प्रेम रोग, Prem rog

प्रेम रोग और शुक्र ग्रह (ज्योतिष में प्रेम का कारक ग्रह शुक्र को माना गया है।

Dr.R.B.Dhawan, top best astrologer in Delhi, astrological consultant.

आजकल चारों ओर योग की चर्चा हो रही है। इसके ठीक विपरीत भोग के लिए भी कानून सरल हो गये हैं, विपरीत लिंग के प्रेम पाश में बंधे कुछ युवक-युवती पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित होकर दैहिक सुख के भंवर में फंस जाते हैं, उन्हें लगता है कि जीवन में उसे आत्मसंतुष्टि प्राप्त हो यही जीवन का उद्देश्य है। कुछ लोगों का कहना है की भोग भी इसी योग का ही एक स्वरूप प्रेम है। तर्क दिया जाता है कि भगवत प्राप्ति के लिए भी प्रेम आवश्यक है, कहा भी है –

मिलहिं न रघुपति बिनु अनुरागा।
किये जोग तप ग्मान विराग।।

योग, तप, ज्ञान और वैराग्य में भी यदि प्रेम का पुट नहीं हो तो, भगवद् प्राप्ति नहीं होती। प्रेम का जब प्रथम बार हृदय में प्रवेश होता है तो, प्रत्येक जीव एक विशेष ऊर्जा से आहत हो जाता है। अपने प्रेमी के दर्शन न होने पर वह इतना व्याकुल हो जाता है कि, उसे कहीं भी चैन सुख नहीं मिल पाता। चाहे प्रेम का स्वरूप कोई भी हो। मीरा के प्रेम का स्वरूप पूर्णतः आध्यात्मिकता से प्रेरित था फिर भी मीरा कहती थी-

हे री मैं तो प्रेम दिवानी मेरो दरद न जाने कोय।
घायल की गति घायल जाने और न जाने कोय।
मीरा री प्रभु परी मिटेगी जब वैध सांवरो होय।

वर्तमान में भी इस प्रकार के प्रेम का स्वरूप कहीं-कहीं प्रतीत होता है, लेकिन अधिकांश तथा मात्र धोखा ही नजर आता है। पश्चिमी सभ्यता एवं संस्कृति के प्रभाव के कारण वर्तमान में प्रेम सिर्फ दिल्लगी बनकर रह गया है। अर्थात एक से बिछुड़ना दूसरे से जुड़ना, (अफेयर्स और ब्रेकप) इस प्रकार से क्रम चलता रहता है, एवं जिंदगी गुजरती रहती है। पुराने वस्त्र उतार कर जिस प्रकार नये वस्त्र धारण किये जाते हैं, उसी प्रकार इसका स्वरूप भी बन गया है। इसी प्रेम के स्वरूप को समझने हेतु हम ज्योतिष शास्त्र की शरण में जाए तो हमें कुछ संकेत अवश्य प्राप्त होंगे कि जातक का प्रेम स्वच्छ एवं निर्मल है, अर्थात पूर्णतः पवित्र मन से प्रेरित है, या कामवासना से प्रेरित है।
ज्योतिष में शुक्र को प्रेम का स्थायी कारक माना गया है। जन्मांग चक्र का पंचम भाव प्रेम का आधिपत्य की सूचना देता है, पंचम से पंचम अर्थात नवम भी प्रेम का भाव है। चतुर्थ भाव हृदय का, तृतीय भाव जातक की इच्छा का तो एकादश भाव सर्वविधि लाभ का एवं अष्टम कामेन्द्रियों का और द्वादश स्थान काम वासना की संतुष्टि का भाव माना जाता है। ग्रहों में चन्द्र को चंचल एवं मन का कारक भाव माना जाता है। शुक्र प्रेम तथा कामेच्छा को पैदा एवं मंगल काम वासना को ऊर्जा देता है, बृहस्पति शुद्ध आध्यात्मिकता का एवं शनि ग्रह वैराग्य व राहु, केतु विजातीय स्वभाव के ग्रह होने से विजातीय संबंधों को दर्शाते हैं। इन कारकों और कुंडली के ग्रहों की परस्पर युति एवं दृष्टि पर ही शु़क्र अर्थात प्रेम का स्वरूप निर्धारित होता है। शुक्र की युति किस भाव में एवं किस ग्रह के साथ है, शुक्र पर किस ग्रह की दृष्टि है, आदि स्थितियां प्रेम के स्वरूप को नियंत्रित एवं नियमित करती है।

विभिन्न ग्रहों की शुक्र से युति एवं प्रेम का स्वरूप :-

सूर्य एवं शुक्र की युति होने पर जातक अपने प्रेम में प्रतिष्ठा को महत्वपूर्ण मानता है। उसका प्रेम हमेशा अपने से उच्च स्तर के लोगों से प्रेरित होता है, उनसे सुख प्राप्त करने की कोशिश भी करता है। लग्न से पंचम, नवम या दशम से युति होने पर प्रेमी से मान- सम्मान एवं सुख की प्राप्ति बिना किसी परेशानी के प्राप्त हो जाती है, लेकिन अन्य भावों में युति होने पर संघर्ष प्रेम प्राप्ति हेतु बना रहता है।
चन्द्र एव शुक्र की युति होने पर जातक प्रेम के मामले में चंचल रहता है। विशेष रूप से जब दोनों में से कोई एक लग्नेश हो या लाभ भाव में युति हो। लाभ भाव में युति होने एवं दोनों में से कोई एक अष्टम या द्वादश का स्वामी भी हो तो ऐसा जातक शारीरिक सुखी की प्राप्ति होने तक ही प्रेम संबंध रखता है। अन्य भावों में युति होने पर भी जातक प्रेम संबंधाें को स्थायी नहीं रख पाता दशम या द्वादश से युति हो तो, विदेशी स्त्रियों से प्रेम करवाकर आर्थिक सुख भी देता है।
मंगल व शुक्र की युति होने पर जातक का प्रेम वासना से युक्त होता है। वासना पूर्ति हेतु प्रेम परिवर्तन होता रहता है, लग्न में यदि युति बन रही हो तो, ऐसा जातक सभी सीमाएं पार कर व्याभिचारी बन जाता है। सप्तम या अष्टम में होने पर वासना पूर्ति हेतु अपने चारित्रिक पतन को बढ़ाता है एवं दु:ख प्राप्त करता है।
बुध व शुक्र की युति होने पर जातक-जातिका का प्रेम राजकुमार की भांति होता है। ऐसा जातक प्रेम के मामले में किसी की दखलांदाजी पसंद नहीं करता है, एवं प्रेम की स्थिति अनुसार परिवर्तित भी कर लेता है। ऐसे जातक रोमांटिक प्रेमी होते हैं। प्रेम को रोमांच मानकर चलना इनकी नियति बन जाती है। सप्तम में युति होने पर जातक अपनी महिला मित्र का पूर्णतया सुखोपभोग करने में कुशल रहता है।
बृहस्पति एवं शुक्र की युति होने पर प्रेम में सौंदर्य, सौशिष्यता, आध्यात्मिकता व दार्शनिकता का प्रभाव देखने को मिलता है। बृहस्पति व शुक्र दोनों धन के कारक हैं। इसलिए आर्थिक स्तर, ज्ञान से प्रभावित होकर प्रेम का आविर्भाव होता है। इस प्रकार की युति जातक को पूर्णतः धन, मान, सम्मान एवं आत्म स्वाभिमान को जागृत करने वाली होती है।
शनि, राहु व केतु से यदि शुक्र की युति बन रही हो तो, प्रेम अन्य वर्गों से होता है। प्रेम विजातीय स्वरूप का हो जाता है। ऐसा जातक भोगी एवं व्याभिचारी होता है। विषय लाभ की प्राप्ति के लिए हमेशा आतुर रहता है। उसका प्यार बिना द्वंद्व वाला एवं जल्दी ही प्रचारित हो जाता है। राहु की युति प्रेम के लिए पृथक्कता का वातावरण निर्मित करवाती है, तो केतु से युति होने पर प्रेम संबंध घनिष्ठ बनाने हेतु जातक को प्रेरित करती है।
इन युतियों के होने पर भी पूर्णतः प्रभाव कभी कभार नहीं दिखता क्योंकि जब शुक्र से युति कारक ग्रह की शुक्र से अंशात्मक दूरी अधिक हो तो, जातक के प्रेम में उस ग्रह संबंधी भावों, विशेषताओं का स्पष्ट एवं पूर्णतः प्रभाव दृष्टिगोचर होगा। लेकिन दूरी होने पर प्रभाव का असर तो रहेगा, लेकिन जातक की प्रेम को अभिव्यक्त करने की क्षमता कम होगी। प्रेम के स्वरूप को पूर्णतया प्रकट करने की जातक की अभिलाषा मूर्त रूप नहीं ले पाएगी। जातक के अन्तर्मन पर ही इसका प्रभाव अधिक होगा। बाह्य मन पर एवं व्यवहार पर नहीं।

———————————————

अधिक जानकारी के लिए अथवा ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- गुरू जी के कार्यालय में सम्पर्क करें :- 011-22455184, 09810143516

गुरू जी के लेख देखें :- aap ka bhavishya.com, astroguruji.in, aap ka bhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan@wordpress.com, guruji ke totke.com.

Astrological products and astrology course के लिए विजिट कीजिए :- shukracharya.com

मेरे और लेख देखें : aap ka bhavishya.in, AAP ka bhavishya.com, astroguruji.in

Advertisements

सिंह राशि और प्रेम सम्बन्ध

सिंह राशि वालों का प्रेम सम्बंध व वैवाहिक जीवन कैसा होता है, इस लेख के माध्यम से बताया गया है :-

Dr.R.B.Dhawan (top best astrologer in delhi)

सिंह राशि भचक्र में 120 अंश से 150 अंश तक होती है। यह अग्नि तत्व की स्थिर राशि है। सिंह राशि का प्रतीकात्मक चिन्ह भी सिंह (शेर) है। इस राशि का स्वामी ग्रह सूर्य होता है। सिंह राशि के पुरूषों की बात की जाय तो ये अपनी प्रेमिका को यह बात मनवाने में कामयाब होते हैं कि वे उसके लिये सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति है। ये बनावटी प्रेम को पसंद नहीं करते बल्कि ये प्रेम में स्वाभाविक आनंद और खुशी तलाशते हैं। वैवाहिक और पारिवारिक जीवन में इनकी यही विशेषता इनको सबसे अलग व्यक्तित्व वाला सिद्ध करवाती है। ये अपने बच्चों और पत्नी के लिये सभी सुख सुविधाओं का प्रबंध करते हैं। ये भी परिवार के द्वारा मिलने वाले सुखों को ही अपने जीवन का आधार मानते हैं।

यदि कभी ऐसा हो कि इन्हें परिवार या प्रेमिका का प्रेम न मिले तो ये बड़े उदास हो जाते हैं। ये स्वाभाविक और उन्मुक्त प्रेम कि इच्छा रखते हैं। अतः एक पत्नी के रूप में इनका साथ निभाना आसान काम नहीं है। ऐसे में यदि इनकी पत्नी एक बार इनके गुणों और स्वभाव को अपने भीतर आत्मसात कर ले तो फिर जीवन भर वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है। यदि ये प्रेम में एक बार धोखा खा गये या असफल हो गये तो दोबारा प्रेम प्रसंगों में पड़ने से ये हिचकिचाते हैं, और कुछ हद तक प्रेम प्रसंगों के प्रति घृणा के भाव रखने लगते हैं।

सिंह राशि वाली स्त्रियाँ :- अपने प्रेमी के प्रति बड़ी उदारता का भाव रखती हैं। सिंह राशि वाली स्त्रियाँ बड़े सुलझे हुये विचारों वाली होती हैं, परन्तु प्रेम के मामलों में ये आसानी से फंस जाती हैं। अतः कुछ मामलों में इन्हें मायूसी भी हाथ लगती है। ये स्वच्छ हृदय, सरल और उदार स्वभाव, भावुक और उन्मुक्त स्वभाव वाली होती हैं। ये अपने प्रेमी के प्रति सदैव वफादार रहती हैं। अतः ये एक आदर्श प्रेमिका साबित होती हैं। ये एक उत्तम पत्नी भी होती हैं ये अपने चाहने वाले को उसकी चाहत से बढ़कर प्यार करने वाली होती हैं। इनके प्रेम में गहराई और विश्वसनीयता होती है। ये पूर्ण उत्साह के साथ सदैव सहयोग के लिये तत्पर रहती है। अपने पति के व्यापार व्यवसाय में ये सदैव सहयोग देने के लिये तैयार रहती हैं। ये अपने पति और परिवार दोनों से बहुत प्यार करती हैं। ये इनकी परेशानियों को भी अपने ऊपर लेने को तैयार रहती हैं। परन्तु फिर भी इन्हें कभी-कभी ऐसा लगता है कि इनके प्यार के बदले जो प्यार घर परिवार से इन्हें मिल रहा है वो कुछ कम है।

सिंह और मेष राशि प्रेम:- मेष राशि वाले आपके लिये एक अच्छे जीवन साथी सिद्ध हो सकते हैं। इनके साथ होने से आप स्वयं को गौरवान्ति अनुभव करेंगे। इनसे आपको सुख और उत्साह मिलेगा। विवाह के बाद ये आपके प्रतिपूर्ण जिम्मेदार रहेंगे। अतः ये आपके लिये अच्छे जीवन साथी हो सकते हैं।

सिंह और वृष राशि प्रेम:- वृष राशि वालोें के साथ आप स्वयं को अधिक सुखी अनुभव नहीं करेंगे। इनके साथ का वैवाहिक जीवन आपको संघर्ष पूर्ण लगेगा। इनके साथ रहते हुये आप अपने आपको पुराने और रूढ़िवादी विचारों से घिरा हुआ महसूस करेंगे। दोनों की पसंद न पसंद भी अलग हो सकती है अतः वैवाहिक जीवन को व्यवस्थित करने में आपको कठिनाई होगी।

सिंह और मिथुन राशि प्रेम:- मिथुन राशि वाले आपके लिये एक अच्छे जीवन साथ सिद्ध हो सकते हैं। इनकी आदत सदैव प्रसन्न रहने और हंसने खिलखिलाने की होती है, जो आपकी भी पसंद आयेगी। ये आपके आस-पास कुछ ऐसा माहौल निर्मित करेंगे जिससे आपको लगेगा कि ये आपसे बहुत प्यार करते हैं। इनका स्वभाव उतावला और शीघ्र निर्णय लेने वाला होता है। कभी-कभी आपको ऐसा भी लग सकता है कि इनका सम्बंध आपके अलावा भी कहीं है कि इनका सम्बंध आपके अलावा भी कहीं है परन्तु इसकी सत्यत, कुण्डली के अन्य योगों पर निर्भर करती है, फिर भी इनके साथ आपका वैवाहिक जीवन सफल रहेगा।

सिंह और कर्क राशि प्रेम:- इनके साथ आपका वैवाहिक जीवन सफल रहेगा इसमें संदेह है। इनके प्रति आपका आकर्षण जीवन साथी के रूप में न रहकर मित्रवत् रह सकता है। जब आप घर के अलावा अन्य बातों में रूचि लेंगे उस समय इनको आपत्ति रह सकती है। इन सब कारणों से बड़ी कठिनाई के बाद ही इनके साथ आपका वैवाहिक जीवन सफल हो पायेगा।

सिंह और सिंह राशि प्रेम:- एक-दूसरे की तकरीबन सभी आदतें समान होना ही अनेक कठिनाइयों का उद्गम स्रोत है। आप लोग एक-दूसरे से जल्दी ही ऊबने लगेंगे। दोनों में ही अभिमान और स्वतंत्र रहने की आदत पाई जायेगी अतः एक-दूसरे की बात आप लोग मानेंगे, इसमें संदेह है। दोनों ही मेहनत वाले कामों से बचना चाहेंगे। दोनों ही एक दूसरे पर हावी होना चाहेंगे अतः इन कारणों से आपके बीच एक वैचारिक खाई तैयार हो जायेगी। विवाह के बाद दोनों ही यदि संयमी और सहनशील हो जाते हैं तभी वैवाहिक जीवन सफल हो सकता है।

सिंह और कन्या राशि प्रेम:- कन्या राशि वालों के साथ आपके वैवाहिक जीवन को अधिक सुखी वही कहा जायेगा। आप उनके प्रति जितना आकर्षित रहेंगे वे आपके प्रति उससे बहुत कम आकर्षण रखेंगे। आपके अधिक प्यार के बदले आपको बहुत कम प्यार मिलेगा। इन सब कारणों से आपको आत्मिक कष्ट होगा। इतने पर भी आप उनकी आलोचना नहीं करेंगे जबकि वो आपको नसीहत देते रहेंगे। ये सब होने पर आप मायूस होकर गलत दिशा में भी सोच सकते हैं। इन सब कारणों से इनके साथ आपके वैवाहिक जीवन को सफल नहीं कहा जायेगा।

सिंह और तुला राशि प्रेम:- तुला राशि वालों के साथ आपका वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। ये आपके प्रति बहुत आकर्षण का भाव रखते हैं। इनके अंदर कई ऐसे गुण मौजूद होते हैं जिन्हें आप बहुत पसंद करते हैं। ये मृदुभाषी, स्नेही, सजग और सदैव प्रसन्न रहने वाले होते हैं। ये जीवन के प्रत्येक पहलू को ध्यान में रखकर काम करते हैं। जिसके कारण जीवन में आनन्द बना रहता है। प्रेम और अंतरंग सम्बंधों को ये जीवन का महत्वपूर्ण पहलू समझते हैं इन सब कारणों से आपका जीवन सुखी रहेगा।

सिंह और वृश्चिक राशि प्रेम:- वृश्चिक राशि वालों के साथ आपके वैवाहिक जीवन को अधिक सुखी नहीं कहा जायेगा। यद्यपि ये आपके प्रति अधिक आकर्षित रहते हैं परन्तु फिर भी आप में अभिमान या स्वाभिमान सम्बंधी पेरशानियाँ उत्पन्न हो सकती हैं। जीवन की गाड़ी सहजता से चलेगी इसमें संदेह होता है। अतः आपका वैवाहिक जीवन उसी स्थिति में सुखी रह सकता है जब आप लोग अभिमान का त्याग कर एक दूसरे के आगे झुकना चाहेंगे।

सिंह और धनु राशि प्रेम:- धनु राशि वालों के साथ आपका वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। ये आपके प्रति सहजता से आकर्षित होते हैं। धनु राशि वाले बड़े संवेदनशील और उदार मन के होते हैं। इनकी आदत किसी पर धौंस जमाना या नुकसान पहुँचाना नहीं होती। इनकी आदतें आपको बहुत पसंद आयेगी। ये आप पर पूर्ण विश्वास करते हैं तथा ये यही चाहते हैं कि आप भी इन पर पूर्ण विश्वास करें। इस प्रकार आप इनके साथ सुखी और अनन्दमयी वैवाहिक जीवन प्राप्त कर सकेंगे।

सिंह और मकर राशि प्रेम:- मकर राशि वालों के साथ आपका वैवाहिक जीवन तभी सफल होगा जब आप भी इसके लिये पूर्ण प्रयास करें। ये आपके प्रति बहुत कम आकर्षण रखते हैं, हाँ आपके अंदर वह योग्यता जरूर है जिसके कारण आप इन्हें अपने आकर्षण में बाँध सकते हैं। इनकी कुछ ऐसी पसंद या नापसंद भी हो सकती हैं जो आपके विपरीत होती है लेकिन ये उनको भी आपसे मनवाना चाहेंगे। ये सामाजिक कार्यों में भी रूचि नहीं लेते। इन सबको कारणों पर नियंत्रण पाकर ही आप इनके साथ सुखी रह सकते हैं।

सिंह और कुंभ राशि प्रेम:- कुंभ राशि वालों के साथ आपका वैवाहिक जीवन पूर्णरूपेण सफल हो, इसमें संदेह होता है। विवाह के पहले तक ये आपके प्रति बड़ा अगाध प्रेम रखते हैं परन्तु विवाह के पश्चात ये प्रेम कम और अधिकार ज्यादा जताते हैं। ये आपके स्वतंत्र प्रवृत्ति पर भी अंकुश लगाना चाहते हैं। इनका चरित्र और व्यवहार पूर्णरूपेण आपके विपरीत होता है। इन सब सफल नहीं कहा जायेगा।

सिंह और मीन राशि प्रेम:- मीन राशि वालों के साथ आपका वैवाहिक सम्बंध सामान्य कहा जायेगा। यद्यपि ये आपके प्रति अधिक आकर्षण नहीं रखते फिर भी ये आपको भरपूर प्रेम देने का प्रयास करेंगे लेकिन इनके प्रेम में आपको गंभीरता या सापेक्षता का अभाव लगेगा। यदि आप इन्हें अपने प्रभाव में रखकर प्यार से दिशा निर्देश करते हैं तो ऐसी स्थित में आपके वैवाहिक जीवन के सफल होने की सम्भावनायें बढ़ जायेगी।

——————————————————————————–

अधिक जानकारी के लिए अथवा ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- गुरू जी के कार्यालय में सम्पर्क करें :- 011-22455184, 09810143516

गुरू जी के लेख देखें :- astroguruji.in, aap ka bhavishya.in, rbdhawan@wordpress.com, guruji ke totke.com.

Astrological products and astrology course के लिए विजिट कीजिए :- http://www.shukracharya.com