कुंडली का फलकथन (कुछ सूत्र):-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant),

Telephonic Consultation, face to face Consultation, best top remedy

कुंडली का फलकथन करने से पूर्व इन ज्योतिषीय सूत्रों को ध्यान में रखकर फलादेश करना चाहिए :-

1. किसी भी ग्रह की महादशा में उसी ग्रह की अन्तर्दशा अनुकूल फल नहीं देती।

2. योगकारक ग्रह (केन्द्र और त्रकोण का स्वामी ग्रह) की महादशा में पापी या मारक (त्रिषडाय) ग्रह की अन्तर्दशा आने पर प्रारंभ में शुभ फल तथा उत्तरार्द्ध में अशुभ फल मिलता है।

3. अकारक ग्रह की महादशा में कारक ग्रह की अन्तर्दशा आने पर प्रारंभ में अशुभ तथा उत्तरार्द्ध में शुभ फल की प्राप्ति होती है।

4. भाग्य स्थान का स्वामी यदि भाग्य भाव में बैठा हो, और उस पर गुरु की दृष्टि हो तो, ऐसा व्यक्ति प्रबल भाग्यशाली माना जाता है।

5. लग्न का स्वामी सूर्य के साथ बैठकर विशेष अनुकूल रहता है।

6. सूर्य के समीप निम्न अंशों तक जाने पर ग्रह अस्त हो जाते हैं, (चन्द्र-12 अंश, मंगल-17 अंश, बुध-13 अंश, गुरु-11 अंश, शुक्र-9 अंश, शनि-15 अंश) फलस्वरूप ऐसे ग्रहों का फल शून्य होता है। अस्त ग्रह जिन भावों के अधिपति होते हैं, उन भावों का फल शून्य ही समझना चाहिए।

7. सूर्य उच्च का होकर यदि ग्यारहवें भाव में बैठा हो तो ऐसे व्यक्ति अत्यंत प्रभावशाली तथा पूर्ण प्रसिद्धि प्राप्त व्यक्तित्व वाले होते हैं।

8. सूर्य और चन्द्र को छोड़कर यदि कोई ग्रह अपनी राशि में बैठा हो तो, वह अपनी दूसरी राशि के प्रभाव को बहुत अधिक बढ़ा देता है।

9. किसी भी भाव में जो ग्रह बैठा है, इसकी अपेक्षा जो ग्रह उस भाव को देख रहा होता है, उसका प्रभाव ज़्यादा रहता है।

10. जिन भावों में शुभ ग्रह बैठे हों, या जिन भावों पर शुभ ग्रहों की दृष्टि हो तो, वे भाव शुभ फल देने में सहायक होते हैं।

11. यदि एक ग्रह दो भावों का अधिपति होता है तो, ऐसी स्थिति में वह ग्रह अपनी दशा में लग्न से गिनने पर उस ग्रह की जो राशि पहले आएगी उसका फल वह पहले प्रदान करेगा।

12. दो केन्द्रों का स्वामी ग्रह यदि त्रिकोण के स्वामी के साथ बैठा है तो, उसे केंद्रत्व दोष नहीं लगता, और वह शुभ फल देने में सहायक हो जाता है। सामान्य नियमों के अनुसार यदि कोई ग्रह दो केंद्र भावों का स्वामी होता है तो, वह अशुभ फल देने लग जाता है, चाहे वह जन्म-कुंडली में करक ग्रह ही क्यों न हो।

13. अपने भाव से केन्द्र व त्रिकोण में पड़ा हुआ ग्रह शुभ होता है।

14. केंद्र के स्वामी तथा त्रिकोण के स्वामी के बीच यदि संबंध हो तो, वे एक दूसरे की दशा में शुभ फल देते हैं। यदि संबंध न हो तो, एक की महादशा में जब दूसरे की अंतर्दशा आती है तो, अशुभ फल ही प्राप्त होता है।

15. वक्री होने पर ग्रह अधिक बलवान हो जाता है, तथा वह ग्रह जन्म-कुंडली में जिस भाव का स्वामी है, उस भाव को विशेष फल प्रदान करता है।

16. यदि भावाधिपति उच्च, मूल त्रिकोणी, स्वक्षेत्री अथवा मित्रक्षेत्री हो तो शुभ फल करता है।

17. यदि केन्द्र का स्वामी त्रिकोण में बैठा हो, या त्रिकोण केंद्र में हो तो, वह ग्रह अत्यन्त ही श्रेष्ठ फल देने में समर्थ होता है। जन्म-कुंडली में पहला, पाँचवा तथा नवाँ स्थान त्रिकोण स्थान कहलाते हैं। परन्तु कोई ग्रह त्रिकोण में बैठकर केंद्र के स्वामी के साथ संबंध स्थापित करता है तो, वह न्यून योगकारक ही माना जाता है।

18. त्रिक स्थान (कुंडली के 6, 8, 12वें भाव को त्रिक स्थान कहते हैं) में यदि शुभ ग्रह बैठे हों तो, त्रिक स्थान को शुभ फल देते हैं परन्तु स्वयं दूषित हो जाते हैं, और अपनी शुभता खो देते हैं।

19. यदि त्रिक स्थान में पाप ग्रह बैठे हों तो, त्रिक भावों को पापयुक्त बना देते हैं, पर वे ग्रह स्वयं शुभ रहते हैं, और अपनी दशा में शुभ फल देते हैं।

19. त्रिक स्थान के स्वामी यदि किसी भी या अन्य त्रिक स्थान में बैठे हों तो, वे त्रिक स्वामी अपनी दशा या अंतरदशा में शुभ रहते हैं।

20. चाहे अशुभ या पाप ग्रह ही हों, पर यदि वह त्रिकोण भाव में या त्रिकोण भाव का स्वामी होता है तो, उसमे शुभता आ जाती है।

21. एक ही त्रिकोण का स्वामी यदि दूसरे त्रिकोण भाव में बैठा हो तो, उसकी शुभता समाप्त हो जाती है और वह विपरीत फल देते हैं। जैसे पंचम भाव का स्वामी नवम भाव में हो तो, संतान से संबंधित परेशानी रहती है, या संतान योग्य नहीं होती।

22. यदि एक ही ग्रह जन्म-कुंडली में दो केंद्र स्थानों का स्वामी हो तो, शुभफलदायक नहीं रहता। जन्म-कुंडली में पहला, चौथा, सातवाँ तथा दसवां भाव केन्द्र स्थान कहलाते हैं।

23. शनि और राहु विछेदात्मक ग्रह हैं, अतः ये दोनों ग्रह जिस भाव में भी होंगे संबंधित फल में विच्छेद करेंगे, जैसे अगर ये ग्रह सप्तम भाव में हों तो, पत्नी से विछेद रहता है। यदि पुत्र भाव में हों तो, पुत्र-सुख में न्यूनता रहती है।

24. राहू या केतू जिस भाव में बैठते हैं, उस भाव की राशि के स्वामी समान बन जाते हैं, तथा जिस ग्रह के साथ बैठते हैं, उस ग्रह के गुण ग्रहण कर लेते हैं।

25. केतु जिस ग्रह के साथ बैठ जाता है, उस ग्रह के प्रभाव को बहुत अधिक बड़ा देता है।

26. लग्न का स्वामी जिस भाव में भी बैठा होता है उस भाव को वह विशेष फल देता है, तथा उस भाव की वृद्धि करता है।

27. लग्न से तीसरे स्थान पर पापी ग्रह शुभ प्रभाव करता है, लेकिन शुभ ग्रह हो तो मध्यम फल मिलता है।

28. तीसरे, छठे और ग्यारहवें भाव में पापी ग्रहों का रहना शुभ माना जाता जाता है।

29. तीसरे भाव का स्वामी तीसरे में, छठे भाव का स्वामी छठे में या ग्यारहवें भाव का स्वामी ग्यारहवें भाव में बैठा हो तो, ऐसे ग्रह पापी नहीं रहते अपितु शुभ फल देने लग जाते हैं।

30. चौथे भाव में यदि अकेला शनि हो तो उस व्यक्ति की वृद्धावस्था अत्यंत दुःखमय व्यतीत होती है।

31. यदि मंगल चौथे, सातवें , दसवें भाव में से किसी भी एक भाव में हो तो, ऐसे व्यक्ति का गृहस्थ जीवन दुःखमय होता है। पिता से कुछ भी सहायता नहीं मिल पाती और जीवन में भाग्यहीन बना रहता है।

32. यदि चौथे भाव का स्वामी पाँचवे भाव में हो, और पाँचवें भाव का स्वामी चौथे भाव में हो तो, विशेष फलदायक होता है। इसी प्रकार नवम भाव का स्वामी दशम भाव में बैठा हो, तथा दशम भाव का स्वामी नवम भाव में बैठा हो तो, विशेष अनुकूलता देने में समर्थ होता है।

33. अकेला गुरु यदि पंचम भाव में हो तो संतान से न्यून सुख प्राप्त होता है, या प्रथम पुत्र से मतभेद रहते हैं।

34. जिस भाव की जो राशि होती है, उस राशि के स्वामी ग्रह को उस भाव का अधिपति या भावेश कहा जाता है। छठे, आठवें और बारहवें भाव के स्वामी जिन भावों में रहते हैं, उनको बिगाड़ते हैं, किन्तु अपवाद रूप में यदि यह स्वगृही ग्रह हों तो अनिष्ट फल नहीं करते, क्योंकि स्वगृही ग्रह का फल शुभ होता है।

35. छठे भाव का स्वामी जिस भाव में भी बैठेगा, उस भाव में परेशानियाँ रहेगी। उदहारण के लिए छठे भाव का स्वामी यदि आय भाव में हो तो वह व्यक्ति जितना परिश्रम करेगा उतनी आय उसको प्राप्त नहीं हो सकेगी।

36. यदि सप्तम भाव में अकेला शुक्र हो तो उस व्यक्ति का गृहस्थ जीवन सुखमय नहीं रहता और पति-पत्नी में परस्पर अनबन बनी रहती है।

37. अष्टम भाव का स्वामी जहाँ भी बैठेगा उस भाव को कमजोर ही करेगा।

38. शनि यदि अष्टम भाव में हो तो, उस व्यक्ति की आयु लम्बी होती है।

39. अष्टम भाव में प्रत्येक ग्रह कमजोर होता है, परन्तु सूर्य या चन्द्रमा अष्टम भाव में हो तो कमजोर नहीं रहते।

40. आठवें और बारहवें भाव में सभी ग्रह अनिष्टप्रद होते हैं, लेकिन बारहवें घर में शुक्र इसका अपवाद है, क्योंकि शुक्र भोग का ग्रह है, बारहवां भाव भोग का स्थान है। यदि शुक्र बारहवें भाव में हो तो, ऐसा व्यक्ति अतुलनीय धनवान एवं प्रसिद्ध व्यक्ति होता है।

41. द्वादश भाव का स्वामी जिस भाव में भी बैठता है, उस भाव को हानि पहुँचाता है।

42. दशम भाव में सूर्य और मंगल स्वतः ही बलवान माने गए हैं, इसी प्रकार चतुर्थ भाव में चन्द्र और शुक्र, लग्न में बुध तथा गुरु और सप्तम भाव में शनि स्वतः ही बलवान हो जाते हैं, तथा विशेष फल देने में सहायक होते हैं।

43. ग्यारहवें भाव में सभी ग्रह अच्छा फल करते हैं।

44. अपने स्वामी ग्रह से दृष्ट, युत या शुभ ग्रह से दृष्ट भाव बलवान होता है।

45. किस भाव का स्वामी कहाँ स्थित है, तथा उस भाव के स्वामी का क्या फल है, यह भी देख लेना चाहिए।

46. यदि कोई ग्रह जिस राशि में है, उसी नवमांश में भी हो तो, वह वर्गोत्तम ग्रह कहलाता है, और ऐसा ग्रह पूर्णतया बलवान माना जाता है, तथा श्रेष्ठ फल देने में सहायक होता है।

For Astrological Consultations : 09810143516, 091556 69922

———————————————————-

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.com, Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, vaidhraj.com, shukracharya.com, rbdhawan.wordpress.com

विवाह बाधा योग का निवारण?

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant),

Telephonic Consultation, face to face Consultation, best top remedy

कैसे हो, विवाह बाधा योग का निवारण ? यदि इस प्रश्न पर हम ज्योतिषीय संदर्भ में विचार करें तो उत्तर होगा कि मनोनुकूल पत्नी/पति पाना लड़का/लड़की के हाथ में नहीं है। इसके पीछे भारतीय धर्म, सिद्धांत में पुनर्जन्म का सिद्धांत कार्य करता है।

वस्तुत: मनुष्य अपने पूर्वजन्मार्जित कर्मों के अनुसार कर्म फल भोगने के लिये संसार में जन्म लेता है। विधाता तद्नुसार उसका भाग्य निर्धारण कर देते हैं। कौन किसका पति बनेगा और कौन किसकी पत्नी यह भी विधाता के द्वारा तय कर दिया जाता है। वैसे ही योग जन्मांग में दिखाई देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार लड़कियों की कुंडली में गुरू पति सुख का कारक ग्रह होता है, और लड़कों की कुंडली में शुक्र। कुंडली का सप्तम भाव दाम्पत्य सुख का स्थान होता है। अतः सप्तम स्थान, सप्तमेश तथा गुरू/शुक्र की स्थिति से ही तय होता है कि लड़के/लड़की को कैसा पत्नी पति मिलेगा? भले ही वह अपने मन में कैसे भी पत्नी पति की स्वप्न सजाये हुए हो।

विवाह बाधा योग लड़के, लड़कियों की कुंडलियों में समान रूप से लागू होते हैं, अंतर केवल इतना है कि लड़कियों की कुंडली में गुरू की स्थिति पर विचार तथा लड़कों की कुंडलियों में शुक्र की विशेष स्थिति पर विचार करना होता है।

(1) यदि कुंडली में सप्तम भाव ग्रह रहित हो और सप्तमेश बलहीन हो, सप्तम भाव पर शुभ ग्रहों की दृष्टि न हो तो, अच्छा पति/पत्नी मिल पाना संभव नहीं हो पाता है।

(2) सप्तम भाव में बुध-शनि की युति होने पर भी दाम्पत्य सुख की हानि होती है। सप्तम भाव में यदि सूर्य, शनि, राहू-केतू आदि में से एकाधिक ग्रह हों अथवा इनमें से एकाधिक ग्रहों की दृष्टि हो तो भी दाम्पत्य सुख बिगड़ जाता है।

(3) यदि कुण्डली में सप्तम भाव पर शुभाशुभ ग्रहों का प्रभाव हो तो पुनर्विवाह की संभावना रहती है। नवांश कुंडली में यदि मंगल या शुक्र का राशि परिवर्तन हो, या जन्म कुंडली में चंद्र, मंगल, शुक्र संयुक्त रूप से सप्तम भाव में हों, तो ये योग चरित्रहीनता का कारण बनते हैं, और इस कारण दाम्पत्य सुख बिगड़ सकता है।

(4) यदि जन्मलग्न या चंद्र लग्न से सातवें या आठवें भाव में पाप ग्रह हों, या आठवें स्थान का स्वामी सातवें भाव में हो, तथा सातवें भाव के स्वामी पर पाप ग्रहों की दृष्टि हो, तो दाम्पत्य सुख की कल्पना करना भी मुश्किल है।

(5) यदि नवम भाव या दशम भाव के स्वामी, अष्टमेश या षष्ठेश के साथ स्थित हों, या लग्नेश तथा शनि बलहीन हों, चार या चार से अधिक ग्रह कुंडली में कहीं भी एक साथ स्थित हों अथवा द्रेष्काण कुंडली में चन्द्रमा शनि के द्रेष्काण में गया हो, और नवांश कुंडली में मंगल के नवांश में शनि हो, और उस पर मंगल की दृष्टि हो या सूर्य, गुरू, चन्द्रमा में से एक भी ग्रह बलहीन होकर लग्न में दशम में, या बारहवें भाव में हो और बलवान शनि की पूर्ण दृष्टि में हो, तो ये योग जातक या जातिका को सन्यासी प्रवृत्ति देते हैं, या फिर वैराग्य भाव के कारण अलगाव की स्थिति आ जाती है, विवाह की ओर उनका लगाव बहुत कम होता है।

(6) यदि लग्नेश भाग्य भाव में हो तथा नवमेश पति स्थान में स्थित हो, तो ऐसी लड़की भाग्यशाली पति के साथ स्वयं भाग्यशाली होती है। उसको अपने कुटुम्बी सदस्यों द्वारा एवं समाज द्वारा पूर्ण मान-सम्मान दिया जाता है। इसी प्रकार यदि लग्नेश, चतुर्थेश तथा पंचमेश त्रिकोण या केंद्र में स्थित हों तो भी उपरोक्त फल प्राप्त होता है।

(7) यदि सप्तम भाव में शनि और बुध एक साथ हों और चंद्रमा विषम राशि में हो, तो दाम्पत्य जीवन कलहयुक्त बनता है और अलगाव की संभावना होती है।

(8) यदि जातिका की कुुण्डली में सप्तम भाव, सप्तमेश एवं गुरू तथा जातक की कुण्डली में सप्तम भाव सप्तमेश एवं शुक्र पाप प्रभाव में हों, तथा द्वितीय भाव का स्वामी छठवें, आठवें या बारहवें भाव में हो, तो इस योग वाले जातक-जातिकाओं को अविवाहित रह जाना पड़ता है।

(9) शुक्र, गुरू बलहीन हों या अस्त हों, सप्तमेश भी बलहीन हो या अस्त हो, तथा सातवें भाव में राहू एवं शनि स्थित हों, तो विवाह नहीं होता है।

(10) लग्न, दूसरा भाव और सप्तम भाव पाप ग्रहोें से युक्त हों, और उन पर शुभ ग्रह की पूर्ण दृष्टि न हो, तो विवाह नहीं होता है।

(11) यदि शुक्र, सूर्य तथा चंद्रमा पुरूषों की कुंडली में तथा सूर्य, गुरू, चंद्रमा, महिलाओं की कुंडली में एक ही नवांश में हों, तथा छठवें, आठवें तथा बारहवें भाव में हों, तो भी विवाह नहीं होता है।
इस प्रकार ज्योतिषीय ग्रंथों में अनेकानेक कुयोग मिलते हैं जो या तो विवाह होने ही नहीं देते हैं, अथवा विवाह हो भी जाये तो दाम्पत्य सुख को तहस-नहस कर देते हैं।

बाधा निवारण हेतु कुछ उपाय:-
इन कुयोगों को काटने के लिए शिव-पार्वती का अनुष्ठान, माँ दुर्गा जी की पूजा अर्चना, कारक ग्रहों के रत्न धारण करना, कुयोग दायक ग्रहों से संबधित मंत्र जप, पूजा अनुष्ठान, दानादि करने से बाधाओं का निराकरण हो जाता है।

(1) वे कन्यायें जिनकी शादी में किसी कारण विलम्ब बाधायें आ रही हों, तो वे इस मंत्र का जप नियमित करें तो उन्हें मनोवांछित वर प्राप्त होता है।

एंव देव्या वरं लब्ध्वा सुरथः क्षत्रियर्षभः।
सूर्याज्जनम समासाद्य सावर्णिभतिता मनुः।।

(2) वे युवक जिनका किसी कारण से विवाह नहीं हो रहा हो, इस मंत्र का नियमित जप करें तो उन्हें मनोवांछित पत्नी प्राप्त होती है।

पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिहणीम्।
तारिणीं दुर्ग संसार सागरस्य कुलोद्भ्वाम्।।

(3) गुरूवार का व्रत, सोमवार का व्रत एवं लड़कों के लिए शुक्रवार का व्रत करने से शादी की शीघ्र संभावना बनती है।

(4) माँ कात्यायिनी देवी का मंत्र जाप भी शादी में आने वाली बाधाओं को दूर कर देता है।

‘‘कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरी।
नंद गोप सुतं देवि पतिं में कुरूते नमः’’।

(5) माँ पार्वती के निम्नलिखित मंत्र का नियमित जप करने से भी शीघ्र विवाह की संभावना बनती है।

‘‘हे गौरि शंकरार्धागि यथा त्वं शंकरप्रिया।
तथा माँ कुरू कलयाणि कान्तकान्तां सुदुर्लभाम्।।

(6) श्री रामचरितमानस में सीता जी द्वारा गिरिजा पूजन प्रसंग ‘जय-जय गिरिवर राज किशोरी’ से लेकर सोरठा– जानि गौरि अनुकूल सिय हिय हरष न जात कहि। मंगल मंजुल मूल, बाम अंग फरकन लगे।। तक का पाठ करना अथवा राम-जानकी विवाह प्रसंग चैपाई ‘‘समय बिलोकि बशिष्ठ बोलाए। सादर सतानंद सुनि आए।।’’ से लेकर दोहा-

मुदित अवध पति सकल सुत बधुन्ह समेत निहारि।
जनु पाए महिपाल मनि क्रियन्ह सहित फल चारि।।

का पाठ करना चाहिए। इस पाठ को करने से पहले राम-जानकी का फोटो अपने सामने रखें। संकल्प लेकर पाठ करें और अंत में समर्पण कर दें।

(7) यदि विवाह में बाधा का कारण मंगल हो, तो मंगल चंडिका स्तोत्र का पाठ एवं मंगल चंडिका मंत्र का जप करने से भी विवाह हो जाता है। गणेश जी की जप पूजा भी विवाह बाधा का निवारण करती है।

(8) अघोर गौरी का मंत्र भी विवाह में आने वाली बाधाओं को दूर करता है। यह मंत्र इस्लामी साधना का मंत्र कहलाता है। इस मंत्र को प्रतिदिन 1000 बार जपना चाहिए। इसमें रूद्राक्ष की माला का प्रयोग नहीं करते हैं। ऊनी आसन पर पश्चिम की ओर मुख करके बैठा जाता है। सुगंधित अगरबत्ती जलाई जाती है। इसका जप उसी लड़की को करना होता है जिसकी शादी में बाधायें आ रही हों:-

मखनो हाथी जर्द अम्बारी उस पर बैठी कमाल खाँ की सवारी कमाल खाँ कमाल खाँ मुगल पठान बैठे चबूतरे पढ़े कुरान हजार काम दुनिया का करे एक काम मेरा कर ना करे तो तीन लाख तैंतीस हजार पैगम्बरों की दुहाई।

(9) यह एक अनुभूत उपाय है। इसे मैंने कई बार आजमाया है। पीला पुखराज कम से कम सवा पाँच रत्ती वजन का सोने की अँगूठी में गुरूवार के दिन बायें हाथ की तर्जनी में पहना दिया जाये और कम से कम सात रत्ती वजन का फिरोजा चाँदी की अंगूठी में शुक्रवार के दिन बायें हाथ की कनिष्ठिका में धारण किया जाये तो शादी की शीघ्र संभावना बनती है।
इस प्रकार विभिन्न प्रकार के उपाय विवाह बाधा निवारण हेतु मिलते हैं इनमें धारण करने के यंत्र भी सम्मिलित हैं जिन्हें अपनाकर बाधा निवारण किया जा सकता है और दाम्पत्य सुख पाया जा सकता है। यदि कुंडली में वैधव्य योग हों तो शादी के पहले घट विवाह, अश्वत्थ विवाह, विष्णु प्रतिमा या शलिग्राम विवाह में से कोई न कोई विवाह सम्पन्न कराकर विवाह करना चाहिए।

———————————————————

विवाह में विलम्ब हो या वैवाहिक जीवन में अलगाव की स्थिति आ गई है तो Dr.R.B.Dhawan जी से Telephonic Consultation, या फिर face to face Consultation हेतु संपर्क सकते हैं : गुरूजी आपको best top remedy का सुझाव देंगे :- 09810143516, 09155669922

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, shukracharya.com, astroguruji.in, vaidarj.com, gurujiketotke.com

कैरियर

कैरियर अर्थात् आजीविका के साधन :-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant)

Telephonic Astrological Appointment

जिस कैरियर में आप किस्मत आजमाना चाहते हैं, या जिस मंजिल को पाना चाहते हैं, आवश्यक नहीं वही आप के लिये सही हो, दुनिया में बहुत कम लोग ही ऐसे होते हैं, जो अपनी मनचाही मंजिल पा लेते हैं। बाकी लोगों को लाख कोशिश के बाद भी वह मंजिल नहीं मिलती। आखिर क्यों? इसका जवाब ज्योतिष शास्त्र में छिपा हैं। आपकी कुंडली के ग्रह यह बताते हैं कि आप किस क्षेत्र में उन्नति करेंगे ? और आपका भविष्य का कैरियर क्या होगा। कुंडली केवल आपका भविष्य ही नहीं बताती बल्कि आपका कार्यक्षेत्र भी बतलाती है, यदि कार्यक्षेत्र पहले से पता लग जाये तो उसी दिशा में प्रयास किया जा सकता है। कैरियर के विषय में सबसे अधिक महत्त्व कुंडली के दशम भाव को दिया जाता है। सभी ग्रंथ एकमत है कि आजीविका का विचार लग्न, चन्द्र और सूर्य में से जो बलवान हो, उससे दशम भाव में स्थित ग्रह के कारकत्व के अनुसार करना चाहिए। यदि दशम भाव में कोई ग्रह न बैठा हो तो, ऐसी स्थिति में दशमेश जिस ग्रह के नवांश में हो, उस ग्रह के अनुसार कार्यक्षेत्र का विचार करना चाहिए।

व्यावहारिक तौर पर देखने में आया है कि द्वितीय या एकादश भाव में यदि बलवान ग्रह बैठा है तो जातक को आजीविका क्षेत्र में सफल बनाने में अपनी भूमिका अदा करते हैं। सही व्यवसाय का चयन ही उज्ज्वल भविष्य का मानक होता है जो लोग अपने अनुकूल व्यवसाय का चयन नहीं कर पाते हैं, वो जातक इस लेख के सार को समझकर सही व्यवसाय का श्रीगणेश कर सकते हैं। सही समय पर सही फैसला ही सफलता का मूल मंत्र है। ग्रहों के आधार पर स्थिर कैरियर का निर्धारण करना वर्तमान युग के युवा वर्ग के लिए एक समस्या बनी हुई है। वैसे तो व्यवसाय के अनेक साधन हैं, यदि जातक के माता-पिता छात्र जीवन में ही उसकी जन्मपत्रिका एवं हाथ का अध्ययन कर उसके भावी व्यवसाय अथवा नौकरी से संबंधित तथ्यों का मनन-चिंतन कर उसे उसी के अनुकूल शिक्षा दिलवाते हैं तो, वह भविष्य में अधिक तीव्र गति से सही दिशा में सार्थक विकास कर समाज और परिवार का कल्याण कर सकता है।

विद्या के महत्त्व को स्पष्ट करते हुए विद्वानों ने चतुर्थ और पंचम भाव को भी अत्याधिक महत्त्व दिया है, जिसमें द्वितीय भाव वाक्पटुता या वाणी की क्षमता को इंगित करता है। उच्च योगों के रहने से ही जातक शैक्षणिक क्षेत्र में आगे हो सकता है। लेकिन यदि इन योगों का अभाव हो तो शिक्षा में बाधा से रू-ब-रू होना अवश्यंभावी है। चतुर्थ स्थान उच्च शिक्षा और सुख को व्यक्त करता है। पंचम भाव का संबंध बुद्धि से है। इनके कारक ग्रह भी अनुकूल स्थिति में होने चाहिए द्वितीय भाव का कारक बृहस्पति है, चतुर्थ भाव का कारक चन्द्रमा और बुध हैं। पंचम का कारक भी बृहस्पति ग्रह है, द्वितीय भाव और द्वितीयेश यदि शुभ स्थिति में हों तो, जातक उच्च शिक्षा प्राप्त करता है। यदि अष्टम में पाप ग्रह पड़ें तो, विदेश में उच्च शिक्षा प्राप्त करने का योग बनता है। महर्षि जैमिनी ने यह भी सिद्धांत प्रतिपादित किया है कि द्वितीय और चतुर्थ की अनुकूल स्थिति जातक के विद्या प्राप्ति में आने वाली समस्त बाधाओं का शमन करती है। पंचम भाव शिक्षा से अधिक बुद्धि का स्थान है।

यदि द्वितीय भाव शक्तिहीन हो, लेकिन पंचम शुभ स्थिति में होने से कम शिक्षित व्यक्ति भी उन्नत मस्तिष्क का धनी होता है। उसके वार्तालाप के आधार पर उसकी शिक्षा का आंकलन करना गलत सिद्ध होता है।

पंचम और बृहस्पति व्यावहारिक शिक्षा में आनेवाली बाधाओं को दूर करने में सक्षम होता है। यदि द्वितीयेश और गुरु एक दूसरे से केन्द्र त्रिकोण में हों तो, अच्छी शिक्षा का संकेत हैं। शिक्षा समाप्ति के पहले कैरियर की चिन्ता सबको लगी रहती है। प्रतिदिन मेरे पास अस्थिर कैरियर को लेकर जातक आते रहते हैं। उसकी प्रमुख समस्या होती है कैरियर कैसा हो?
मैं इस लेख के माध्यम से युवा वर्ग की उन सभी समस्याओं का निदान दे रहा हूं। आप भी Telephonic Astrological Appointment द्वारा सलाह ले सकते हैं।

वस्तुत: जन्मकुंडली जातक के भावी जीवन का आईना है। इसकी सार्थकता तभी संभव है, जब हम इससे समुचित लाभ ले सकें। इसके द्वारा ऐसे कैरियर का चयन करें जिससे अर्थ लाभ ही नहीं बल्कि वह व्यवसाय पीढ़ी दर पीढ़ी उन्नति करे, शिखर पर अपना नाम रोशन करे। सेठ धीरू भाई अंबानी इसका उदाहरण हैं। नौकरी करें या व्यवसाय? स्थाई कैरियर कुंडली के ग्रहों के आधार पर चयन किया जाना चाहिए।

जन्मकुंडली के लग्न, दशम भाव, एकादश भाव, सप्तमभाव आदि के सर्वाधिक प्रबल भावेश अथवा उक्त भावों में स्थित ग्रह ही जातक के कैरियर का संकेत देते हैं। विभिन्न ग्रह किस कैरियर की ओर संकेत दे रहे हैं, वह प्रस्तुत लेख की विषय-वस्तु है। ग्रह और उनसे संबंधित कैरियर क्षेत्र निम्नलिखित है-

सूर्य:-
1. सरकारी सेवा विशेषरूप से प्रशासनिक सेवा।

2. विद्युत एवं उससे संबंधित संस्थानों में नौकरी अथवा विद्युत एवं उससे संबंधित वस्तुओं का व्यापार।

3. न्यूरोलाॅजी, नाक, कान, गला, हीमोटोलाॅजी, नेत्र चिकित्सक, अस्थिरोग, शल्य चिकित्सा इत्यादि विषयों चिकित्सक अथवा इन चिकित्साओं से संबंधित वस्तुओं का व्यापार, अस्पताल में नौकरी।

4. दवाइयों का व्यापार अथवा फार्मास्यूटिकल कंपनी में नौकरी।

5. जवाहरात का व्यापार अथवा जवाहरात से संबंधित संस्थान में नौकरी।

6. प्रयोगशाला वैज्ञानिक संस्थान, अनुसंधान केन्द्र एवं अविष्कार से संबंधित जलाधिपूर्ति विभाग, सिचाई विभाग इत्यादि में नौकरी।

7. नेतृत्व और संगठनकर्ता।

8. समुद्री व्यापार, जहाजरानी, जलापूर्ति विभाग, सिचाई विभाग इत्यादि में नौकरी।

9. तेल एवं गैस कंपनी में नौकरी अथवा इनका व्यापार।

10. राजनीति और कूटनीतिक राजनयिक।

11. सरकारी कार्यों के ठेकेदार।

चन्द्रमा:-
1. पशुपालन, पशुपालन से संबंधित संस्थानों में नौकरी, पशुओं एवं पशुपालन से संबंधित वस्तुओं का व्यापार, डेयरी, दूध, दही, घी, पनीर आदि का व्यापार अथवा डेयरी में नौकरी।

2. कृषि कार्य, खेती में काम आनेवाली वस्तुओं का व्यापार, भूमि से संबंधित अन्य कार्य, कृषि एवं सिंचाई से संबंधित विभागों और संस्थानों में नौकरी।

3. चाँदी के आभूषणों, बर्तन एवं वस्तुओं का व्यापार अथवा ऐसे व्यापारिक संस्थानों में नौकरी।

4. होटल, रेस्टोरेंट इत्यादि का व्यापार तथा इनमें नौकरी।

5. पर्यटन, ट्रेवल एजेन्सी में नौकरी।

6. लेखन, संपादन, प्रकाशन एवं पत्रकारिता अथवा इनसें संबंधित संस्थानों में नौकरी।

7. बर्फ की फैक्ट्री, चीनी की मिल, कागज की मिल, तेल मिल अथवा इनका व्यापार और इनमें नौकरी।

8. तरल एवं रसदार पदार्थों का निर्माण और व्यापार इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

9. एजेन्ट जैसे अन्य कार्य।

10. रत्न, उपरत्न एवं मणियों का व्यापार, निर्माण कार्य अथवा इनसे संबंधित अन्य कार्य अथवा ऐसे कार्य करने वाले संस्थानों में नौकरी।

11. नृत्य, संगीत, अभिनय, फिल्म, चित्रकला, कविता, कहानी इत्यादि से संबंधित लेखन अथवा इन सबसे संबंधित अन्य कार्य अथवा इनसे संबंधित वस्तुओं का निर्माण और व्यापार अथवा इस प्रकार के संस्थानों में नौकरी।

12. मनोचिकित्सा, हृदयरोग, यूरोलाॅजी, न्यूरोलाॅजी, हीमोटोलाॅजी नेत्र चिकित्सा इत्यादि विषयों में चिकित्सक अथवा इनसे संबंधित वस्तुओं का निर्माण और व्यापार तथा संबंधित संस्थानों में नौकरी।

13. आर्किटेक्चर एवं इससे संबंधित अन्य कार्य।

14. जहाजरानी तथा समुद्री जहाजों से व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

मंगल:
1. सेना और पुलिस विभाग में नौकरी अथवा इन जैसे अन्य कार्य।

2. ज्योतिष, धर्म, दर्शन, अध्यात्मक एवं अन्य पराविद्याओं से संबंधित व्यवसाय।

3. नेतृत्व एवं संगठनकर्ता के कार्य।

4. ताँबा आदि धातुओं एवं इनसे बनने वाले उपकरणों का उत्पादन और व्यापार।

5. खान, रेल एवं वन विभाग में नौकरी अथवा इन विषयों से संबंधित कार्य।

6. राजनीति एवं कूटनीति तथा विदेशी विभाग में नौकरी।

7. वकील, कानून एवं न्याय से संबंधित कार्य।

8. अग्नि से संबंधित कार्य।

9. केमिकल, मैकेनिकल, माईंस, इलेक्ट्राॅनिक, एग्रीकल्चर आदि विषयों में इंजीनियरिींग अथवा निपुणता।

10. त्वचा रोग, उदर रोग, रक्त विकार, नेत्र रोग, विषजनित रोग, यूरोलाॅजी, नाक-कान-गले से संबंधित अन्य कार्य।

11. औषधि निर्माण, विक्रेता अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

बुध:-
1. लेखन, संपादन, प्रकाशन, पुस्तक विक्रेता, लाइब्रेरी, प्रिटिंग प्रेस, पत्रकारिता इत्यादि से संबंधित कार्य तथा इस प्रकार के कार्यो को करने वाले संस्थानों में नौकरी।

2. दूरसंचार विभाग में नौकरी अथवा तार, कोरियर, डाक, टेलीफोन, रेडियो, दूरदर्शन, टी.वी. मोबाइल इत्यादि के निर्माण, विक्रय एवं अन्य कार्यों से संबंधित संस्थाओं का संचालन अथवा नौकरी।

3. आर्थिक विभाग, एकाउंटस विभाग, वाणिज्य विभाग, बीमा विभाग, बैंक अथवा फाइनेंस कंपनी में नौकरी, सी.ए. अथवा इनसे संबंधित कार्य।

4. ज्योतिष हस्तरेखा एवं पराविद्याओं से संबंधित कार्य।

5. व्यापार और राजनीति।

6. विज्ञान, प्रयोगशाला, अनुसंधान एवं अविष्कार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

7. त्वचा रोग, नाक-कान-गला रोग, श्वास संबंधी रोग (अस्थमा, टी.बी. आदि), न्यूरोलाॅजी आदि से संबंधित चिकित्सक अथवा चिकित्सा के अन्य कार्य।

8. दूरसंचार सिविल, आर्किटेक्चर आदि में इंजीनियरिंग अथवा इस प्रकार के अन्य वास्तु के कार्य।

9. ट्रेवल एजेन्सी, ट्रांसपोर्ट कंपनी आदि का संचालन अथवा इस प्रकार के संस्थानों में नौकरी, चालक और परिचालक बनता है।

गुरु:-
1. शिक्षण संस्थानों का संचालन, व्याख्याता, शिक्षा से संबंधित अन्य संस्थान, शिक्षा एवं शिक्षा से संबंधित संस्थानों में नौकरी।

2. दार्शनिक, कथावाचक, धार्मिक उपदेशक अथवा इनसे संबंधित अन्य कार्य।

3. वकील, न्यायाधीश, न्यायालयों एवं न्याय विभाग में नौकरी, न्यायालयों में प्रयोग की जाने वाली वस्तुओं का व्यापार तथा कानून एवं न्याय से संबंधित अन्य कार्य।

4. पुलिस विभाग अथवा संबंध विभागों में नौकरी और इनसे संबंधित अन्य कार्य।

5. बैंक अथवा फाइनेंस कंपनी का संचालन, ऐसे संस्थानों में नौकरी और ब्याज पर धन देना।

6. मैनजेजर अथवा मैनजमेंट से संबंधित अन्य कार्य।

7. सेल्समैन, एजेन्ट और कमीशन पर आधारित अन्य कार्य तथा व्यापार।

8. विज्ञापन एजेन्सी, विज्ञापन निर्माण, माॅडलिंग अथवा अन्य कार्य।

10. मंत्री, राजदूत, राजनेता और कार्य।

11. जलीय यात्रा अथवा व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

12. विज्ञान, प्रयोगशाला, अनुसंधान एवं अविष्कार अथवा इनसे संबंधित कार्यों में संलग्नता।

13. कृषि, सिंचाई, आॅटोमोबाइल, टेक्सटाइल्स आदि विषयों में इंजीनियर या इंजीनियर जैसे अन्य कार्य।

14. त्वचा, रक्त, उदर, गुप्तरोग, आनुवांशिकी, गायनोकोलाॅजी, नाक-कान-गला, हृदय रोग से संबंधित अथवा दवाइयां और उपकरण के विक्रेता भी हो सकते हैं।

शुक्र:-
1. विलासितापूर्ण वस्तुओं का उत्पादन, व्यापार अथवा ऐसे कार्य करने वाले संस्थानों में नौकरी।

2. आभूषण, वस्त्र, वस्त्र डिजाइनर, माॅडलिंग, सौन्दर्य प्रसाधन, इत्र और अन्य सुगंधित वस्तुएं, घड़ियां, पुष्य, पेंटिंग जैसी वस्तुओं का उत्पादन और विक्रय अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

3. पर्यटन विभाग में नौकरी तथा होटल, रेस्टोरेंट आदि का संचालन अथवा इनमें नौकरी।

4. नृत्य, संगीत, फोटोग्राफी, चित्रकला, फिल्म, अभिनय इत्यादि क्षेत्रों में निपुणता अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी अथवा इनमें प्रयुक्त होने वाली वस्तुओं का उत्पादन और व्यापार।

5. इंटीरियर डेकोरेशन, टेन्ट हाउस, लाइट डेकोरेशन इत्यादि से संबंधित कार्य।

6. लेखन एवं प्रकाशन से संबंधित व्यापार अथवा इनसे संबंधित संस्थान में नौकरी।

7. विदेश व्यापार, विदेशी बैंकों में विदेशी मुद्रा विनिमय में कार्य।

8. टेक्सटाइल्स, फूड प्रोसेसिंग, आर्किटेक्चर आदि विषयों में इंजीनियरिंग या विशेषज्ञता।

9. गायनोकोलाॅजी, आनुवंशिकी, रक्त एवं गुप्तरोग, नाक-कान-गला रोग, फेफड़े एवं श्वास नली से संबंधित रोग, नेत्र रोग, यूरोलाॅजी उदर रोग आदि से संबंधित चिकित्सक अथवा ऐसी चिकित्सा से संबंधित अन्य कार्य।

10. राजनीति एवं न्याय से संबंधित क्षेत्र।

11. दर्शन, अध्यात्म एवं अन्य गूढ़ विज्ञान।

12. विज्ञान, प्रयोगशाला, आविष्कार एवं अनुसंधान तथा इनसे संबंधित कार्य तथा तांत्रिक कार्य कर भी अपना नाम रोशन कर सकता है।

शनि:-
1. मशीनों एवं लौह उपकरणों का निर्माण अथवा व्यापार का कार्य अथवा इस प्रकार के कार्यों संलग्न संस्थाओं में नौकरी।

2. कोयला और लकड़ी से संबंधित व्यायसाय।

3. न्याय विभाग अथवा न्यायालयों में नौकरी, न्यायाधीश एवं वकील जैसे व्यवसाय तथा न्यायालय से संबंधित अन्य कार्य।

4. पुलिस विभाग एवं जेल विभाग तथा अन्य सम्बद्ध विभागों में नौकरी अथवा इनसे संबंधित निजी कार्य।

5. लोहे की वस्तुएं, फर्नीचर, घड़ी, खेलकूद के समान, कृषि से संबंधित सामान आदि का उत्पादन एवं व्यवसाय अथवा इनसे संबंधित संस्थानों में नौकरी।

6. स्थानीय स्वायत संस्थानों में नौकरी अथवा अन्य कोई पद निर्वाचन से प्राप्त करना।

7. खान-विभाग, भूगर्भ विभाग आदि में नौकरी खनिजों का व्यापार आदि।

8. खेलकूद एवं शारीरिक परिश्रम मजदूरी से संबंधित कार्य।

9. ज्योतिष, धर्म, अध्यात्म एवं अन्य पराविद्याओं से संबंधित कार्य।

10. मुर्गी पालन, बागवानी जैसे कार्य।

11. विभिन्न प्रकार की ठेकेदारी।

12. संगीत एवं शिक्षण से संबंधित कार्य।

13. मैकेनिकल, माईंस, सिविल इत्यादि विषयों में इंजीनियरिंग अथवा निपुणता।

राहु:-
1. ऐसे व्यवसाय जिनमें उतार-चढ़ाव अधिक आते है। जैसे शेयर, सट्टा, लाॅटरी, राजनीति आदि।

2. यात्रा से संबंधित नौकरी या व्यवसाय।

3. कम्प्यूटर एप्लीकेशन से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

4. इलेक्ट्राॅनिक्स से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

5. ओकल्ट साइंसेज अध्यात्म आदि से संबंधित व्यवसाय अथवा नौकरी।

6. अवैध अथवा अनैतिक प्रकार के व्यवसाय।

केतु:-
1. ऐसे व्यवसाय जिनमें उतार-चढ़ाव अधिक आते हैं। शेयर, सट्टा लाॅटरी, राजनीति आदि।

2. अवैध अथवा अनैतिक प्रकार के व्यवसाय।

राशियों से कैरियर :-

1. मेष- लोहा, चंदन, गोंद, औषधि, लाल रंग की वस्तुएं, सोना, वस्त्र, कम्बल आदि।

2. वृष- घी, सफेद रंग की वस्तुएं, दूध, जौ, नमक, बैल, चाँदी आदि।

3. मिथुन- चावल, बिनौला, जूट, उत्तरी राजस्थान में उत्पन्न बाजरा और गंवार, मोंठ कस्तूरी, हल्दी, समाचार पत्र, प्लास्टिक या रबर जनित वस्तुएं, मूंगफली आदि।

4. कर्क- प्याज, चाँदी, तेजपत्ता, मछली, पानी से उत्पन्न वस्तुएं, मोती शंख, पानी की बोतलें, सोडा, पेय पदार्थ, शराब, बीयर, केला, कमल के फूल आदि।

5. सिंह- चमड़ा, चना, गुड़, एंटीबाॅयटिक औषधियां, रेशेदार पदार्थ आदि।

6. कन्या- मकर, ग्वार, हरे रंग के सर्व पदार्थ, दूब लगाना, पुस्तकें असली मोंठ, अधोवस्त्र, गर्भनिरोधक आदि।

7. तुला- फिल्म रोल, सरसों, प्रसाधन, रूई, गेहूंँ, विलासिता की वस्तुएं, अरहर, केसर और रंग आदि।

8. वृश्चिक- तिल, पालतू पशु, हल्के हथियार, चीनी भवनादि खरीद-फरोख्त, मिठाई, कच्चा गन्ना, बीज आदि।

9. धनु- जल्दी खराब हो जाने वाली वस्तुएं फलों के रस सफेद खाद्यान्न, आलू लचीले पदार्थ, स्टेशनरी मोम आदि।

10. मकर- शीशा, वृक्षों या पौधों की जड़ों से निर्मित द्रव्य, कांसी, मोटरयान या गतिशील वस्तुएं आदि।

11. कुम्भ- सभी काले रंग की वस्तुएं काले उड़द और तिल, छोटे-छोटे सिक्कों का लेन देन विद्युतीय उपकरण एवं स्पेयर पाटर््स फूलों की सजावट और बेचना कम्प्यूटर और फ्लोपी, पानी में घोल कर पीये जा सकने वाले मादक पदार्थ पुस्तक लेखन और प्रकाशन आदि ।

12. मीन- समुद्र से प्राप्त जैविक खाद्य पदार्थ, मछली, हथियार, तेल, मोती, पुखराज, चिकित्सा में काम आने वाले उपकरण, टैंट ओर सजावट आदि इस तरह से आप अपने ग्रहों के आधार पर व्यापार कर समृद्धि प्राप्त कर सकते है।

ज्योतिष शास्त्र हमारे जीवन की भावी योजनाओं के लिए प्रमाणिक विज्ञान (विद्या) है, अत: कैरियर सम्बंधित मार्गदर्शन भी बेहतर मिल सकता है।

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant), Telephonic Astrological Appointment,

best online astrologer, best top astrologer in delhi, best top astrologer in india

परामर्श के लिए सम्पर्क सूत्र:- 09810143516, 09155669922

———————————————————

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, shukracharya.com, astroguruji.in, rbdhawan.wordpress.com, gurujiketotke.com, vaidhyaraj.com

अष्टमेश

क्या कुंडली का अष्टमेश सदा दु:खदाई होता है?:-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant), best top online astrologer in delhi, best top online astrologer in india

किसी भी जन्म-पत्रिका की लग्न कुंडली में छठा तथा आठवाँ स्थान कुंडली के सबसे खराब घर माने जाते हैं कारण कि छठा घर रोग, कर्ज तथा शत्रुओं का है, तथा आठवाँ स्थान आयु स्थान! दूसरे शब्दों में मृत्यु स्थान है। जैसा कि सर्व विदित है कि कुंडली के जिस घर में जो राशि होती है उस राशि का मालिक ग्रह उस घर का मालिक माना जाता है, अतः कुंडली के आठवें घर में जो राशि होगी उस राशि का मालिक ग्रह आठवें घर का मालिक अर्थात अष्टमेश कहलायेगा।

चूँकि अष्टम स्थान आयु का स्थान है, और आयु समाप्त होने से बुरी घटना किसी इंसान के जीवन में कभी हो नहीं सकती, अर्थात् यह पाप स्थान, खराब स्थान है, महऋषि पराशर ने वृहत्पराशर होरा शास्त्र में अष्टम स्थान को छिद्र, खर स्थान कहा है। अष्टम वह स्थान है, जहां किसी भी अन्य स्थान का स्वामी आकर अपनी शुभता इस प्रकार खो देता है जैसे कोई जीव कुंआ में डूब जाता है, और जीवित नहीं रहता। यह तो स्वाभाविक बात है कि इसका मालिक ग्रह भी पापी होगा चाहे वो नैसर्गिक रूप से शुभ ग्रह यथा चन्द्रमा, बुध, गुरू या शुक्र ही हो, किन्तु यदि वह अष्टम स्थान का मालिक है तो अपना पाप प्रभाव ही देगा। ऐसे में यदि अष्टम स्थान में अन्य स्थान का स्वामी कैसे शुभ फलदाई रहेगा। अष्टम स्थान का मालिक ग्रह अर्थात अष्टमेश यदि कुण्डली में लग्न में बैठ जाये लग्न यानि कुण्डली का पहला घर तो निश्चय ही वह उस जातक का आत्मबल शीण कर देगा। उस व्यक्ति को सारी उम्र मानसिक परेशानियाँ, चिन्ता इत्यादि से त्रस्त रखेगा। कारण की किसी व्यक्ति की कुण्डली में लग्न उसका अपना घर होता है, उसका मन-मस्तिष्क होता है, लग्न से हम किसी व्यक्ति के शरीर उसकी आत्मा तथा आत्मविश्वास की गणना करते हैं, यदि उसमें पापी ग्रह पाप स्थान अष्टम का स्वामी बैठ जाये तो निश्चय ही वो अपना पाप प्रभाव ही देगा, किसी भी सूरत में शुभ प्रभाव नहीं दे सकता, भले ही उसके साथ कोई शुभ ग्रह ही क्यों न बैठा हो या केन्द्र-त्रिकोण का मालिक कोई ग्रह ही ना हो, अपितु अष्टमेश उस शुभ ग्रह का शुभ प्रभाव भी कम कर देता है।

जैसा कि सब ज्योतिष के विद्वान जानते हैं सभी ग्रहों की सातवीं पूर्ण दृष्टि होती है, और जब कोई ग्रह लग्न में होगा तो स्वाभाविक है कि उस ग्रह की सातवीं दृष्टि सप्तम भाव यानि पुरूष की कुंडली में पत्नी के स्थान पर और स्त्री की कुंडली में पति के स्थान पर पड़ेगी, ऐसी स्थिति में वह सातवें स्थान को प्रताड़ित करे बिना नहीं रह सकता, जिस किसी भी व्यक्ति की कुण्डली में अष्टमेश लग्न में बैठा होगा उसके अपनी पत्नी अथवा पति से मधुर सम्बंधों में निश्चित रूप से कमी लायेगा।

यहाँ विचारणीय बात यह भी है कि कई ग्रहों की सातवीं के अतिरिक्त भी कई दूसरी पूर्ण दृष्टियाँ होती हैं जैसे मंगल की चौथी और आठवीं, गुरू, राहु, केतु की पाँचवी तथा नौवीं एवं शनि की तीसरी तथा दसवीं, ऐसी परिस्थिति में वह ग्रह सातवीं के अतिरिक्त जिन-जिन घरों पर अपनी दृष्टियाँ डालेंगे उन-उन घरों को भी निश्चित रूप से प्रभावित करेंगे।

मेष लग्न की कुंडली में अष्टमेश मंगल होता है, इसमें हालांकि मंगल लग्नेश भी है और लग्न में मंगल किसी सुहागिन स्त्री के माथे पर चमकती हुई बिन्दी की जैसे प्रतीत तो होता है, किन्तु उसकी स्थिति सुहागन होते हुये भी पति से ठुकराई हुई स्त्री की जैसी होगी, और वह पूर्ण लग्नेश का फल नहीं प्रदान कर लग्नेश एवं अष्टमेश का मिला-जुला असर प्रदान करता है, और लग्न, चतुर्थ, सप्तम एवं अष्टम स्थान को प्रभावित करता है। वृषभ लग्न में अष्टमेश गुरू होता है, और यदि गुरू लग्न में हो तो लग्न, पंचम, सप्तम तथा नवम भाव को प्रभावित करता है। मिथुन लग्न में अष्टमेश शनि होता है। इसमें शनि भाग्येश भी होता है किन्तु फिर भी लग्न में शनि हो तो अपना अष्टम स्थान का पाप प्रभाव नहीं छोड़ता, और लग्न, तृतीय, सप्तम एवं दशम स्थान को प्रभावित करता है। कर्क लग्न में भी अष्टमेश शनि होता है, इसमें शनि अष्टम के साथ-साथ सप्तम भाव का भी मालिक होता है अतः अत्यधिक पाप प्रभावित हो जाता है, और लग्न में होने से ज्यादा पीड़ादायक रहता है, और लग्न, तृतीय, सप्तम एवं दशम भाव को प्रभावित करता है।

सिंह लग्न में गुरू अष्टम स्थान का अधिपति होकर यदि लग्न में हो तो त्रिकोण का मालिक होने के बावजूद वह अपना पूर्ण फल प्रदान नहीं करता है, कन्या लग्न में मंगल अष्टमेश होता है, जो तृतीयेश भी है, और चूँकि तृतीय स्थान भी आयु का स्थान माना जाता है, अतः मंगल यहाँ पूर्ण पाप प्रभाव में होकर शुभ फल प्रदान नहीं कर सकता, तुला लग्न में शुक्र जो कि लग्नेश भी होता है, साथ ही अष्टमेश भी होता है, इसकी स्थिति भी वही रहती है, जो मेष लग्न में मंगल की होती है, वृश्चिक लग्न में बुध अष्टमेश होता है, और यदि बुध लग्न में हो तो, लग्न एवं सप्तम स्थान को प्रभावित करता है।

इसी प्रकार धनु लग्न में चन्द्रमा अष्टम का मालिक होकर यदि लग्न में हो तो, लग्न एवं सप्तम स्थान को प्रभावित करें बिना नहीं रहता है, मकर लग्न में सूर्य अष्टमेश होकर यदि लग्न में हो तो, लग्न एवं सप्तम स्थान को खराब करे बिना नहीं छोड़ता है। यहाँ विशेष रूप से ध्यान देने योग्य यह बात है कि सूर्य जो कि नौ ग्रहों में सबसे ज्यादा क्रूर गह है, जिस घर में बैठता है, और जिस पर अपनी दृष्टि डालता है, दोनों के शुभ प्रभावों में कमी कर देता है, मेरे व्यक्तिगत अनुभव में कई कुंडलियों में यह देखने में आया है कि यदि मकर लग्न में सूर्य लग्न में है तो, उस व्यक्ति का जीवन हमेशा तनावग्रस्त रहता है, तथा अपने जीवन-साथी के साथ उसके मधुर सम्बंध नहीं रहते हैं। कुंभ लग्न में बुध अष्टम का मालिक होता है, और यदि यह लग्न में हो तो, त्रिकोण का मालिक होते हुये भी अपना शुभ प्रभाव नहीं दे सकता, इसी प्रकार मीन लग्न की कुंडली में शुक्र अष्टमेश होकर यदि लग्न में हो भले ही वह उच्च का होकर लग्न में बैठे किन्तु फिर भी तृतीयेश भी होने से कतई अपना शुभ फल प्रदान नहीं कर सकता और लग्न तथा सप्तम स्थान को अपने पाप प्रभाव से प्रभावित करता है।

पाठको से मेरा निवेदन है कि, ध्यान दें कभी-कभी इस प्रकार के नेष्ट योग का अपवाद भी देखने में आया है, जैसे इस लेख के आरम्भ में जो मिथुन लग्न की कुंडली दी गई है, इस कुंडली में अष्टम भाव में शनि अपनी ही मकर राशि में है, और अपनी ही राशि में होने के कारण कोई भी ग्रह उस घर से सम्बंधित अपना अशुभ प्रभाव नहीं डालता। परंतु अपनी दूसरी राशि वाले घर का फल अवश्य क्षीण कर देगा। जिस प्रकार इस मिथुन लग्न की कुंडली में शनि नवम स्थान का शुभ फल अष्टम में होने के कारण क्षीण कर देगा तथा अष्टम भाव का स्वामी होकर अष्टम भाव में ही होने के कारण अष्टम भाव सम्बंधित शुभ फल देने वाला हो जायेगा। इस प्रकार इस कुंडली के लिए शनि धर्म व भाग्य सम्बंधित पाप फल तथा अष्टम में अष्टम का मालिक होकर स्थित होने से ससुराल से अक्समात् कोई बड़ा लाभ अथवा लाटरी से धन, गढ़ा हुआ धन, बड़ा उपहार इत्यादि देने वाला हो सकता है। परंतु इस प्रकार का योग सैकड़ों में किसी एकाध कुंडली में ही होता है।

एक बात और हमेशा आप ध्यान रखें, जिस किसी की कुण्डली में अष्टमेश यदि लग्न में हो तो, उन्हें हमेशा अष्टमेश से सम्बंधी दान एवं जाप अवश्य करने चाहिये तथा इसका कोई रत्न नहीं धारणा करना चाहिये। यदि ज्योतिषीय परामर्श की आवश्यकता हो तो आप सम्पर्क करें – 09810143516, 09155669922

______________________________________

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, astroguruji.in, shukracharya.com, gurujiketotke.com पर।

कालसर्प योग

कुंडली में कालसर्प योग का क्या प्रभाव होता है? कालसर्प योग जातक पर किस प्रकार अपना शुभ या अशुभ प्रभाव डालता है ? :-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant), best top astrologer in india, best top astrologer in delhi

विविध धर्मग्रन्थों एवं शास्त्रों में सर्पदोषों का वर्णन मिलता है। वर्तमान में प्राचीन एवं नवीन ज्योतिषाचार्यों के मध्य कालसर्प योग के विषय में मन्त्रणा प्रारम्भ हो चुकी है। यदि हम प्राचीन ग्रन्थ मानसागरी, बृहज्जातक तथा बृहत्पाराशर होराशास्त्र का अवलोकन करें तो यह सिद्ध हो जाता है कि इन ग्रन्थों में कालसर्पयोग अथवा सर्पयोग का उल्लेख किया गया है।

भारतीय संस्कृति में नागों का विशेष महत्व है। प्राचीन काल से ही नागपूजा की जाती रही है। नागपंचमी का पर्व पूरे देश में पूर्ण श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। इस दिन प्रत्येक गृहस्थ घर के प्रवेशद्वार पर नाग की आकृति बनाकर पूजन करता है। इस दिन नागदर्शन को अत्यन्त शुभ माना जाता है। इन्हें शक्ति एवं सूर्य का अवतार माना गया है। मानव-सभ्यता के प्रारम्भ से ही नागों के प्रति विशेष भय की भावना रही है। भारत के प्रत्येक क्षेत्र में भगवान् आशुतोष के पूजन का विधान होता है। नाग भगवान् शिव के गले का हार हैं।

सप्ताह के सात दिनों के नाम किसी-न-किसी ग्रह के ऊपर रखे गये हैं, किंतु राहु केतु के नाम पर कोई नाम नहीं रखा गया; क्योंकि इन्हें छायाग्रह माना जाता है। इसलिये इनका प्रभाव भी परोक्ष रूप से पड़ता है। राहु का स्वभाव शनिवत् एवं केतु का मंगलवत् माना जाता है। एक शरीर के भागों में राहु को सिर एवं केतु को धड़ मानने पर सिर में विचार-शक्ति होती है, किंतु शरीर न होने पर यह स्वयं क्रिया करने में असमर्थ होता है। राहु जिस भाव में होता है, उसके भावेश, उस भाव में स्थित ग्रह या जहाँ दृष्टि डालता है उस राशि, राशीश एवं उस भाव में स्थित ग्रह को अपनी विचारशक्ति से प्रभावित कर क्रिया करने को प्रेरित करता है। केतु जिस भाव में बैठता है उस राशि, उसके भावेश, केतु पर दृष्टिपात करने वाले ग्रह के प्रभाव में क्रिया करता है। केतु को मंगल के समान मान लेने पर उसका प्रभाव मंगल के समान विध्वंसकारी हो जाता है। अपनी महादशा एवं अन्तर्दशा में व्यक्ति के कर्म को भ्रमित कर सुख-समृद्धि का हृास करता है।

राहु की महादशा बाधाकारक होती है। यहाँ विचारणीय यह है कि राहु सम्बन्धित ग्रह के माध्यम से बुद्धि को प्रभावित करता है, एवं केतु सम्बन्धित ग्रह के प्रभाव में आकर उस ग्रह के अनुिसार कार्य करवाता है।

राहु के सम्बन्ध में एक बात अवश्य विचारणीय है कि राहु जिस ग्रह के सम्पर्क में हो, उसके अंश राहु से कम होने पर राहु प्रभावी रहेगा, जबकि राहु के अंश कम होने पर उस ग्रह का प्रभाव अधिक होगा एवं राहु निस्तेज हो जायगा, उस स्थिति में कालसर्प योग का प्रभाव भी न्यूनतम रहेगा। कालसर्प योग राहु से केतु एवं केतु से राहु की ओर बनता है। यहाँ विचारणीय यह है कि राहु से केतु की ओर बननेवला योग निष्प्रभावी होता है। यह कहना उपयुक्त होता है कि केतु से राहु की ओर बननेवाले योग को कालसर्प की संज्ञा देना उपयुक्त नहीं होगा।

वैज्ञानिक रूप से यदि कालसर्प योग की व्याख्या करें तो जन्मांग-चक्र में राहु-केतु की स्थिति हमेशा आमने-सामने की होती है। जब अन्य सभी ग्रह इनके मध्य अर्थात् प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं, तब वे अपना प्रभाव त्यागकर राहु केतु के चुम्बकीय क्षेत्र से प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकते एवं राहु-केतु के गुण-दोषों का प्रभाव पड़ना इन ग्रहों पर अवश्यम्भावी हो जाता है।

राहु-केतु हमेशा वक्रगति से चलते हैं। इनमें वाम गोलार्ध एवं दक्षिण गोलार्ध दो स्थितियाँ बनती हैं। राहु का बायाँ भाग काल कहलाता है। इसीलिये राहु से केतु की ओर बननेवाला योग ही कालसर्प योग की श्रेणी में आता है। केतु से राहु की ओर बनने वाले योग को अनेक आचार्यों ने कालसर्प योग नहीं माना है। इतना अवश्य है कि कालसर्प योग का निर्माण किसी-न-किसी पूर्वजन्मकृत दोष अथवा पितृदोष के कारण बनाता है।

निम्न चक्रद्वारा कालसर्प योग को स्पष्टतः समझा जा सकता है-

उदित गोलार्ध कालसर्प योग कुंडली

अनुदित गोलार्ध कालसर्प योग कुंडली

उदित गोलार्ध कालसर्प योग जन्म से ही प्रभावी हो जाता है, जबकि अनुदित का प्रभाव गोचर में ग्रह के राहु के प्रभाव में आने पर होता है। अतः उदित का प्रभाव अधिक भयावह होता देखा गया है।

किसी जन्मांग में कालसर्प योग का निर्धारण अत्यन्त सावधानी से करना चाहिये। केवल राहु-केतु के मध्य ग्रहों का होना ही प्रर्याप्त नहीं है। यहाँ अनेक ऐसे बिन्दु हैं, जिनका ध्यान न रखें तो हमारी दिशा एवं जातक की दशा खराब होने में अधिक समय नहीं लगेगा। सर्वप्रथम यह देखें कि कालसर्प योग किस भाव से किस भावतक है एवं ग्रह का भाव कया है उस भाव में ग्रहों की क्या स्थति बन रही है? ग्रहों की युति का क्या प्रभाव पड़ रहा है। यदि राहु के साथ किसी अन्य ग्रह की युति है तो यहाँ यह भी देखना है कि युति वाले ग्रह का बल राहु से कम है या अधिक। ऐसी स्थिति है तो राहु का न केवल प्रभाव कम होगा, अपितु कालसर्प योग भंग भी हो सकता है। यही स्थिति किसी ग्रह के राहु-केतु की पकड़ से बाहर निकले पर भी हो सकती है। अतः कालसर्प का निर्धारण सतही स्तर के विश्लेषण द्वारा करना चाहिए। यह योग जातक के लिये अत्यन्त ही दुःखदायी हो सकता है।
यहाँ पर एक बात और कहने योग्य है कि कालसर्प हमेशा कष्टकारक ही नहीं होते। कभी-कभी तो ये इतने अधिक अनुकूल होते हैं कि व्यक्ति को विश्वास्तर पर न केवल प्रसिद्ध बनाते हैं। अपितु सम्पत्ति, वैभव, नाम प्रसिद्धि के देनेवाले भी बन जाते हैं। आप विश्व के महापुरूषों के जन्मांगों का अध्ययन करें तो पायेंगे कि उनकी कुण्डली में कालसर्प योग होने के बाद भी वे प्रसिद्धि के शिखर पर पहुँचे। इतना अवश्यक है कि उनके जीवन का कोई-न-कोई पक्ष ऐसा अवश्य रहा है जो अपूर्णता का प्रतीक बन गया हो। कालसर्प योग से डरने या भयाक्रान्त होने की आवश्यकता बिलकुल भी नहीं है। जन्मकुण्डली में अनेक शुभ योग जैसे पंचमहापुरूष योग, बुधादित्य योग आदि बनते हैं, जिनके कारण कालसर्प योग का प्रभाव अत्यधिक नहीं होकर अल्पकालिक होता है। यदि आप विश्व के सफलतम व्यक्तियों के जीवन का अध्ययन करें तो निश्चित ही यह पायेंगे कि उनकी कुण्डली के कालसर्प योग ने ही उन्हें इस उच्चतम शिखर पर पहुँचाया।

किसी जातक की कुण्डली में कालसर्प योग है तो यह मानकर चलिये कि परिवार के अन्य सदस्यों के जन्मांग में भी यह योग देखने को मिलेगा; क्योंकि यह अनुबन्धित ऋण है, जो हमें पूर्वजों से मिलता है, एवं इससे परिवार के सभी सदस्य किसी-न-किसी रूप में प्रभावित होते हैं। इसे ही पितृदोष का नाम दिया जाता है। कभी-कभी ऐसा देखा गया है कि ज्योतिषाचार्य द्वारा व्यक्ति इतना डरा दिया गया है कि वह ठीक ढंग से सोने भी नहीं पाता, जबकि कुंडली में कालसर्प योग था ही नहीं, या आंशिक प्रभाव पड़ रहा था, जिसका सहज निदान किया जा सकता था। अतः कालसर्प योग का निर्णय किसी योग्य एवं अनुभवी ज्योतिषी से कराकर उसका निदान करा लेना चाहिये।

आज समाज में ऐसे भी विद्वान ज्योतिषाचार्य हैं, जो अपने दीर्घ अनुभव के आधार पर सही सलाह दे रहे हैं। इस लिये अनुभवहीन ज्योतिषियों को कुंडली दिखाने से बचने का प्रयास करना चाहिये।

कालसर्प योग के प्रकार :-
ज्योतिष में 12 राशियाँ हैं। इनके आधार पर 12 लग्न होते हैं, और इनके विविध योगों के आधार पर कुल 288 प्रकार के कालसर्प योग निर्मित हो सकते हैं। प्रमुख रूप से भाव के आधार पर कालसर्प योग 12 प्रकार के होते हैं, जिसके मान एवं प्रभाव निम्नानुसार हैं-

1- अनन्त कालसर्प योग- लग्न से सप्तम भाव तक बननेवाले इस योग को अनन्त कालसर्प योग कहा जाता है। इस योग के कारण जातक को मानसिक अशान्ति, जीवन की अस्थिरता, कपटबुद्धि, प्रतिष्ठाहानि, वैवाहिक जीवन का दुःखमय होना इत्यादि प्रभाव देखने को मिलते हैं। जातक को आगे बढ़ने के लिये काफी संघर्ष करना पड़ता है। ऐसा व्यक्ति निरन्तर मानसिक रूप से अशान्त रहता है।

2- कुलिक कालसर्प योग- द्वितीय स्थान से अष्टम स्थान तक पड़नेवाले इस योग के कारण जातक का स्वास्थ्य प्रभावित होता है। जीवन में आर्थिक पक्ष को लेकर अत्यन्त संघर्ष करना पड़ता है। जातक कर्कश वाणी से युक्त होता है, साथ ही वह पारिवारिक विरोध एवं अपयशका भागी भी बनता है। योग की तीव्रता के कारण विवाह में विलम्ब के साथ विच्छेदतक भी होता रहता है।

3- वासुकि कालसर्प योग- यह योग तृतीय से नवमतक बनता है। पारिवारिक विरोध, भाई-बहनों से मनमुटाव, मित्रों से धोखा, भाग्य की प्रतिकूलता, व्यावसाय या नौकरी में रूकावटें, धर्म के प्रति नास्तिकता, कानूनी रूकावटें आदि बातें देखने को मिलती हैं। जातक धन अवश्य कमाता है, किंतु कोई-न-कोई बदनामी उसके साथ जुड़ी ही रहती है। उसे यश पद, प्रतिष्ठा पाने के लिये संघर्ष करना ही पड़ता है।

4- शंखपाल कालसर्प योग- यह योग चतुर्थ से दशम भाव में निर्मित होता है। इसके प्रभाव से व्यवसाय, नौकरी, विद्याध्ययन इत्यादि पक्षों में रूकावटें आती हैं। घाटे का सामना करना पड़ता है। वाहन एवं भृत्यों (नौकर) तथा कर्मचारियों को लेकर कोई-न-कोई समस्या हमेशा बनी रहती है। आर्थिक स्थिति इतनी अधिक खराब हो जाती है कि दिवालिया होने तक की परिस्थितियाँ आ सकती है।

5-पग कालसर्प योग- पंचम से एकादश भाव में राहु-केतु होने से यह योग होता है। इसके कारण सन्तान सुख में कमी या सन्तान का दूर रहना अथवा विच्छेद तथा गुप्तरोगों से जूझना पड़ता है। असाध्यरोग हो सकते हैं, जिनकी चिकित्सा में अत्यधिक धन का अपव्यय होता है। दुर्घटना एवं हाथों में तकलीफ हो सकती है। मित्रों एवं पत्नी से विश्वासघात मिलता है। यदि सट्टा, लाटरी, जुआ की लत हो तो इसमें सर्वस्व स्वाहा होने में देर नहीं लगती। शिक्षा प्राप्ति में अनेक अवरोध आते हैं। जातक की शिक्षा भी अपूर्ण रह सकती है। जिस व्यक्ति पर सर्वाधिक विश्वास करेंगे, उसी से धोखा मिलता है। सुख में प्रयत्न करने पर भी इच्छित फल की प्राप्ति नहीं हो पाती। संघर्षपूर्ण जीवन बीतता है।

6-महापग कालसर्प योग- छह से बारह भाव के इस योग में पत्नी-विछोह, चरित्र की गिरावट, शत्रुओं से निरन्तर पराभव आदि बातें होती हैं। यात्राओं की अधिकता रहती है। आत्मबल की गिरावट देखने को मिल जाती है। प्रयत्न करने पर भी बीमारी से छुटकारा नहीं मिलता। गुप्त शत्रु निरन्तर षड्यन्त्र करते ही रहते हैं।

7- तक्षक कालसर्प योग- सप्तम से लग्न तक यह योग होता है। इसमें सर्वाधिक प्रभाव वैवाहिक जीवन एवं सम्पत्ति के स्थायित्व पर पड़ता है। जातक को शत्रुओं से हमेशा हानि मिलती है, और असाध्य रोगों से जूझना पड़ता है। पदोन्नति में निरन्तर अवरोध आते हैं। मानसिक परेशानी का कोई-न-कोई कारण उपस्थित होता रहता है।

8-कर्कोटक कालसर्प योग- अष्टम भाव से द्वितीय भाव तक कर्कोटक योग होता है। जातक रोग और दुर्घटना से कष्ट उठाता है, ऊपरी बाधाएँ भी आती हैं। अर्थहानि, व्यापार में नुकसान, नौकरी में परेशानी, अधिकारियों से मनमुटाव, पदावनति, मित्रों से हानि एवं साझेदारी में धोखा मिलता है। रोगों की अधिकता, शल्यक्रिया, जहर का प्रकोप एवं अकाल मृत्यु आदि योग बनते हैं।

9-शंखनाद/शंखचूड़/कालसर्प योग- यह योग नवम से तृतीय भाव तक निर्मित होता है। यह योग भाग्य को दूषित करता है। व्यापार में हानि एवं पारिवारिक तथा अधिकारियों से मनमुटाव कराता है, फलतःशासन से कार्यो में अवरोध होते हैं। जातक के सुख में कमी देखने को मिलती है।

10-पातक कालसर्प योग- दशम से चतुर्थ भाव तक यह योग होता है दश भाव से व्यवसाय की जानकारी मिलती है। सन्तान पक्ष को बीमारी भी होती है। दशम एवं चतुर्थ से माता-पिता का अध्ययन किया जाता है, अतः माता-पिता, दादा-दादी का वियोग राहु की महादशा/अन्तर्दशा में सम्भाव्य है।

11-विषाक्त/विषधर कालसर्प योग- राहु-केतु के एकादश-पंचम में स्थित होने पर इस योग से नेत्रपीडा, हृदयरोग, बन्धुविरोध, अनिद्रारोग आदि स्थितियाँ बनती हैं। जातक को जन्मस्थान से दूर रहने को बाध्य होना पड़ता है। किसी लम्बी बीमारी की सम्भावना रहती है।

12- शेषनाग कालसर्प योग- द्वादश से षष्ठ भाव के इस योग में जातक के गुप्त शत्रुओं की अधिकता तो होती ही है वे जातक को निरन्तर नुकसान भी पहुँचाते रहते हैं। जिन्दगी में बदनामी अधिक होती है। नेत्र की शल्यक्रिया करवानी पड़ सकती है। कोर्ट-कचहरी के मामलों में पराजय मिलती है।

कालसर्प योग के सामान्य लक्षण:-
कालसर्प योग से जो जातक प्रभावित होते हैं, उन्हें प्रायः स्पप्न में सर्प दिखायी देते हैं। जातक अपने कार्यो में अथक परिश्रम करने के बावजूद आशातीय सफलता प्राप्त नहीं कर पाता। हमेशा मानसिक तनाव से ग्रस्त रहता है, जिसके कारण सही निर्णय लेने में असमर्थ रहता है। अकारण लोगों से शत्रुता मिलती है। गुप्त शत्रु सक्रिय रहते हैं, जो कार्यो में अवरोध पैदा करते हैं। पारिवारिक जीवन कलहपूर्ण हो जाता है। विवाह में विलम्ब या वैवाहिक जीवन के साथ विच्छेद तक की स्थितियाँ निर्मित हो जाती हैं।

सर्वाधिक अनिष्टकारी समय- जातक के जीवन में सर्वाधिक अनिष्टकारी समय निम्न अवस्था में होता है-

1- राहु की महादशा, राहु की प्रत्यन्तर दशा में अथवा शनि, सूर्य तथा मंगल की अन्तर्दशा में।

2- जीवन के मध्यकाल लगभग 40से 45 वर्ष की आयु में।

3- ग्रह-गोचर में कुण्डली में जब-जब कालसर्प योग बनता हो।

उपर्युक्त अवस्थाओं में कालसर्प योग सर्वाधिक प्रभावकारी होता है एवं जातक को इस समय शारीरिक, मानसिक पारिवारिक, आर्थिक, सामाजिक, व्यावसायिक इत्यादि क्षेत्र में कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

कालसर्प योग शान्ति के कुछ स्थान:-
1- कालहस्ती शिवमन्दिर, विरूपति।
2- त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग, नासिक।
3- त्रिवेणीसंगम, इलाहाबाद।
4- त्रियुगी नारायण मन्दिर, केदारनाथ।
5- त्रिनागेश्वर मन्दिर, जिला तंजौर।
6- सिद्धशक्तिपीठ, कालीपीठ, कलकत्ता।
7- भूतेश्वर महादेवमन्दिर नीमतल्लाघाट, कलकत्ता।
8- गरूड़-गोविन्द मन्दिर छटीकारा गाँव एवं गरूड़ेश्वर मन्दिर बडोदरा।
9- नागमन्दिर, जैतगाँव, मथुरा।
10- चामुण्डादेवी मन्दिर, हिमालय प्रदेश।
11- मनसादेवी मन्दिर, चण्डीगड़।
12- नागमन्दिर ग्वारीघाट, जबलपुर।
13- महाकालमन्दिर उज्जैन।

कालसर्प योग की शान्ति किसी पवित्र नदी तट, नदी संगम, नदी किनारे के श्मशान, नदी किनारे स्थित शिवमन्दिर अथवा किसी भी नाग मन्दिर में की जाती है। कभी-कभी देखने में आता है कि अनेक आचार्य यजमान के घरों (निवास)- में ही कालसर्प योग की शान्ति करवा देते हैं। ऐसा ठीक नहीं प्रतीत होता। रूद्राभिषेक तो घर में किया जा सकता है, किंतु कालसर्प योग की शान्ति निवास स्थल में नहीं करनी चाहिये।

राहुकृत पीड़ा के उपाय:-
यदि जन्मांग में राहु अशुभ स्थिति में हो तो उससे बचने के लिये कस्तूरी, तारपीन, गजदन्त भस्म, लोबान एवं चंदन का इत्र जल में मिलाकर स्नान करने से राहु की पीड़ा से शान्ति मिलती है। इसके लिये नक्षत्र, योग दिन, दिशा एवं समय का विशेष ध्यान रखना चाहिये। ऐसे जातक को गोमेद का दान करना चाहिये।

राहु शांति के लिए दान:-
राहु की पीड़ा के निवारण हेतु जातकों को निम्न वस्तुओं का दान बुधवार या शनिवार के दिन करना चाहिये-

1-सरसों का तेल, 2- सीसा (रांगा), 3- काला तिल, 4-कम्बल, 5-तलवार, 6-स्वर्ण, 7-नीला वस्त्र, 8- सूप, 9- गोमेद, 10-काले रंग का पुष्प, 11-अभ्रक, 12-दक्षिणा।

उपर्युक्त वस्तुओं का दान किसी शनि का दान लेने वाले को दें, अथवा किसी शिव मन्दिर, शनि मंदिर में रात्रिकाल में बुधवार या शनिवार को छोड़ दें।

कालसर्प योग शान्ति के अन्य उपाय:-
1- कालसर्प योग का सर्वमन्य शान्ति-उपाय रूद्राभिषेक है। श्रावण मास में अवश्य निर्यमित करें।

2- बहते जल में विधान सहित पूजन कर दूध से पूरितकर चाँदी के नाग-नागिन के जोड़े को प्रवाहित करें।

3- तीर्थराज प्रयाग में तर्पण एवं श्राद्धकर्म सम्पन्न करें।

4- कालसर्प योग में राहु की शान्ति का उपाय रात्रि के समय किया जाये। राहु के सभी पूजन शिव मन्दिर में रात्रि के समय या राहुकाल में करें।

5- राहु के हवन हेतु दूर्वा का उपयोग आवश्यक है। राहु के पूजन में धूप एवं अगरबत्ती का उपयोग न करें। इसके स्थान पर कपूर, चन्दन का इत्र उपयोग करें।

6- शिवलिंग पर मिसरी एवं दूध अर्पित करें। शिवताण्डवस्तोत्र का नियमित पाठ करें।

7- घर के पूजा स्थल में भगवान् श्रीकृष्ण की मोरपंखयुक्त मूर्ति का नियमित पूजन करें।

8- पंचाक्षर मंत्र का नियमित जप करें। नियमित मौली (कलावा) का दान करें, एवं बहते जल में कोयले प्रवाहित करते रहने से स्थायी शान्ति प्राप्त होती है।

9- मसूर की दाल एवं कुछ पैसे सफाई कर्मचारी को प्रातःकाल दें।

10- निम्न नवनागस्तोत्र के नौ पाठ प्रतिदिन करें-

अनन्तं वासुकिं शेषं पगनाभं च कम्बलम्।
शंखपालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा।।
एतानि नव नामानि नागानां च महात्मनाम्।
सायकांले पठेन्नित्यं प्रातःकाले विशेषतः।।

भावों के अनुसार कालसर्पयोग का निवारण :-
1- प्रथम भाव- गले में हमेशा चाँदी का चैकोर टुकड़ा धारण करें।

2- द्वितीय भाव- घर के उत्तर-पश्चिम-कोण में सफाईकर मिट्टी के बर्तन में पानी भर दें, प्रतिदिन पानी बदलें। बदले हुए पानी को चैराहे में डालें।

3- तृतीय भाव- अपने जन्मदिन पर गुड़, गेहूँ एवं ताँबे का दान करें।

4- चतुर्थ भाव- प्रतिदिन बहते हुए जल में दूध बहायें।

5- पंचम भाव- घर के ईशानकोण में सफेद हाथी की मूर्ति रखें।

6- षष्ट भाव- प्रत्येक माह की पंचमी तिथि को एक नारियल बहते हुए जल में प्रभावित करें।

7- सप्तम भाव- मिट्टी के बर्तन में दूध भरकर निर्जन स्थान में रख आयें।

8- अष्टम भाव- प्रतिदिन काली गाय को गुड़, रोटी, काले तिल एवं उड़द खिलायें।

9- नवम भाव- शिवरात्रि के दिन 18 नारियल सूर्योदय से सूर्यास्त तक 18 मन्दिरों में रखें। यदि 18 मन्दिर पास में न हों तो दुबारा उसी क्रम से मन्दिरों में दान कर सकते हैं।

10- दशम भाव- किसी महत्वपूर्ण कार्य को घर से जाते समय काली उड़द के दाने सिर से सात घुमाकर बिखेर दें।

11- एकादश भाव- प्रत्येक बुधवार को घर की सफाई कर कचरा बाहर फेंक दें। उस दिन फटा वस्त्र पहनें।

12- द्वादश भाव- प्रत्येक अमावास्या को काले कपड़े में काला तिल, दूध में भीगे जौ, नारियल एवं कोयला बाँधकर जल में बहायें।

शिवपंचाक्षर मंत्र एवं शिवपंचाक्षरस्तोत्र का नियमित जप करने एवं कालसर्प यंत्र नियमित पूजन, शिवलिंग तथा चित्र पर चंदन का इत्र लगाने से शान्ति प्राप्त होती है। लगातार 45 दिन का अनुष्ठान निश्चित शान्ति देता है। अनुष्ठान के समय अथवा मंत्र जप के दौरान केवल इत्र एवं कपूर का प्रयोग ही करें। अगरबत्ती के धुएँ एवं दीप से नागों को गर्माहट मिलती है, जिससे वे क्रोधित होते हैं, अतः इन वस्तुओं का उपयोग न करें।

शिवपंचाक्षरस्त्रोत्र :-
नागेन्द्रहराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय हेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै नराय नमः शिवाय।।
मन्दाकिनीसलिलचन्दनचर्चिताय नन्दीश्वरप्रमथनाथमहेश्वराय।
चन्दारपुष्पबहुपुष्पसुपूजिताय तस्मै मकाराय नमः शिवाय।।
शिवाय गौरीवदनाब्जवृन्दसूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय।
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय तस्मै शिकाराय नमः शिवाय।।
वसिष्ठकुम्भोभ्दवगौतमार्य – मुनीन्द्रदेवार्चितशेखराय।
चन्द्रार्कवैश्वानरलोचनाय तस्मै वकाराय नमः शिवाय।।
यक्षस्वरूपाय जटाधराय पिनाकहस्ताय सनातनाय।
व्यियाय देवाय दिगम्बराय तस्मै यकाराय नमः शिवाय।।
पंचाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेच्छिवसन्निधौ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते।।

शिवकृपा से कुछ भी अप्राप्य नहीं है। माँ नर्मदा का नाम-जप करते हुए शिवलिंग पर नर्मदाजल की निरन्तर धार छोड़ते हुए निम्न मंत्र का जप करने से कालसर्प दोष, पितृ दोष, शापित कुंडली के दोषों का पूर्णतः शमन सम्भव हो जाता है-

नर्मदायै नमः प्रातर्नर्मदायै नमो निशि।
नमोऽस्तु नर्मदे तुभ्यं त्राहि मां विषसर्पतः।।

मेरे और लेख देखें :- shukracharya.com, aap kabhavishya.in, aapkabhavishya.com, astroguruji.in, gurujiketotke.com पर भी।

नीलम Neelam धारण

नीलम कब धारण करें-

Dr.R.B.Dhawan, top, best astrologer

नीलम रत्न शनि ग्रह का रत्न है, यह रत्न नवरत्नों में से एक और मूल्यवान तथा अति प्रभावशाली रत्न है, शनि ग्रह का प्रतिनिधि यह रत्न चमत्कारी और तुरंत अपना प्रभाव प्रकट करने वाला, किस्मत पलटने की ताकत रखने वाला माना गया है।
इस रत्न के विषय में लोक मान्यता यह है कि, यह रत्न विरले ही किसी जातक को अनुकूल बैठता है। जिस किसी को अनुकूल बैठता है, उसकी किस्मत ही पलट देता है। यह रत्न रंक से राजा भी बना देता है, और अनूकूल नहीं बैठने पर राजा से रंक भी बना देता है।
मैने अनेक ऐसे जातकों को नीलम धारण करने की सलाह दी है, जिनकी जन्म कुंडली में शनि ग्रह योगकारक है, अथवा योगकारक होकर शुभ ग्रहों के साथ युति बना रहा है, या फिर योगकारक होकर शुभ स्थान में स्थित है।

वस्तुत: मैंने नीलम धारण करवाने के बाद उन जातकों के जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन देखा है। उनमें से कुछ तो आर्थिक संकट के चलते न केवल अपना व्यापार ही बंद कर चुके थे, बल्कि भयंकर कर्ज से दबे हुये भी थे, और कुछ का व्यापार बंद होने के कागार पर था। कुछ लोग ऐसे भी थे जो नौकरी-पेशा थे, और अपने अधिकारियों से तंग आकर नौकरी छोड चुके थे, उनके सामने भी भयंकर आर्थिक संकट मंडरा रहा था। ऐसी स्थिति में कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है, मैंने अपने 32 वर्ष के अनुभव से और ज्योतिष के मूल सिद्धांतों को कुंडलियों पर लागू करने के बाद ही कहा कि, जातक की कुंडली में शनि ग्रह विशेष स्थिति में स्थित है। इस लिये नीलम धारण करने से न केवल समस्या का समाधान होगा अपितु अत्यंत आर्थिक सहायता भी प्राप्त होगी।
नीलम धारण करने के मामले में पहले किसी दीर्घ-अनुभवी विद्वान ज्योतिषाचार्य से सलाह अवश्य लेनी चाहिये। क्योकि कभी-कभी शनि ग्रह का चमत्कारी रत्न ‘‘नीलम’’ शनिग्रह जैसे क्रूर स्वाभाव को भी धारक पर प्रकट कर देता है, इसी लिये विशेष परिस्थितीयों में ही तथा शनि ग्रह की अनुकूलता प्राप्त करने के लिये ‘‘नीलम रत्न’’ धारण करने की सलाह अवश्य दी जाती है।

कब धारण करें नीलम :-
नीलम के विषय में मेरा अपना पिछले 32 वर्ष का अनुभव रहा है कि, नीलम रत्न केवल वृष एवं तुला लग्न वालों को ही धारण करना चाहिये, वह भी कुंडली का पूर्ण विश्लेषण के उपरांत क्योकि तुला लग्न के लिये शनि चतुर्थेश-पंचमेश होता है, और वृष लग्न के लिये शनि नवम और दशम स्थान का स्वामी होकर योगकारक ग्रह कहलता है। परंतु वृष-तुला लग्न में जब शनि की स्थिति कुंडली के किसी केन्द्र या त्रिकोण स्थान में हो। जैसे-

1. वृष लग्न की कुंडली में नवमेश-दशमेश शनि की स्थिति यदि नवम स्थान में हो, तो (शनि इस लग्न में केन्द्र-त्रिकोण नवम-दशम दोनो स्थान) का स्वामी होगा, और नवम स्थान में स्वगृही (अपनी मकर राशि) में योगकारक स्थित में होने के कारण अत्यंत शुभ फल प्रकट करेगा। परंतु इस शुभ योग के लिये शर्त यह है कि इस स्थान में शनि के साथ कोई पाप स्थान का स्वामी ग्रह स्थित नहीं होना चाहिये, अथवा कुंडली के इस स्थान में शनि वक्री नहीं होना चाहिये। यदि शनि नवम में वक्री या किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित होगा, तब शनि रत्न नीलम का अशुभ फल होगा अथवा नीलम धारण के शुभ प्रभाव में कमी हो जायेगी। वृष लग्न की कुंडली में नवम भाव स्थित शनि के शुभ प्रभाव में कमी तब भी होती है, जब शनि ग्रह अपनी इस राशि में वाल्यावस्था, कुमारावस्था, वृद्धावस्था अथवा मृतावस्था में हो। वृष लग्न और नवम भाव में पाप युक्त या वक्री स्थिति में शनि नहीं है, तब भी अवस्था देखना आवश्यक है।

शनि की अवस्था (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा कुम्भ राशि में) –

बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

शनि की अवस्था- (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा मकर राशि में) –

मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

2. वृष लग्न की कुंडली में दशम स्थान कुम्भ राशि (मूल त्रिकोण राशि) का शनि न केवल योगकारक होता है, मकर से अधिक शुभ फल प्रदान करता है। इस कुम्भ राशि में दशम (केन्द्र) में स्थित शनि भी यदि किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित नहीं, वक्री नहीं है, और युवावस्था में भी है, शनि ग्रह शुभ व बलवान माना जाता है, और नीलम धारण करने वाले धारक को अत्यंत शुभफल की प्राप्ति होती है। परंतु यदि अवस्था में भी कमजोर हो, तो तब यह शनि का रत्न नीलम पूर्ण शुभ फल नहीं देता, अपितु नीलम धारण करने वाले को न्यून शुभफल ही प्राप्त होता है।

3. तुला लग्न की कुंडली में शनि चतुर्थ व पंचम स्थान का स्वामी होकर योगकारक होता है, इस लिये तुला लग्न वाले जातक की कुंडली में शनि की स्थिति यदि चतुर्थ या पंचम में हो, और शनि ग्रह के मार्गी तथा युवावस्था में होने पर जातक नीलम धारण करके 100 प्रतीशत शुभ फल प्राप्त करते हैं। तथा बाल्य, कुमार, वृद्ध और मृत अवस्था में अथवा शनि ग्रह का पाप स्थान के स्वामी से सम्बंध अथवा शनि के वक्री होने पर शुभ फल में कमी हो जाती है।
विशेष– वृष तथा तुला लग्न वाले जातक के लिये शनि की स्थिति इन दो स्थानों (नवम-दशम अथवा चतुर्थ-पंचम स्थान) के अतिरिक्त भी (कुंडली के अन्य भावों में) शुभ हो सकती है, परंतु वह स्थिति कितनी शुभ या अशुभ होगी, कुंडली के अन्य ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही निर्णय किया जा सकता है। अतः नीलम धारण से शुभाशुभ फल प्राप्त हो सकता है, अथवा नहीं? यदि शुभफल प्राप्त हो सकता है, तो कितने प्रतीशत? इस शुभाशुभ का निर्णय कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने के पश्चात ही हो सकता है।

Astrologer, astrological consultant, Astrological consultations- 09155669922,09810143516, http://www.aapkabhavishya.in, astroguruji.in,shukracharya.com

रोग और ज्योतिष शास्त्र

रोग और ज्योतिष शास्त्र का अध्ययन :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

ज्योतिष शास्त्र ग्रह नक्षत्रों पर आधारित एक ऐसा विज्ञान है, जो अपने आप में परिपूर्ण शास्त्र है, यही एक ऐसी विद्या है, जिसका कथन शतप्रतिशत सही हो सकता है, इसमें संभावनाओं का कोई स्थान नहीं है, इस विद्या का वास्तविक जानकार बिलकुल सटीक भविष्यवाणी कर सकता है। इस शास्त्र की सहायता से जीवन के हर अंग, हर रंग, हर भाग में घटने वाली घटना, और हर मानवीय आवश्यकता, तथा मनुष्य के हर कष्ट का निवारण तथा घटना के घटने का समय पता लगाया जा सकता है। आयुर्वेद और ज्योतिष शास्त्र, तंत्र और ज्योतिष शास्त्र इन सब का परस्पर सम्बन्ध है, बल्कि यह कहना ठीक होगा कि इन का चोली-दामन का सम्बंध है। आज से 50-60 वर्ष पहले तक भारत में 90 प्रतीशत लोग आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति पर ही निर्भर थे, उस समय के सभी आयुर्वेदाचार्य ज्योतिष शास्त्र का समुचित ज्ञान रखते थे। दरअसल आयुर्वेद में औषधि निर्माण और औषधि सेवन के लिये सम्बंधित मंत्र और सम्बंधित नक्षत्र की जानकारी होना आवश्यक था। ज्योतिषाचार्य तो जातक की कुंडली देखकर भविष्य में होने वाले रोगों की जानकारी भी प्राप्त कर लेते थे। वे जानते थे कि जातक में किस तत्व की कमी या किस तत्व की अधिकता रहेगी। दरअसल मानव जीवन के साथ ही रोग का इतिहास भी आरम्भ हो जाता है, रोगों से रक्षा हेतु मानव ने प्रारम्भ से ही प्रयास आरम्भ कर दिया था। तथा आज तक इसके निदान एवं उपचार हेतु प्रयत्न कर रहा है। जब हैजा, प्लेग, टी. बी. आदि संक्रामक रोग से ग्रस्त होकर इनसे छुटकारा पाने के लिये विविध प्रकार का अन्वेषण हुआ तो कालांतर में पुनः कैंसर एड्स, डेंगू, स्वाईन फ्लू, ओर फिर ईबोला जैसे अनेक नये रोग पैदा हो गये हैं, जिनके समाधान एवं उपचार हेतु आज समस्त विश्व प्रयत्नशील है। विडंबना है कि मनुष्य जितना ही प्राकृतिक रहस्यों को खोजने का प्रयत्न करता है, प्रकृति उतना ही अपना विस्तार व्यापक करती चली जाती है। जिससे समाधान के समस्त प्रयास विश्व के लिये नगण्य पड़ जाते हैं, इसका एक कारण मनुष्य में सदाचार का आभाव भी प्रतीत होता है। हमारे ऋषियों ने जहां अणुवाद, प्रमाणुवाद को व्याखयायित किया, अध्यात्म की गहराइयों में गोता लगाया, सांख्य के प्रकृति एवं पुरूष से सृष्टि प्रक्रिया को जोड़ा, वहीं आकाशीय ग्रह नक्षत्रों को अपनी समाधि से कोसों दूर धरती पर बैठकर वेधित किया, तथा उनके धरती पर पड़ने वाले शुभाशुभ प्रभाव को मानव जीवन तथा रोगों के साथ जोड़कर व्याखयायित भी किया। विश्व के सर्वप्राचीन ग्रन्थ ऋग्वेद से रोगों का परिज्ञान आरम्भ हो जाता है। जिसमें पाण्डूरोग, ह्रदय रोग, उदररोग, एवं नेत्ररोग आदि की चर्चा प्राप्त होती है। पौराणिक कथाओं में तो विविध रोगों की चर्चा एवं उपचार के लिये औषधि, मंत्र एवं तंत्र आदि का प्रयोग प्राप्त होता है। आर्ष परम्परा में तो रोगों के विनिश्चयार्थ ज्योतिषीय, शास्त्रीय ग्रहयोगों सहित आयुर्वेदीय परम्परा का प्रयोग दर्शनीय है। विषय को अधिक न बढाते हुए आगे की पंक्तियों में पक्षाघात और पक्षाघात के ज्योतिषीय योग लिख रहा हूं, जो मेरी ही लिखी एक पुस्तक “रोग एवं ज्योतिष” के अंश हैं :- पक्षाघात, लकवा या फालिज़ एक ऐसा रोग है जिस में शरीर के दाहिने या बायें या फिर किसी पार्शव के कुछ या सब अंग क्रियाहीन या चेतनाहीन हो जाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार यह रोग वायु के कूपित हो जाने के कारण होता है। अंग्रेजी भाषा में इसे paralysis कहा जाता है, इसमें तंत्रिका-तंत्र संस्थान nerves system के कार्य में बाधा या कार्यक्षमता की क्षीणता हो जाती है। फलित ज्योतिष की दृष्टि में तंत्रिका-तंत्र संस्थान nerves system से सम्बंधित रोगों का सूचक बुध ग्रह है। इस बुध ग्रह के कारकत्व में तंत्रिका-तंत्र तथा स्नायु प्रदेश के लिये कारक ग्रह शनि है, इस स्नायु संस्थान तथा तंत्रिका-तंत्र के बाधित होने के पीछे कुण्डली में बुध ग्रह पर शनि ग्रह का प्रभाव होता है। शनि ग्रह जब कुण्डली के बुध ग्रह पर अपना दूषित प्रभाव डाल रहा हो, तब शरीर के किसी अंग का संज्ञाहीन होना या अंगहीनता होती है। शनि ग्रह स्वंय लंगडा ग्रह माना गया है। इस के साथ-साथ कुण्डली में रोग का विचार छटे भाव या या उस भाव के कारक शनि एवं मंगल से किया जाता है। इसी प्रकार राशि वर्ग की छटी राशि कन्या भी इस रोग के निर्धारण में विचारणीय मानी जाती है। कुण्डली के आठवें और बारहवें भाव का विचार भी आवश्यक है, क्योकि इनसे यह जानने में सहायता मिलती है कि रोग दीर्घकाल तक चलेगा या अल्प काल तक? पक्षाघात paralysis या लकवा मुख्यतः एक जटिल रोग है, जातक की कुंडली मे इस रोग की कितनी संभावना है? यह जानने के लिये कुछ ज्योतिष के ग्रन्थों में ग्रहयोग वर्णित हैं- यदि कुण्डली का लग्न कन्या है, और लग्न व लग्नेश बुध अशुभ ग्रहों से पीड़ित है तो, तंत्रिका-तंत्र nerves system पर अवश्य इस रोग का आक्रमण संम्भव है। धनु या कुम्भ के मामले में भी इस रोग का आक्रमण हो सकता है। यह राशियां अशुभ ग्रहों द्वारा पीड़ित होने पर ही इस रोग की सूचना देती हैं। अशुभ शनि छटे भाव में पैर के रोग की ओर संकेत करता है, जातक लचक कर या लंगडाकर चलता है। यह पक्षाघात के अलावा जन्म से या फिर पैर में कोई गंभीर चोट लगने से भी हो सकता है। आयुर्वेद के मतानुसार इस रोग की गणना वात रोगों में की जाती है, आयुर्वेद में वात रोग लगभग 80 प्रकार के बताये गये हैं। यहां इस सम्बन्ध में अधिक न लिखकर यह कहना चाहूंगा की मेरी एक पुस्तक “रोग एवं ज्योतिष” (medical astrology) का अध्ययन अवश्य करें, जिसमें अधिकांश रोगों के ज्योतिषीय कारण या कह लीजिये रोगों के ग्रहयोग जो प्राचीन तथा नवीन खोजों पर आधारित हैं दिये गये हैं, साथ ही इन रोगों की शास्त्रीय मंत्रादि द्वारा उपचार भी यथासम्भव दिया गया है,‌ यह पुस्तक इस विषय की खोज करनेवाले विद्यार्थियों की बहुत सहायता कर सकती है। मेरे विचार से यह पुस्तक ज्योतिष का रोगात्मक अध्ययन करने वाले विद्वानों तथा खोज करने, अनुसंधान करने वालो के लिये बहुत उपयोगी सिद्ध होगी।

शुक्राचार्य संस्थान द्वारा ज्योर्तिविज्ञान के साथ साथ सरल उपाय की कुछ पुस्तकें भी प्रकाशित की गई हैं, जिन में प्रमुख हैं –

  1. गुरूजी के टोटके
  2. गुरूजी की साधनाएँ
  3. वास्तु सूत्र
  4. कैसे बदलें भाग्य
  5. दुर्लभ समृद्धि प्रदायक वस्तुयें
  6. भृगु संहिता योग एंव फलादेश
  7. लाल किताब योग एंव उपाय
  8. ज्योतिष के योग एवं फलादेश
  9. रोग एवं ज्योतिष
  10. विवाह एवं दाम्पत्य सुख

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, vaidhraj.com, shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।

कुंडली का नवम स्थान

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

सदा से ही मनुष्य की यह जानने की इच्छा रही है कि उसका भाग्य कब व कैसे उदय होगा? भविष्य कैसा होगा? वर्तमान की स्थिति क्या है? जीवन में सफलता व असफलता कब-कब व किस-किस मात्रा में प्राप्त होगी? गृहस्थ जीवन, आर्थिक स्थिति, नौकरी या व्यापार, लॉटरी आदि ऐसे भी प्रश्न हैं जिनका हल मनुष्य चाहता है, और इसके लिये वह यहाँ-वहाँ भटकता है। परन्तु इन सभी समस्याओं का हल यदि है तो वह केवल ज्योतिषी के पास।
ज्योतिषी के पास जाकर मनुष्य दो बातें जानने को विशेष ही उत्सुक रहता है- एक अर्थ व दूसरा भाग्य। मैं यहाँ इन्हीं दो भावों पर अर्थात् नवम एवं द्वितीय भाव पर ही इस लेख को केन्द्रित रखना चाहूँगा।
द्वितीय भाव से वह द्रव्य जो पैत्रिक संपत्ति के रूप में प्राप्त होता है, का ज्ञान प्राप्त हो सके अतिरिक्त इस भाव से कुटुम्ब, स्नेही, भाषण कला, सुखभोग, मृत्यु के कारण, प्रारम्भिक शिक्षा आदि का ज्ञान भी प्राप्त किया जाता है। हर उस विद्वान को जो ज्योतिष विषय में रुचि रखता हो, सर्वप्रथम निम्न बातों को अवश्य ध्यान में रखना चाहिये –

  1. दूसरे भाव की राशि।
  2. द्वितीय स्वामी व उसकी स्थिति।
  3. दूसरे भाव में स्थित ग्रह।
  4. द्वितीय या द्वितीयेश पर दृष्टि।
  5. कारक, अकारक एवं तटस्थ ग्रह।
  6. विशेष योग।
  7. मैत्री व शत्रुता।

यदि इस स्थान में मेष राशि है तो वह व्यक्ति आर्थिक मामलों में अनिश्चित रहता है। धन जिस प्रकार आता है उसी प्रकार खर्च भी हो जाता है। भाग्योदय विवाह के उपरांत होता है, परन्तु स्त्री से अनबन सदैव रहती है। इनकी प्रवृत्ति प्रदर्शनमय रहती है।
द्वितीय स्थान में वृषभ राशि होने पर अर्थ संचय होता है, पर टिकता नहीं। जीवन में कठिनाइयाँ कभी साथ नहीं छोड़तीं। जीवन में 18, 22, 24, 33, तथा 35वाँ वर्ष सफल कहा जा सकता है।
मिथुन राशि आर्थिक स्थिति को कमजोर बनाती है। जातक की भावुकता अर्थ लाभ में बाधक बनी रहती है। ये जातक व्यापार में सफल रहते हैं तथा छोटे लघु उद्योग, शिक्षा आदि के क्षेत्रों में ही सफलता प्राप्त करते हैं।
कर्क राशि कजूंसी की सूचक है। परिश्रम के अनुपात में जातक को लाभ नहीं मिलता। 20, 26, 27, 33, 34, 36, 45, 53, एवं 54वाँ वर्ष महत्वपूर्ण रहता है।
सिंह राशि द्वितीय भाव में होने पर बाल्यकाल आनन्दमय निकलता है। मध्यआयु में ये धन उड़ा देते हैं या व्यापार आदि में हानि होती है तथा भाग्य हमेशा इन्हें साथ देता है।
कन्या राशि होने पर जातक सम्पन्न नहीं होता। प्रारंभिक काल अर्थ संकट में गुजारते हुये परिश्रम से अर्थोपार्जन करते हैं। गर्म मिजाज व शीघ्र निर्णय हानि करवाता है। इन्हें व्यापार विशेष कर श्रृंगारिक वस्तुओं से लाभ होता है।
तुला राशि होने पर जातक शानो-शौकत में धन अधिक खर्च करता है, व्यापार इन्हें लाभ देता है। ये च्संद बना सकते हैं, पर निभा नहीं सकते। धन अनुचित कार्यों में व्यय होता है पर भाग्य फिर भी साथ देता है।
इस भाव में वृश्चिक राशि हो तो जातक के जीवन को डावांडोल कर देती है। नौकरी इन्हें हितकर नहीं होती। प्रवृत्ति वाणिज्य प्रधान होती है। कुटुम्ब व स्नेही ही इन्हें हानि देते हैं।
धनु राशि दूसरे घर में हो तो जातक लापरवाह होता है। साझेदारी इन्हें हानिकारक होती है। सहयोगी सदैव धोखा देते हैं। जीवन में कई उजार-चढ़ाव आते हैं। 24, 27, 28, 32, से 34, 37, 42, 48, 52, 54 तथा 58वाँ वर्ष उत्तम रहता है।
मकर राशि द्वितीय भाव में होने पर जातक सौभाग्यशाली होते हैं। ये हर योजना में सफल रहते हैं, इन्हें चाहिये कि ये स्वतन्त्र व्यापार करें।
कुंभ राशि होने पर भी जातक सम्पन्न होता है। इनकी आय के स्त्रोत कई होते हैं। पत्रकारिता, लेखन, प्रकाशन, व्यापार, राजनीति के कार्यों में लाभ प्राप्त करते हैं। अधिक विश्वासी इन्हें धोखा देता है, उत्तरार्ध जीवन को बनाता है।
मीन राशि दूसरे भाव में होने पर 22, 24, 28, 32, 33, 34, 37, 42, 48, 52, 54 एवं 55 वाँ वर्ष महत्वपूर्ण होता है। इन्हें अपने मनोभावों व विचारों पर नियंत्रण नहीं होता। ये जातक डॉक्टरी, वैद्यक दवाइयों के विक्रेता बनकर धन प्राप्त कर सकते हैं। यह धन संग्रह करने में सिद्ध हस्त होते हैं।

अब आगे की पक्तियों में द्वितीय भावस्थ ग्रहों का फल स्पष्ट करने का प्रयास करूंगा-
द्वितीय भाव में सूर्य – घन के संबंध में चिन्तित, पितृअर्जित धन नहीं मिलता, उत्तरार्ध-पूर्वाद्ध से सफल होता है। मध्यकाल में रोग, व्यापारिक कार्यों में सफल होते हैं।
द्वितीय भाव में चंद्र – सुखी, सम्पन्न, वृहद परिवार, स्त्रीपक्ष से सौभाग्यशाली, स्त्रीपक्ष के सम्पर्क से धनोपार्जन। चंद्रमा व्यक्ति को पत्रकार या लेखक बनाता है। पुस्तक व्यवसाय, प्रकाशन या लेखन से भाग्योदय होता है।
द्वितीय भाव में मंगल – दूसरे भाव में मंगल कमजोर आर्थिक स्थिति, धन गतिमान, कमजोर विद्या क्षेत्र, वार्तालाप मे पटु बनाता है। ऐसे जातक सेल्समेन बन सकते हैं।
द्वितीय भाव में बुध – कट्टर धर्म प्रिय, अर्थ संचय में प्रवीण, भाषण कला में दक्ष।
द्वितीय भाव में गुरू – दूसरे भाव में गुरू हो तो जातक धार्मिक नेता बनता है। कवि, लेखक या धर्मोपदेशक। लेखन कार्य से अर्थाेंपार्जन। सफल वैज्ञानिक हो सकता है। स्त्री पक्ष प्रबल ससुराल से अर्थ लाभ।
द्वितीय भाव में शुक्र – बड़ा परिवार, काम निकालने में चतुर, अर्थाभाव इन्हें कभी नहीं होता। ऐसे व्यक्ति डॉक्टर, वैद्य, पत्रकार या व्यवसायी होते हैं।
द्वितीय भाव में शनि – यह शुभ सूचक नहीं होता। यदि शनि स्वग्रही न हो तो जातक को धनहीन, परेशान व दुःखी करता है। धन के लिये संघर्ष करना पड़ता है। पर शनि स्वग्रही बन द्वितीय स्थानस्थ हो तो जातक का बाल्यकाल दुःख व अभाव में व्यतीत होता है परंतु युवावस्था तथा वृद्धावस्था शुभ सूचक होती है। अर्थ का आभाव नहीं रहता है।
द्वितीय भाव में राहु – जातक रोगी, स्वभाव से चिड़चिड़ा, कष्टप्रद, छोटे परिवार की स्थिति वाला होता है।
द्वितीय भाव में केतु – कटुभाषी धोखा देने वाला, दृढ़ निश्चयी। पिता की संपत्ति इन्हें कभी प्राप्त नहीं होती। उत्तरार्द्ध सुन्दर व धन सूचक। यदि सूर्य उच्च का होकर 11 वें भाव में हो तो जातक लखपति बनता है।

इस लेख से सम्बंधित प्रश्न के उत्तर के लिए comment करें |
नोट: व्यक्तिगत समस्या या कुंडली का विश्लेषण नहीं बताया जायेगा।

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.in, astroguruji.in, vaidraj.com, gurujiketotke.com, shukracharya.com पर भी।