विवाह और ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र में पति ओर पत्नी का महत्व :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

विवाह मानव जीवन का एक प्रमुख संस्कार है। विवाह के बाद एक युवक ओर युवती को आजीवन एक साथ रहना होता है। शास्त्रों में पत्नी को “अर्द्धांगिनी” कहा गया है । पति का दुःख ओर सुख पत्नी का भी दु:ख, सुख होता है, क्यों की विवाह के बाद दोनों का भाग्य एक दूसरे से जुड जाता है। कई बार देखने में आया है कि, पति कि कुण्डली में राजयोग नहीं हो ओर पत्नी कि कुण्डली में राजयोग हो तो, पत्नी के राजयोग का सुख पति को मिलता है। पति कि कुण्डली में राजयोग हो ओर पत्नी कि कुण्डली में ना हो, तथा दरिद्रता के योग बने हुये हो तो, पति कि कुण्डली का राजयोग अपना प्रभाव नहीं दिखाता है। तथा विवाह के बाद व्यक्ति कि अवनति होने लगति लगति है । क्यों कि पत्नी “अर्द्धांगिनी” है ।

पति ओर पत्नी में प्रमुख स्थान पति का है । पत्नी के लिये पति ही परमेश्वर है, लेकिन पति के लिये पत्नी परमेश्वरी नहीं है। बल्कि घर की लक्ष्मी बनती है। पत्नी को गृहलक्ष्मी इसलिये ही कहा गया है । क्यों कि विवाह के बाद पत्नी का 100% भाग्य पति से ही जुड जाता है । ज्योतिष शास्त्र में अनेक स्थान पर “स्त्री सुख” के योग बताये गये हैं। लेकिन “पति सुख” नाम का कोई योग कहीं नहीं है । स्त्री का जब पुरूष के जीवन में प्रवेश होता है, तब पुरूष के जीवन में बहुत तेजी से आश्चर्यजनक परिवर्तन होते हैं, यह स्त्री दोस्त, प्रेमिका, ओर पत्नी इन तीन रूपों में पुरूष के भाग्य को प्रभावित करती है । लेकिन पुरूष का भाग्य पत्नी के भाग्य को प्रभावित नहीं करता है । क्यों कि पति को पत्नी कि प्राप्ति भाग्य से ही होती है । इस के पीछे पौराणिक सिद्धांत यह है कि, पत्नी पति को दान में मिलती है । शास्त्रों में पत्नी को गृहलक्ष्मी तो कहा है, लेकिन पुरूष को नारायण नहीं कहा गया। (वेसे तो यह सारा संसार ही नारायण स्वरूप है, परंतु यहाँ चर्चा केवल पति ओर पत्नी कि है) उपरोक्त बातों का सार यही है कि, पत्नी का भाग्य पति को प्रभावित करता है, लेकिन पति का भाग्य पत्नी को प्रभावित नहीं करता है। कन्या के भाग्य में अगर राजयोग है, ओर उसका विवाह किसी दरिद्र से भी कर दिया जाये तो, वह दरिद्र 100% पत्नी के राजयोग का सुख भोगेगा, क्यों कि वह पति के लिये लक्ष्मी बनकर आई है, और यदि पत्नी कि कुण्डली में दु:ख लिखा है तो, वह राजा के घर में जाकर भी सुख नहीं भोग पायेगी। हमने बहुत बार देखा है :–

1. कन्या कि सगाई लडके से होते ही लडके का भाग्योदय होते हुए देखा है ।
2. विवाह के 1-2 दिन बाद ही पति कि मृत्यु भी देखी है ।
3. कन्या कि सगाई लडके से होते ही लडके को राजकीय नौकरी मिलते भी देखा है ।
4. विवाह के बाद पति के पतन ओर उन्नति दोनों को देखा है ।
या तो पति कि लाइफ बन जाती है, या खराब हो जाती है ।
अगर दोनों कि कुण्डली में साधारण ही योग हों तो दोनों साधारण स्तर का जीवन व्यतीत करते हैं।

पत्नी अगर धन कमाने में सक्षम मिलति है तो, पत्नी का कमाया हुआ सारा धन पति के ही काम आता है । अगर पत्नी एकाधिकार जमाये तो रिश्ता खराब हो जायेगा । पति का स्वयं के धन से केवल पत्नी कि जरूरतों को पूरा करता है । पति के बिना पत्नी का कोई अस्तित्व नहीं है, लेकिन पत्नी के बिना पति पर कोई विशेष फर्क नहीं पडता है । क्यों कि प्राचीन समाज में विधवा स्त्री को हेय कि दृष्टि से देखा जाता था, लेकिन विधुर पुरूष को दूसरा विवाह करने का अधिकार था । पत्नी के लिये पति ही परमेश्वर है, ओर जहाँ जहाँ पत्नी ने परमेश्वरी बनने का प्रयत्न अर्थात स्वयं को पति से श्रेष्ठ साबित करने का प्रयत्न किया है, उस स्थान कि सुख-शान्ति, चैन छिनकर उस कुल का विनाश हुआ है, ओर इसी प्रकार जब जब पति ने निर्दोष पत्नी पर अत्याचार किया है, तब तब पति कि दुर्गति होकर वह निर्धनता को प्राप्त हुआ है। तथा जिवित रहते हुए तथा मृत्यु के बाद ऐसा पति घोर नरक कि यातनाओं को भोगता है ।
नोट:– यह उपरोक्त्त विचार लेखक के अपने विचार नहीं हैं, यह पौराणिक विचार हैं।

मंगल और मांगलिक :-

वर या वधु किसी एक की कुंडली में मंगल का सप्तम में होना और दूसरे की कुंडली में 1,4,7,8 या 12 में से किसी एक में मंगल का नहीं होना पति या पत्नी के लिये हानिकारक माना जाता है, उसका कारण होता है कि पति या पत्नी के बीच की दूरिया केवल इसलिये हो जाती हैं क्योंकि पति या पत्नी के परिवार वाले जिसके अन्दर माता या पिता को यह मंगल जलन या गुस्सा देता है, और अक्सर पारिवारिक मामलों के कारण रिस्ते खराब हो जाते हैं, पति की कुंडली में सप्तम भाव मे मंगल होने से पति का झुकाव घर की बजाय बाहर वालो में अधिक होता है, पति के अन्दर अधिक गर्मी के कारण किसी भी प्रकार की जाने वाली बात को धधकते हुये अंगारे की तरह माना जाता है, जिससे पत्नी का ह्रदय बातों को सुनकर विदीर्ण होता है, कभी कभी तो वह मानसिक बीमारी की शिकार हो जाती है, उससे न तो पति को छोडा जा सकता है, और ना ही ग्रहण किया जा सकता है, पति की माता और पिता को अधिक परेशानी हो जाती है, माता को तो कितनी ही बुराइयां पत्नी के अन्दर दिखाई देने लगती है, वह बात बात में पत्नी को ताने मारने लगती है, और घर के अन्दर इतना गृहक्लेश बढ जाता है कि पिता के लिये असहनीय हो जाता है, पत्नी के परिवार वाले सम्पूर्ण जिन्दगी के लिये पत्नी को अपने साथ ले जाते है। पति की दूसरी शादी होती है, और दूसरी शादी का सम्बन्ध अक्सर कुंडली के बारहवें भाव से होने के कारण बारहवें से सप्तम् ‘षष्ठ’ शत्रु भाव होने के कारण दूसरी पत्नी का परिवार पति के लिये चुनौती भरा हो जाता है, और पति के लिये दूसरी पत्नी के परिजनों के द्वारा किये जाने वाले व्यवहार के कारण वह धीरे धीरे अपने कार्यों से अपने व्यवहार से पत्नी से दूरियां बनाना शुरु कर देता है, और एक दिन ऐसा आता है कि, दूसरी पत्नी पति पर उसी तरह से शासन करने लगती है जिस प्रकार से एक नौकर से मालिक व्यवहार करता है, जब भी कोई बात होती है तो पत्नी अपने बच्चों के द्वारा पति को प्रताडित करवाती है, पति को मजबूरी से मंगल की उम्र निकल जाने के कारण सब कुछ सुनना पडता है। यह एक साधारण फलित है। जातक सुख के पीछे भाग दौड़ करता रहता है, ओर सुख आगे आगे भागता रहता है, दोनों का संग ही नही हो पाता, ओर जिन्दगी के सारे मुकाम बीत जाते हैं फिर जातक बुढ़ापे जैसे रोगो की लपेट में आपने आप को जकड़े हुये बेबस ओर लाचार महसूस करते पाया जाता है।

अब कुछ विवाह विलंब के योग :-

1. सप्तमेश वक्री होकर बैठा हो एंव मंगल आठवें भाव में हो तो विवाह विलंब के योग बनते हैं, इस योग में जन्मे जातक का विवाह प्राय: अति विलंब से ही संभव है, अर्थात् विवाह योग्य आयु निकल जाने के बाद ही वैवाहिक कार्य सम्पत्र होता है।

2. लग्न, सांतवां भाव, सप्तमेश व शक्र स्थिर राशि- वृष, सिंह वृश्चिक और कुंभ में स्थित हो तथा चंद्रमा चार राशि- मेष, कर्क, तुला और मकर में हो तो यह योग बनता है। ऐसे जातक का विवाह भी अति विलंब से ही सम्पत्र होता है। यदि उपरोक्त योग का कहीं भी शनि से संबंध बन जाए तो जीवन के पचासवें वसंत व्ययतीत होने के बाद ही जातक का वैवाहिक संयोग बनते हैं।

3. सप्तमेश सप्तम भाव से यदि छठें, आठवें एंव बारहवे स्थान पर हो तो भी विवाह विलंब के योग निर्मित होते है। इस योग में जन्मे जातक का विवाह भी अति विलंब से ही संभव हो पाता है। अर्थात् विवाह योग्य आयु निकल जाने के बाद ही वैवाहिक संयोग निर्मित होते है।

4. सप्तमेश यदि शनि से युक्त होकर बैठा हो या शनि शुक्र के साथ हो या शुक्र द्वारा दृष्ट हो तो यह योग निर्मित होता है। इस योग में जन्मे जातक का विवाह भी पर्याप्त विलंब से संभव होता है। अर्थात विवाह योग्य आयु व्ययतीत होने के बाद ही वैवाहिक संयोग निर्मित होते है।

5. यदि शुक लग्न से चौथे स्थान में तथा चंद्रमा छठे, आठवें और बारहवें स्थान में हो तो यह योग निर्मित होता है। इस योग में जन्मे जातक का विवाह भी पर्याप्त विलंब से ही संभव होता है। अर्थात् विवाह योग्य आयु निकल के बाद ही वैवाहिक कार्य संभव होता है।

6. राहु और शुक्र लग्न में तथ मंगल सातवें स्थान में हो तो यह येाग बनता है। इस योग में जन्मे जातक का विवाह भी विलंब से सम्पत्र होता है। अर्थात् विवाह योग्य आयु निकल के बाद ही जातक वैवाहिक डोर में बंधते हैं।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, shukracharya.com पर भी।

Best Astrologer in Delhi, top Astrologer in Delhi, experience Astrologer in Delhi

Advertisements