धनवान बनाने वाला मंत्र

दरिद्रता को समूल नष्ट करने के लिये श्री स्वर्णाकर्षण भैरव मंत्र :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

श्री भैरव के अनेक रूप व साधनाओं का वर्णन तन्त्रों में वर्णित है। उनमें से एक श्रीस्वर्णाकर्षण भैरव साधना हैं, जो साधक को दरिद्रता से मुक्ति दिलाते हैं। जैसा इनका नाम है, वैसा ही इनके मंत्र का प्रभाव है। अपने भक्तों की दरिद्रता को नष्ट कर उन्हें धन-धान्य सम्पन्न बनाने के कारण ही इनका नाम ‘स्वर्णाकर्षण भैरव’ प्रसिद्ध है।

इनकी साधना विशेष रूप से रात्रि काल में कि जाती हैं। शान्ति-पुष्टि आदि सभी कर्मों में इनकी साधना अत्यन्त सफल सिद्ध होती है। इनके मन्त्र, स्तोत्र, कवच, सहस्रनाम व यन्त्र आदि का व्यापक वर्णन तन्त्रों में मिलता है। यहाँ पर सिर्फ मन्त्र-विधान दिया जा रहा है। ताकि जन -सामान्य लाभान्वित हो सकें।

प्रारंभिक पूजा विधान पूर्ण करने के बाद :-

विनियोग :- ॐअस्य श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव मन्त्रस्य श्रीब्रह्मा ॠषिः, पंक्तिश्छन्दः, हरि-हर ब्रह्मात्मक श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरवो देवता, ह्रीं बीजं, ह्रीं शक्तिः, ऊँ कीलकं, श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव प्रसन्नता प्राप्तये, स्वर्ण-राशि प्राप्तये श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव मन्त्र जपे विनियोगः।

ॠष्यादिन्यास :- ऊँ ब्रह्मा-ॠषये नमः – शिरसि।

ॐ पंक्तिश्छन्दसे नमः -मुखे।

ॐ हरि-हर ब्रह्मात्मक स्वर्णाकर्षण भैरव देवतायै नमः – ह्रदये।

ॐ ह्रीं बीजाय नमः – गुह्ये।

ॐ ह्रीं शक्तये नमः – पादयोः।

ॐ ॐ बीजाय नमः – नाभौ।

ॐ विनियोगाय नमः – सर्वाङ्गे।

करन्यास :– ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय – अंगुष्टाभ्यां नमः।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल बद्धाय – तर्जनीभ्यां नमः।

ॐ लोकेश्वराय – मध्यमाभ्यां नमः।

ॐ स्वर्णाकर्षण-भैरवाय नमः – अनामिकाभ्यां नमः।

ॐ मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय – कनिष्ठिकाभ्यां नमः।

ॐ महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं – करतल-कर पृष्ठाभ्यां नमः।

ह्रदयादिन्यासः- ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय – ह्रदयाय नमः।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल-बद्धाय – शिरसे स्वाहा।

ॐ लोकेश्वराय – शिखायै वषट्।

ॐ स्वर्णाकर्षण-भैरवाय – कवचाय हुम्।

ॐ मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय – नेत्र-त्रयाय वौषट्।

ॐ महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं – अस्त्राय फट्।

ध्यान-

पारिजात-द्रु-कान्तारे ,स्थिते माणिक्य-मण्डपे।

सिंहासन-गतं ध्यायेद्, भैरवं स्वर्ण – दायिनं।।

गाङ्गेय-पात्रं डमरुं त्रिशूलं ,वरं करैः सन्दधतं त्रिनेत्रम्।

देव्या युतं तप्त-सुवर्ण-वर्णं, स्वर्णाकृतिं भैरवमाश्रयामि।।

ध्यान करने के बाद पञ्चोपचार पूजन कर लें ।

मन्त्र :- ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल-बद्धाय लोकेश्वराय स्वर्णाकर्षण-भैरवाय मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं।

जप संख्या व हवन – एक लाख जप करने से उपरोक्त मन्त्र का पुरश्चरण होता है और खीर से दशांश हवन करने तथा दशांश तर्पण और तर्पण का दशांश मार्जन व मार्जन का दशांश ब्राह्मण भोजन करने से यह अनुष्ठान पूर्ण होता है। पुरश्चरण के बाद तीन या पाँच माला प्रतिदिन करने से एक वर्ष में दरिद्रता का निवारण हो जाता है। साथ ही उचित कर्म भी आवश्यक है। (साधना आरभ करने से पूर्व किसी योग्य विद्वान से परामर्श जरूर प्राप्त कर लें।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।

Advertisements

ब्राह्मण से ही पूजा-पाठ क्यों कराएं ?

ब्राह्मण के लक्षण क्या हैं ?

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

भीष्म पितामह पुलस्त्य से कुछ प्रश्न करते हैं –

१. ब्राह्मण के लक्षण क्या हैं ? :-
उत्तर :- जो‌ विद्वान ब्रह्मतत्व को जानते-समझते हैं, वह ब्राह्मण हैं। जो यम-नियम में आबद्ध है, जिसमें निरंतर उपासना व त्यागवृत्ति, सात्त्विकता एवं उदारता के गुण हैं, जो ईश्वरतत्त्व के सर्वाधिक निकट है, वह ब्राह्मण हैं। जो धर्मशास्त्र व कर्मकांड के ज्ञाता एवं अधिकारी विद्वान हैं, वह ब्राह्मण है। परंपरागत मान्यता अनुसार पूजा-पाठ करने का अधिकार उन्हें ही प्राप्त है, जो एेसे विद्वान ब्राह्मण है।

प्रश्न २:- ब्राह्मण को देवता क्यों कहा गया है ? –

उत्तर:-

दैवाधीनं जगत्सर्वं, मंत्राधीनं देवता।

ते मंत्रा विप्रं जानंति, तस्मात् ब्राह्मणदेवताः।।

यह सारा संसार विविध देवों के अधीन है। देवता मंत्रों के आधीन हैं। उन मंत्रों के प्रयोग-उच्चारण व रहस्य को विप्र भली-भांति जानते हैं, इसलिये ब्राह्मण स्वयं देवता तुल्य होते हैं।

प्रश्न ३:- ब्राह्मणों को लोक-व्यवहार में अधिक सम्मान क्यों प्राप्त है ? –

उत्तर:- निरंतर प्रार्थना, धर्मानुष्ठान व धर्मोपदेश कर के जो सम्मानित होता है, ऐसे ब्राह्मण का सम्मान परंपरागत लोक-व्यवहार में सदा सर्वत्र होता आया है।

प्रश्न ४:- यज्ञाग्नि में तिल-जव इत्यादि खाद्य पदार्थ क्यों हव्य किये जाते हैं ?

उत्तर:- आज के प्रत्यक्षवादी युग के व्यक्ति हवन में घी-तिल-जव आदि की आहुतियों को, अग्नि में व्यर्थ फूंक देने की जंगली प्रथा ही समझते हैं । प्रत्यक्षवादियों की धारणा वैसी ही भ्रमपूर्ण है जैसी कि किसान को कीमती अन्न खेत की मिट्टी में डालते हुये देखकर कृषि सिद्धांत से अपरिचित व्यक्ति की हो सकती है। प्रत्यक्षवादी को किसान की चेष्टा भले ही मूर्खतापूर्ण लगती हो, पर बुद्धिमान कृषक को विश्वास होता है, कि खेत की मिट्टी में विधिपूर्वक मिलाया हुआ उसका प्रत्येक अन्नकण शतसहस्र-गुणित होकर उसे पुनः प्राप्त होगा। यही बात यज्ञ के संबंध में समझनी चाहिये। जिस प्रकार मिट्टी में मिला अन्न-कण शत से सहस्र गुणित हो जाता है, उसी प्रकार अग्नि से मिला पदार्थ लक्ष-गुणित हो जाता है। किसान का यज्ञ पार्थिव और ज्ञानियों का यज्ञ तैजस् कहलाता है। कृषि दोनों है, एक आधिभौतिक तो दूसरी आधिदैविक। एक का फल है- स्वल्पकालीन अनाजों के ढेर से तृप्ति, तो दूसरे का फल देवताओं के प्रसाद से अनन्तकालीन तृप्ति। यज्ञ में ‘द्रव्य’ को विधिवत अग्नि में होम कर उसे सूक्ष्म रूप में परिणित किया जाता है। अग्नि में डाली हुई वस्तु का स्थूलांश भस्म रूप में पृथ्वी पर ही फैल जाता है।स्थूल सूक्ष्म उभय-मिश्रित भाग धूम्र बनकर अंतरिक्ष में व्याप्त हो जाता है, जो अंततोगत्वा मेघरूप’ में परिणित होकर द्यूलोकस्थ देवगण को परितृप्त करता है। ‘स्थूल-सूक्ष्मवाद’ सिद्धांत के अनुसार प्रत्येक अंश अबाध गति से अपने अंशी तक पहुंचकर ही रहता है। जल कहीं भी हो, उसका प्रवाह आखिरकार अपने उद्गमस्थल समुद्र में पहुंचें बिना दम नहीं लेता। यह वैज्ञानिक सूत्र स्वतः ही प्रमाणित करता है कि, अग्नि में फूंके गये पदार्थ की सत्ता समाप्त नहीं होती।

मनुस्मृति, अध्याय 3/76 में भी एक महत्वपूर्ण सूत्र है :-

‘अग्नौ प्रास्ताहुतिः सम्यग् आदित्यं उपष्ठिते’

अग्नि में विधिवत डाली हुई आहुति, सूर्य में उपस्थित होती है।

श्रीमद्भगवद्गीता, अध्याय 3, श्लोक 14-15 में भगवान श्रीकृष्ण सृष्टि चक्र व यज्ञ के बारे में कहते हैं- संसार के संपूर्ण प्राणी अन्न (खाद्य पदार्थ) से उत्पन्न होते हैं।

अग्नि की उत्पत्ति वृष्टि से होती है और वृष्टि यज्ञ से होती है, और यज्ञ (वेद) विहित कार्यों से उत्पन्न होने वाला है।

उत्तम ब्राम्हण की महिमा-

ॐ जन्मना ब्राम्हणो, ज्ञेय:संस्कारैर्द्विज उच्चते।

विद्यया याति विप्रत्वं, त्रिभि:श्रोत्रिय लक्षणम्।।

ब्राम्हण के बालक को जन्म से ही ब्राम्हण समझना चाहिए। संस्कारों से “द्विज” संज्ञा होती है, तथा विद्याध्ययन से “विप्र” नाम धारण करता है। जो वेद, मन्त्र तथा पुराण से शुद्ध होकर तीर्थस्नान के कारण और भी पवित्र हो गया है, वह ब्राम्हण परम पूजनीय माना गया है।

ॐ पुराणकथको नित्यं, धर्माख्यानस्य सन्तति:।

अस्यैव दर्शनान्नित्यं, अश्वमेधादिजं फलम्।।

जिसके हृदय में गुरु, देवता, माता-पिता और अतिथि के प्रति भक्ति है। जो दूसरों को भी भक्तिमार्ग पर अग्रसर करता है, जो सदा पुराणों की कथा करता और धर्म का प्रचार करता है, ऐसे ब्राम्हण के दर्शन से ही अश्वमेध यज्ञों का फल प्राप्त होता है।

पितामह भीष्म जी ने पुलस्त्य जी से फिर पूछा–

गुरुवर! मनुष्य को देवत्व, सुख, राज्य, धन, यश, विजय, भोग, आरोग्य, आयु, विद्या, लक्ष्मी, पुत्र, बन्धुवर्ग एवं सब प्रकार के मंगल की प्राप्ति कैसे हो सकती है? यह बताने की कृपा करें।

पुलस्त्यजी ने कहा–

राजन! इस पृथ्वी पर ब्राह्मण सदा ही विद्या आदि गुणों से युक्त और श्रीसम्पन्न होता है। इसी कारण तीनों लोकों और प्रत्येक युग में विप्रदेव (ब्राम्हण) नित्य पवित्र माने गये हैं।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com,vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com