नीलम Neelam धारण

नीलम कब धारण करें-

Dr.R.B.Dhawan, top, best astrologer

नीलम रत्न शनि ग्रह का रत्न है, यह रत्न नवरत्नों में से एक और मूल्यवान तथा अति प्रभावशाली रत्न है, शनि ग्रह का प्रतिनिधि यह रत्न चमत्कारी और तुरंत अपना प्रभाव प्रकट करने वाला, किस्मत पलटने की ताकत रखने वाला माना गया है।
इस रत्न के विषय में लोक मान्यता यह है कि, यह रत्न विरले ही किसी जातक को अनुकूल बैठता है। जिस किसी को अनुकूल बैठता है, उसकी किस्मत ही पलट देता है। यह रत्न रंक से राजा भी बना देता है, और अनूकूल नहीं बैठने पर राजा से रंक भी बना देता है।
मैने अनेक ऐसे जातकों को नीलम धारण करने की सलाह दी है, जिनकी जन्म कुंडली में शनि ग्रह योगकारक है, अथवा योगकारक होकर शुभ ग्रहों के साथ युति बना रहा है, या फिर योगकारक होकर शुभ स्थान में स्थित है।

वस्तुत: मैंने नीलम धारण करवाने के बाद उन जातकों के जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन देखा है। उनमें से कुछ तो आर्थिक संकट के चलते न केवल अपना व्यापार ही बंद कर चुके थे, बल्कि भयंकर कर्ज से दबे हुये भी थे, और कुछ का व्यापार बंद होने के कागार पर था। कुछ लोग ऐसे भी थे जो नौकरी-पेशा थे, और अपने अधिकारियों से तंग आकर नौकरी छोड चुके थे, उनके सामने भी भयंकर आर्थिक संकट मंडरा रहा था। ऐसी स्थिति में कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है, मैंने अपने 32 वर्ष के अनुभव से और ज्योतिष के मूल सिद्धांतों को कुंडलियों पर लागू करने के बाद ही कहा कि, जातक की कुंडली में शनि ग्रह विशेष स्थिति में स्थित है। इस लिये नीलम धारण करने से न केवल समस्या का समाधान होगा अपितु अत्यंत आर्थिक सहायता भी प्राप्त होगी।
नीलम धारण करने के मामले में पहले किसी दीर्घ-अनुभवी विद्वान ज्योतिषाचार्य से सलाह अवश्य लेनी चाहिये। क्योकि कभी-कभी शनि ग्रह का चमत्कारी रत्न ‘‘नीलम’’ शनिग्रह जैसे क्रूर स्वाभाव को भी धारक पर प्रकट कर देता है, इसी लिये विशेष परिस्थितीयों में ही तथा शनि ग्रह की अनुकूलता प्राप्त करने के लिये ‘‘नीलम रत्न’’ धारण करने की सलाह अवश्य दी जाती है।

कब धारण करें नीलम :-
नीलम के विषय में मेरा अपना पिछले 32 वर्ष का अनुभव रहा है कि, नीलम रत्न केवल वृष एवं तुला लग्न वालों को ही धारण करना चाहिये, वह भी कुंडली का पूर्ण विश्लेषण के उपरांत क्योकि तुला लग्न के लिये शनि चतुर्थेश-पंचमेश होता है, और वृष लग्न के लिये शनि नवम और दशम स्थान का स्वामी होकर योगकारक ग्रह कहलता है। परंतु वृष-तुला लग्न में जब शनि की स्थिति कुंडली के किसी केन्द्र या त्रिकोण स्थान में हो। जैसे-

1. वृष लग्न की कुंडली में नवमेश-दशमेश शनि की स्थिति यदि नवम स्थान में हो, तो (शनि इस लग्न में केन्द्र-त्रिकोण नवम-दशम दोनो स्थान) का स्वामी होगा, और नवम स्थान में स्वगृही (अपनी मकर राशि) में योगकारक स्थित में होने के कारण अत्यंत शुभ फल प्रकट करेगा। परंतु इस शुभ योग के लिये शर्त यह है कि इस स्थान में शनि के साथ कोई पाप स्थान का स्वामी ग्रह स्थित नहीं होना चाहिये, अथवा कुंडली के इस स्थान में शनि वक्री नहीं होना चाहिये। यदि शनि नवम में वक्री या किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित होगा, तब शनि रत्न नीलम का अशुभ फल होगा अथवा नीलम धारण के शुभ प्रभाव में कमी हो जायेगी। वृष लग्न की कुंडली में नवम भाव स्थित शनि के शुभ प्रभाव में कमी तब भी होती है, जब शनि ग्रह अपनी इस राशि में वाल्यावस्था, कुमारावस्था, वृद्धावस्था अथवा मृतावस्था में हो। वृष लग्न और नवम भाव में पाप युक्त या वक्री स्थिति में शनि नहीं है, तब भी अवस्था देखना आवश्यक है।

शनि की अवस्था (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा कुम्भ राशि में) –

बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

शनि की अवस्था- (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा मकर राशि में) –

मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

2. वृष लग्न की कुंडली में दशम स्थान कुम्भ राशि (मूल त्रिकोण राशि) का शनि न केवल योगकारक होता है, मकर से अधिक शुभ फल प्रदान करता है। इस कुम्भ राशि में दशम (केन्द्र) में स्थित शनि भी यदि किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित नहीं, वक्री नहीं है, और युवावस्था में भी है, शनि ग्रह शुभ व बलवान माना जाता है, और नीलम धारण करने वाले धारक को अत्यंत शुभफल की प्राप्ति होती है। परंतु यदि अवस्था में भी कमजोर हो, तो तब यह शनि का रत्न नीलम पूर्ण शुभ फल नहीं देता, अपितु नीलम धारण करने वाले को न्यून शुभफल ही प्राप्त होता है।

3. तुला लग्न की कुंडली में शनि चतुर्थ व पंचम स्थान का स्वामी होकर योगकारक होता है, इस लिये तुला लग्न वाले जातक की कुंडली में शनि की स्थिति यदि चतुर्थ या पंचम में हो, और शनि ग्रह के मार्गी तथा युवावस्था में होने पर जातक नीलम धारण करके 100 प्रतीशत शुभ फल प्राप्त करते हैं। तथा बाल्य, कुमार, वृद्ध और मृत अवस्था में अथवा शनि ग्रह का पाप स्थान के स्वामी से सम्बंध अथवा शनि के वक्री होने पर शुभ फल में कमी हो जाती है।
विशेष– वृष तथा तुला लग्न वाले जातक के लिये शनि की स्थिति इन दो स्थानों (नवम-दशम अथवा चतुर्थ-पंचम स्थान) के अतिरिक्त भी (कुंडली के अन्य भावों में) शुभ हो सकती है, परंतु वह स्थिति कितनी शुभ या अशुभ होगी, कुंडली के अन्य ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही निर्णय किया जा सकता है। अतः नीलम धारण से शुभाशुभ फल प्राप्त हो सकता है, अथवा नहीं? यदि शुभफल प्राप्त हो सकता है, तो कितने प्रतीशत? इस शुभाशुभ का निर्णय कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने के पश्चात ही हो सकता है।

Astrologer, astrological consultant, Astrological consultations- 09155669922,09810143516, http://www.aapkabhavishya.in, astroguruji.in,shukracharya.com

Advertisements