदोष

क्या पित्तृश्राप ही पितृदोष का कारण है-

पित्तृश्राप,पितृदोष,श्राप,

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant)

Telephonic Astrological Appointment

जिस प्रकार चिकित्सा के क्षेत्र में कुछ रोग पीढ़ी-दर-पीढ़ी वंशानुसार होते हैं, उसी प्रकार पितृरी दोष भी वंशानुगत होता है। पूर्वजों के प्रति अवांछित कर्मों के फलस्वरूप पितृश्राप उनके वशंजों के जन्मांग में विद्यमान होता है। कई बार पित्तरों के श्राप के कारण पीढ़ी-दर-पीढ़ी यह श्राप पाँच-पाँच पीढ़ी तक चलता रहता है। श्राद्ध न होने के कारण भी पितृगणों का आक्रोश पितृश्राप के रूप में जन्मांग में विद्यामान होकर जातक को जीवन भर पीड़ित करता रहता है।
जिस प्रकार न्याय प्रणाली अनुसार पूर्वजों का ऋण उनके पुत्रों या वारिसों को अदा करना पड़ता है। उसी प्रकार पिछले जन्मों के अपने या पूर्वजों के दुष्ट और पाप कर्मों या अपने पिछले जन्मों के कर्मो का फल वंशजो को भोगना पड़ता है, जन्मकुंडली में यह दोष ही पितृदोष कहलाता है।

माना कि किसी व्यक्ति विशेष या परिवार में कई पीढ़ियों तक दुखःदायी अवस्थाओं से सघंर्ष करना या अकाल मृत्यु, एकाएक व्यापार में हानि आदि जैसी अन्य घटनाओं को ज्योतिष के परिप्रेक्ष्य में कई कारणों द्वारा समझाया जा सकता है। इन्हीं कारणों में से एक कारण है ‘श्राप’ अथवा पितृश्राप का विश्लेषण या इसके कुप्रभावों का निवारण का वर्णन कम ग्रन्थों में
मिलता है। वृहद पाराशर होरा शास्त्र में 14 प्रकार के श्रापों का वर्णन मिलता है। जिस में मुख्य है पितृश्राप,
प्रेतश्राप, ब्राह्मणश्राप, मातृश्राप, पत्नीश्राप, समुंद्रश्राप, गऊ हत्या श्राप, आदि-2, शास्त्रों में तो मालूम नहीं मगर 36 (छत्तीस) प्रकार के श्रापों को माना गया है। भृगु सूत्र में महर्षि मृगु के अनुसार यदि राहु किसी जातक के जन्मांक में पंचम भावस्थ हो, तो सर्प श्राप के कारण उसे पुत्र का आभाव रहता है। परन्तु राहु के अतिरिक्त अन्य ग्रहों का पंचम भाव से सम्बंध अपेक्षित है। इसी को सर्पश्राप कहते हैं। महर्षि मंत्रेश्वर के अनुसार पंचम भावस्थ राहु के संस्थित होने से प्रेत बाधा की प्रबल सम्भावना रहती है।

किसी श्राप का अशुभ प्रभाव वंश विशेष के लिए पितृदोष के रूप मैं प्रकट होकर अन्यान्य सुखों को आक्रांत और आंतकित करता है। इसलिये अकसर देखने में आता है कि, एक ही वंश के अनेक सदस्यों को परिवार में समान योग विद्यामान होता है। ‘कालसर्प योग’ भी एक प्रकार का पितृदोष ही है, जो कई पीढ़ियों तक व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करता रहता है! इस प्रकार के श्राप की मुक्ति हेतु अनेक परिहार शास्त्रोक्त हैं। जिनका गंभीरता से अनुसरण करना हितकर है। कम से कम तीन पीढ़ीयों तक श्राप का प्रभाव वंश विशेष को आंतकित और भयभीत करता है।

राहु के कारण उत्पन्न होने वाले अनेक प्रकार के श्राप हैं, जो व्यक्ति के जीवन की अनुकूलता, प्रतिकूलता में परिवर्तित करते है। राहु जैसे क्रूर ग्रह के कारण उपजने वाले श्राप के वास्तविक प्रभाव को पूर्ण रूप से समझना या समझ पाना तो सम्भव नहीं है। परन्तु कुछ निजी अनुभवों का उल्लेख हम यहाँ कर रहे हैं। फिर भी आवश्यकता होने पर आप मेरे 32 वर्षीय अनुभव का लाभ Telephonic Astrological Appointment द्वारा प्राप्त कर सकते हैं।

कुंडली में यदि राहु-शुक्र से संयुक्त होकर चतुर्थ भाव में हो तो परिवार की स्त्रियों को प्रेतबाधा या भूतबाधा व्याधि द्वारा कष्ट प्राप्त होता है। यहाँ प्रेतात्मा किसी नारी को अपना कर तरह-तरह के कष्ट पहुँचाती है।

चतुर्थ भावगत राहु और दशम भाव में मंगल का योग हो तो उस व्यक्ति के निवास स्थान को दोषयुक्त कर देता है, जहाँ पर निरन्तर हानि, बाधा, व्याधि, असफलता और चिन्ता जातक को व्याप्त रहते हैं। प्रेतबाधा की संभावना से घर के सारे वातावरण को, प्रसन्नता के, और उन्नति, समृद्धि को ग्रहण लग जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप संतति हानि अथवा धन हानि नारियों को बार-बार गर्भपात की स्थिति उत्पन्न होती है। उल्लेखनीय है कि घर में प्रेतबाधा का कारण पूर्व जन्म में मंगल दोष या यूँ कहें कि मंगल श्राप के कारण उत्पन्न होता है। जिसे जन्मांग में पितृदोष के रूप में देखा जा सकता है।

किसी भी श्राप को भलि-भाँति जानना आवश्यक है, यदि राहु का सम्बंध द्वितीय या चतुर्थ भाव से हो रहा हो या उन भावों के स्वामियों से राहु की युति हो तो कुटुम्ब में एक प्रकार का कष्ट दृष्टिगत होता है। चतुर्थ भाव के अंतर्गत पति-पत्नी और संतति को दर्शाता है। जबकि द्वितीय भाव माता-पिता, भाई-बहन, दादा-दादी, पत्नी संतान मौसा-मौसी, बुआ-फूफा, चाचा-चाची, ताऊ-ताई, मामा-मामी आदि आते हैं। द्वितीय भाव पर राहु के प्रभाव के कारण परिवार में किसी की मृत्युश्राप के कारण या प्रेतबाधा का होना संभव है। मृतक की सम्पत्ति और धन उस व्यक्ति को प्राप्त होता है। जिसके जन्मांग में द्वितीय भाव शापित होगा, उस व्यक्ति का विनाश भी इसी प्रकार की धन सम्पत्ति प्राप्त करने से होता है। सम्पत्ति का कोई सुख प्राप्त नहीं होता।

चतुर्थ भाव में राहु की स्थिति जातक को हमेशा ही आशान्त और चिंताग्रस्त रखती है। यदि यहाँ राहु के साथ शनि, सूर्य अथवा चन्द्रमा भी चतुर्थ भावगत हो तो श्राप के प्रभाव में वृद्धि होती है तथा ऐसे व्यक्ति को कष्ट, दुख, अवरोध तथा असीमित वेदना प्रदान करता है।

जब राहु किसी भाव में उसके भावाधिपति से सयुंक्त हो, तो उस भाव से सम्बन्धित श्राप अधिक मात्रा में दृष्टिगत होता है। श्राप में वृद्धि का कारण यह है कि उस भाव को राहु आक्रांत करता है, साथ में उस भाव के स्वामी या कारक को भी अपनी युति द्वारा श्रापग्रस्त करता है। अतः श्राप के अशुभ प्रभाव का स्पष्ट विस्तार का आभास होता है।

चतुर्थ भाव में राहु और चंद्रमा की युति से परिवार से श्राप का प्रभाव अवश्य होता है। द्वितीय भाव में राहु और शुक्र की युति भी श्राप प्रदर्शित करती है क्योंकि चतुर्थ भाव चंद्रमा का है और द्वितीय भाव शुक्र का है, इसलिये श्राप का प्रभाव ज्यादातर नारियों पर ही पड़ता है। कष्ट जैसे बांझपन, सन्तति हीनता, वैधव्य या व्याधिग्रस्त रहने का कारण भी सम्भव है।

शांति के उपाय:-
ग्रहयोगवशेनैव नृणां ज्ञात्वाऽनपत्यताम्।
तछोषपरिहारार्थ नागपूजा समाचरेत्।।
स्वगृह्योक्तविधानेन प्रतिष्ठा कारयेत् सुधीः।
नागमूर्ति सुवर्णेन कृत्वा पूजां समाचरेत्।।
गो-भू-तिल-हिरण्यादि दद्याद् वित्तानुसारतः।
एवं कृते त, नागेन्द्रप्रसादात् वर्धते कुलम्।।

अनपत्यता का कारण यदि सर्प श्राप हो, तो अपनी सामर्थ्य के अनुसार नागदेव की स्वर्ण की मूर्ति बनाकर प्रतिष्ठा करके उनकी पूजा करनी चाहिये। तत्पश्चात् गाय, भूमि, तिल, स्वर्ण आदि का दान करें, तो शीघ्र ही नागराज की कृपा से पुत्र उत्पन्न होकर कुल की वृद्धि करता है।

पितृश्राप का शांति उपायः-
गया में श्राद्ध करना तथा यथाचित अधिक से अधिक ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिये अथवा कन्यादान और गोदान करना चाहिये। यदि अपनी कन्या नहीं है तो किसी अन्य कन्या का विवाह में कन्यादान करें, क्योंकि संतान हीनता का पूर्ण प्रभाव होने पर कन्या या पुत्र का अभाव होगा।

मातृश्राप का उपाय:-
सेतुस्नानं प्रकर्तव्यं गायत्री लक्षसंख्यक।

रौष्यमात्रं पयः पीत्वा ग्रहदान प्रयत्नतः।।
ब्राह्मणान् भोजयेतद्धदश्वत्थस्य व्रदक्षिणाम्।

कर्तव्यं भक्तिमुक्तेन चाष्टोत्तरसहस्त्रकम।।
एवं कृते महादेवि।

श्रापानमोक्षो भविष्यति, सुपुत्रं लभते पश्चात् कुल वृद्धिश्चजायेतं।।

अर्थात:- रामेश्वरम् में स्नान, एक लाख वार गायत्री जप, ग्रहों का दान, ब्राह्मण भोजन, 1008 बार पीपल की प्रदक्षिणा करने से श्राप की शांति होकर पुत्र प्राप्ति तथा कुल की वृद्धि होती है।

भ्रातृश्राप की शांति हेतु उपाय:-
भ्रातृश्रापविमोक्षार्थ वंशस्य श्रवणं हरेः।

चान्द्रायणं चरेत् पश्चात् कावेर्या विष्णु सन्निधौ।।
अश्वत्थस्थापनं कुर्यात् दश धने्श्च दापयेत्।

पत्नी हस्तेन पुत्रेच्छुर्भूमि दद्यात् फलान्विताम्।।
एवं यः कुरूते भक्त्या धर्मपल्या समन्वितः।
ध्रुवं तस्य भवेत् पुत्रः कुलवृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- हरिवंश पुराण को श्रवण करने से भ्रातृश्राप की शांति हो जाती है। नदी तट पर या शालिग्राम के सम्मुख चान्द्रायण व्रत करने से, पीपल वृक्ष का रोपण कर पूजन करने से भी भ्रातृ श्राप की परिशांति होती है। इसके अतिरिक्त दस गायों के दान करने से तथा पत्नी के हाथों भूमिदान कराने से इस श्राप से मुक्ति होती है।

मातुलश्राप हेतु:-
बायी कूपतऽगादि निर्माणं सेतु – बन्धनम्।

पुत्र वृद्धिर्भवेतस्य सम्पदवृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- उपरोक्त मातुलदोष शमनार्थ विष्णु की स्थापना करें। कुआँ तालाब बनवाएँ। पुल का निर्माण करवायें तो पुत्र की प्राप्ति और सम्पत्ति की भी वृद्धि होती है।

पत्नीश्राप हेतु:-
श्रापमुक्त्यै च कन्यायां सत्यां तद्दानमाचरेत्।

कन्याभावे च श्री विष्णोमूर्मि लक्ष्मी समन्विलाम्। दद्यात् स्वर्णमयी विप्र दशधेनुसमन्विताम्।।
शय्यां च भूषण वस्त्रं दम्पतिम्यां द्विजन्मनाम्।

धु्रवं तस्य भवेत पुत्रो भाग्य वृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- यदि कन्या हो जो कन्यादान करने से तथा अपनी सामर्थ्य के अनुसार सोने की लक्ष्मीनारायण की मूर्ति तथा बछडे सहित 10 गायों, शय्या, भूषण और वस्त्र आदि ब्राह्मण को दान करने से पुत्र की प्राप्ति होती है।

प्रेतश्राप हेतु:- गया में पिण्डदान करने तथा रूद्राभिषेक करने से प्रेतश्राप की शांति होती है ब्रह्मा की सोने की मूर्ति बनवाकर गाय, चाँदी का पात्र और नीलम दान करना चाहिये एवं यथा शक्ति ब्राह्मण भोजन करवाकर उन्हें दक्षिणा दें।

ज्योतिष शास्त्र हमारे जीवन की भावी योजनाओं तथा पूर्वजन्मकृत श्राप के निवारणार्थ प्रमाणिक विज्ञान (विद्या) है, अत: श्राप सम्बंधित मार्गदर्शन भी बेहतर मिल सकता है।

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant),

Telephonic Astrological Appointment

best online astrologer, best top astrologer in delhi, best top astrologer in india

परामर्श के लिए सम्पर्क सूत्र:- 09810143516, 09155669922

————————————————

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, shukracharya.com, astroguruji.in, rbdhawan.wordpress.com, gurujiketotke.com, vaidhyaraj.com

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s