पितृदोष

क्या पित्तृश्राप ही पितृदोष का कारण है-

पित्तृश्राप,पितृदोष,श्राप,

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant)

Telephonic Astrological Appointment

जिस प्रकार चिकित्सा के क्षेत्र में कुछ रोग पीढ़ी-दर-पीढ़ी वंशानुसार होते हैं, उसी प्रकार पितृरी दोष भी वंशानुगत होता है। पूर्वजों के प्रति अवांछित कर्मों के फलस्वरूप पितृश्राप उनके वशंजों के जन्मांग में विद्यमान होता है। कई बार पित्तरों के श्राप के कारण पीढ़ी-दर-पीढ़ी यह श्राप पाँच-पाँच पीढ़ी तक चलता रहता है। श्राद्ध न होने के कारण भी पितृगणों का आक्रोश पितृश्राप के रूप में जन्मांग में विद्यामान होकर जातक को जीवन भर पीड़ित करता रहता है।
जिस प्रकार न्याय प्रणाली अनुसार पूर्वजों का ऋण उनके पुत्रों या वारिसों को अदा करना पड़ता है। उसी प्रकार पिछले जन्मों के अपने या पूर्वजों के दुष्ट और पाप कर्मों या अपने पिछले जन्मों के कर्मो का फल वंशजो को भोगना पड़ता है, जन्मकुंडली में यह दोष ही पितृदोष कहलाता है।

माना कि किसी व्यक्ति विशेष या परिवार में कई पीढ़ियों तक दुखःदायी अवस्थाओं से सघंर्ष करना या अकाल मृत्यु, एकाएक व्यापार में हानि आदि जैसी अन्य घटनाओं को ज्योतिष के परिप्रेक्ष्य में कई कारणों द्वारा समझाया जा सकता है। इन्हीं कारणों में से एक कारण है ‘श्राप’ अथवा पितृश्राप का विश्लेषण या इसके कुप्रभावों का निवारण का वर्णन कम ग्रन्थों में
मिलता है। वृहद पाराशर होरा शास्त्र में 14 प्रकार के श्रापों का वर्णन मिलता है। जिस में मुख्य है पितृश्राप,
प्रेतश्राप, ब्राह्मणश्राप, मातृश्राप, पत्नीश्राप, समुंद्रश्राप, गऊ हत्या श्राप, आदि-2, शास्त्रों में तो मालूम नहीं मगर 36 (छत्तीस) प्रकार के श्रापों को माना गया है। भृगु सूत्र में महर्षि मृगु के अनुसार यदि राहु किसी जातक के जन्मांक में पंचम भावस्थ हो, तो सर्प श्राप के कारण उसे पुत्र का आभाव रहता है। परन्तु राहु के अतिरिक्त अन्य ग्रहों का पंचम भाव से सम्बंध अपेक्षित है। इसी को सर्पश्राप कहते हैं। महर्षि मंत्रेश्वर के अनुसार पंचम भावस्थ राहु के संस्थित होने से प्रेत बाधा की प्रबल सम्भावना रहती है।

किसी श्राप का अशुभ प्रभाव वंश विशेष के लिए पितृदोष के रूप मैं प्रकट होकर अन्यान्य सुखों को आक्रांत और आंतकित करता है। इसलिये अकसर देखने में आता है कि, एक ही वंश के अनेक सदस्यों को परिवार में समान योग विद्यामान होता है। ‘कालसर्प योग’ भी एक प्रकार का पितृदोष ही है, जो कई पीढ़ियों तक व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करता रहता है! इस प्रकार के श्राप की मुक्ति हेतु अनेक परिहार शास्त्रोक्त हैं। जिनका गंभीरता से अनुसरण करना हितकर है। कम से कम तीन पीढ़ीयों तक श्राप का प्रभाव वंश विशेष को आंतकित और भयभीत करता है।

राहु के कारण उत्पन्न होने वाले अनेक प्रकार के श्राप हैं, जो व्यक्ति के जीवन की अनुकूलता, प्रतिकूलता में परिवर्तित करते है। राहु जैसे क्रूर ग्रह के कारण उपजने वाले श्राप के वास्तविक प्रभाव को पूर्ण रूप से समझना या समझ पाना तो सम्भव नहीं है। परन्तु कुछ निजी अनुभवों का उल्लेख हम यहाँ कर रहे हैं। फिर भी आवश्यकता होने पर आप मेरे 32 वर्षीय अनुभव का लाभ Telephonic Astrological Appointment द्वारा प्राप्त कर सकते हैं।

कुंडली में यदि राहु-शुक्र से संयुक्त होकर चतुर्थ भाव में हो तो परिवार की स्त्रियों को प्रेतबाधा या भूतबाधा व्याधि द्वारा कष्ट प्राप्त होता है। यहाँ प्रेतात्मा किसी नारी को अपना कर तरह-तरह के कष्ट पहुँचाती है।

चतुर्थ भावगत राहु और दशम भाव में मंगल का योग हो तो उस व्यक्ति के निवास स्थान को दोषयुक्त कर देता है, जहाँ पर निरन्तर हानि, बाधा, व्याधि, असफलता और चिन्ता जातक को व्याप्त रहते हैं। प्रेतबाधा की संभावना से घर के सारे वातावरण को, प्रसन्नता के, और उन्नति, समृद्धि को ग्रहण लग जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप संतति हानि अथवा धन हानि नारियों को बार-बार गर्भपात की स्थिति उत्पन्न होती है। उल्लेखनीय है कि घर में प्रेतबाधा का कारण पूर्व जन्म में मंगल दोष या यूँ कहें कि मंगल श्राप के कारण उत्पन्न होता है। जिसे जन्मांग में पितृदोष के रूप में देखा जा सकता है।

किसी भी श्राप को भलि-भाँति जानना आवश्यक है, यदि राहु का सम्बंध द्वितीय या चतुर्थ भाव से हो रहा हो या उन भावों के स्वामियों से राहु की युति हो तो कुटुम्ब में एक प्रकार का कष्ट दृष्टिगत होता है। चतुर्थ भाव के अंतर्गत पति-पत्नी और संतति को दर्शाता है। जबकि द्वितीय भाव माता-पिता, भाई-बहन, दादा-दादी, पत्नी संतान मौसा-मौसी, बुआ-फूफा, चाचा-चाची, ताऊ-ताई, मामा-मामी आदि आते हैं। द्वितीय भाव पर राहु के प्रभाव के कारण परिवार में किसी की मृत्युश्राप के कारण या प्रेतबाधा का होना संभव है। मृतक की सम्पत्ति और धन उस व्यक्ति को प्राप्त होता है। जिसके जन्मांग में द्वितीय भाव शापित होगा, उस व्यक्ति का विनाश भी इसी प्रकार की धन सम्पत्ति प्राप्त करने से होता है। सम्पत्ति का कोई सुख प्राप्त नहीं होता।

चतुर्थ भाव में राहु की स्थिति जातक को हमेशा ही आशान्त और चिंताग्रस्त रखती है। यदि यहाँ राहु के साथ शनि, सूर्य अथवा चन्द्रमा भी चतुर्थ भावगत हो तो श्राप के प्रभाव में वृद्धि होती है तथा ऐसे व्यक्ति को कष्ट, दुख, अवरोध तथा असीमित वेदना प्रदान करता है।

जब राहु किसी भाव में उसके भावाधिपति से सयुंक्त हो, तो उस भाव से सम्बन्धित श्राप अधिक मात्रा में दृष्टिगत होता है। श्राप में वृद्धि का कारण यह है कि उस भाव को राहु आक्रांत करता है, साथ में उस भाव के स्वामी या कारक को भी अपनी युति द्वारा श्रापग्रस्त करता है। अतः श्राप के अशुभ प्रभाव का स्पष्ट विस्तार का आभास होता है।

चतुर्थ भाव में राहु और चंद्रमा की युति से परिवार से श्राप का प्रभाव अवश्य होता है। द्वितीय भाव में राहु और शुक्र की युति भी श्राप प्रदर्शित करती है क्योंकि चतुर्थ भाव चंद्रमा का है और द्वितीय भाव शुक्र का है, इसलिये श्राप का प्रभाव ज्यादातर नारियों पर ही पड़ता है। कष्ट जैसे बांझपन, सन्तति हीनता, वैधव्य या व्याधिग्रस्त रहने का कारण भी सम्भव है।

शांति के उपाय:-
ग्रहयोगवशेनैव नृणां ज्ञात्वाऽनपत्यताम्।
तछोषपरिहारार्थ नागपूजा समाचरेत्।।
स्वगृह्योक्तविधानेन प्रतिष्ठा कारयेत् सुधीः।
नागमूर्ति सुवर्णेन कृत्वा पूजां समाचरेत्।।
गो-भू-तिल-हिरण्यादि दद्याद् वित्तानुसारतः।
एवं कृते त, नागेन्द्रप्रसादात् वर्धते कुलम्।।

अनपत्यता का कारण यदि सर्प श्राप हो, तो अपनी सामर्थ्य के अनुसार नागदेव की स्वर्ण की मूर्ति बनाकर प्रतिष्ठा करके उनकी पूजा करनी चाहिये। तत्पश्चात् गाय, भूमि, तिल, स्वर्ण आदि का दान करें, तो शीघ्र ही नागराज की कृपा से पुत्र उत्पन्न होकर कुल की वृद्धि करता है।

पितृश्राप का शांति उपायः-
गया में श्राद्ध करना तथा यथाचित अधिक से अधिक ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिये अथवा कन्यादान और गोदान करना चाहिये। यदि अपनी कन्या नहीं है तो किसी अन्य कन्या का विवाह में कन्यादान करें, क्योंकि संतान हीनता का पूर्ण प्रभाव होने पर कन्या या पुत्र का अभाव होगा।

मातृश्राप का उपाय:-
सेतुस्नानं प्रकर्तव्यं गायत्री लक्षसंख्यक।

रौष्यमात्रं पयः पीत्वा ग्रहदान प्रयत्नतः।।
ब्राह्मणान् भोजयेतद्धदश्वत्थस्य व्रदक्षिणाम्।

कर्तव्यं भक्तिमुक्तेन चाष्टोत्तरसहस्त्रकम।।
एवं कृते महादेवि।

श्रापानमोक्षो भविष्यति, सुपुत्रं लभते पश्चात् कुल वृद्धिश्चजायेतं।।

अर्थात:- रामेश्वरम् में स्नान, एक लाख वार गायत्री जप, ग्रहों का दान, ब्राह्मण भोजन, 1008 बार पीपल की प्रदक्षिणा करने से श्राप की शांति होकर पुत्र प्राप्ति तथा कुल की वृद्धि होती है।

भ्रातृश्राप की शांति हेतु उपाय:-
भ्रातृश्रापविमोक्षार्थ वंशस्य श्रवणं हरेः।

चान्द्रायणं चरेत् पश्चात् कावेर्या विष्णु सन्निधौ।।
अश्वत्थस्थापनं कुर्यात् दश धने्श्च दापयेत्।

पत्नी हस्तेन पुत्रेच्छुर्भूमि दद्यात् फलान्विताम्।।
एवं यः कुरूते भक्त्या धर्मपल्या समन्वितः।
ध्रुवं तस्य भवेत् पुत्रः कुलवृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- हरिवंश पुराण को श्रवण करने से भ्रातृश्राप की शांति हो जाती है। नदी तट पर या शालिग्राम के सम्मुख चान्द्रायण व्रत करने से, पीपल वृक्ष का रोपण कर पूजन करने से भी भ्रातृ श्राप की परिशांति होती है। इसके अतिरिक्त दस गायों के दान करने से तथा पत्नी के हाथों भूमिदान कराने से इस श्राप से मुक्ति होती है।

मातुलश्राप हेतु:-
बायी कूपतऽगादि निर्माणं सेतु – बन्धनम्।

पुत्र वृद्धिर्भवेतस्य सम्पदवृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- उपरोक्त मातुलदोष शमनार्थ विष्णु की स्थापना करें। कुआँ तालाब बनवाएँ। पुल का निर्माण करवायें तो पुत्र की प्राप्ति और सम्पत्ति की भी वृद्धि होती है।

पत्नीश्राप हेतु:-
श्रापमुक्त्यै च कन्यायां सत्यां तद्दानमाचरेत्।

कन्याभावे च श्री विष्णोमूर्मि लक्ष्मी समन्विलाम्। दद्यात् स्वर्णमयी विप्र दशधेनुसमन्विताम्।।
शय्यां च भूषण वस्त्रं दम्पतिम्यां द्विजन्मनाम्।

धु्रवं तस्य भवेत पुत्रो भाग्य वृद्धिश्च जायते।।

अर्थात:- यदि कन्या हो जो कन्यादान करने से तथा अपनी सामर्थ्य के अनुसार सोने की लक्ष्मीनारायण की मूर्ति तथा बछडे सहित 10 गायों, शय्या, भूषण और वस्त्र आदि ब्राह्मण को दान करने से पुत्र की प्राप्ति होती है।

प्रेतश्राप हेतु:- गया में पिण्डदान करने तथा रूद्राभिषेक करने से प्रेतश्राप की शांति होती है ब्रह्मा की सोने की मूर्ति बनवाकर गाय, चाँदी का पात्र और नीलम दान करना चाहिये एवं यथा शक्ति ब्राह्मण भोजन करवाकर उन्हें दक्षिणा दें।

ज्योतिष शास्त्र हमारे जीवन की भावी योजनाओं तथा पूर्वजन्मकृत श्राप के निवारणार्थ प्रमाणिक विज्ञान (विद्या) है, अत: श्राप सम्बंधित मार्गदर्शन भी बेहतर मिल सकता है।

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant),

Telephonic Astrological Appointment

best online astrologer, best top astrologer in delhi, best top astrologer in india

परामर्श के लिए सम्पर्क सूत्र:- 09810143516, 09155669922

————————————————

मेरे और लेख देखें :- aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, shukracharya.com, astroguruji.in, rbdhawan.wordpress.com, gurujiketotke.com, vaidhyaraj.com

नारायण नागबली

नारायण नागबली (संतान बाधा निवारण हेतु पितृ दोष का प्रभावशाली उपाय):-

Dr.R.B.Dhawan astrological consultant, top Best Astrologer in Delhi,

नारायण नागबली छविनारायण नागबलि ये दोनो अनुष्ठान पद्धतियां संतान सुख की अपूर्ण इच्छा, कामना पूर्ति के उद्देश से किय जाते हैं, इसीलिए ये दोनो अनुष्ठान काम्य प्रयोग कहलाते हैं। वस्तुत: नारायणबलि और नागबलि ये अलग-अलग पूजा अनुष्ठान हैं। नारायण बलि का उद्देश मुखत: पितृदोष निवारण करना है। और नागबलि का उद्देश सर्प शाप, नाग हत्या का दोष निवारण करना है। इन में से केवल एक नारायण बलि या नागबलि अकेले नहीं कर सकते, इस लिए ये दोनो अनुष्ठान एक साथ ही करने पड़ते हैं।

पितृदोष निवारण के लिए ही नारायण नागबलि अनुष्ठान करने के लिये शास्त्रों मे निर्देशित किया गया है । प्राय: यह अनुष्ठान जातक के पूर्वजन्म के दुर्भाग्य संबधी दोषों से मुक्ति दिलाने के लिए किये जाते हैं। ये अनुष्ठान किस प्रकार व कौन इन्हें कर सकता है? इसकी पूर्ण जानकारी होना आवश्यक है। ये अनुष्ठान जिन जातकों के माता पिता जिवित हैं, वे भी विधिवत सम्पन्न कर सकते हैं, यज्ञोपवीत धारण करने के बाद कुंवारा ब्राह्मण यह अनुष्ठान सम्पन्न करा सकता है। संतान प्राप्ति एवं वंशवृद्धि के लिए ये अनुष्ठान सपत्नीक करने चाहीयें। यदि पत्नी जीवित न हो तो कुल के उद्धार के लिए पत्नी के बिना भी ये कर्म किये जा सकते हैं। यदि पत्नी गर्भवती हो तो गर्भ धारण से पाचवें महीने तक यह अनुष्ठान किया जा सकता है। घर में कोई भी मांगलिक कार्य हो तो ये अनुष्ठान एक साल तक नही किये जाते हैं। माता या पिता की मृत्यु् होने पर भी एक साल तक ये अनुष्ठान करने निषिद्ध माने गये हैं।

दोनों प्रकार यह अनुष्ठान एक साथ और निम्नलिखित इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए किये जाते हैं :-

1. काला जादू के प्रभाव से मुक्ति पाने के लिए।
2. संतान प्राप्ति के लिए।
3. भूत प्रेत से छुटकारा पाने के लिए।
4. घर के किसी व्यक्ति की दुर्घटना के कारण मृत्यु होती है (अपघात, आत्महत्या, पानी में डूबना) इस की वजह से अगर घर में कोई समस्याए आती है तो, उन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए यह अनुष्ठान किया जाता है।

संतान प्राप्ति के लिए :-
सनातन मान्यता के अनुसार प्रत्येक दम्पत्ती की कम से कम एक पुत्र संतान प्राप्ति की प्रबल इच्छा होती है, और इस इच्छा की पूर्ति न होना दम्पत्ती के लिए बहुत दुःखदाई होता है, हालांकि इस आधुनिक युग में टेस्ट ट्यूब बेबी जैसी उपचार पद्धतियां उपलब्ध हैं, लेकिन कुछ जोड़ों की कमाई के हिसाब से यह बहुत खर्चीली होती हैं। इस लिये बहुत से लोग इन महेंगे उपचारों के कारण खर्च करने में समर्थ नहीं होते, और कुछ इस के लिए कर्जा लेते हैं, लेकिन जब कभी इस महेंगे उपचारों का भी कोई लाभ नहीं होता, तब यह जोड़े ज्योतिषीयों के पास जाते हैं, और एक अच्छा अनुभवी ज्योतिषी ही इस समस्या का समाधान और उपचारों की विफलता का कारण बता सकता है।

शास्त्र कहते हैं :- जहां रोग है, वहां उपचार भी है। इसी नियम को ध्यान में रखते हुऐ हमारे पूर्वज ऋषियों ने इन समस्याओं के समाधान हेतु ज्योतिष शास्त्र में कुछ विशेष उपाय सुझाए हुए है, सब से पहेले ज्योतिषी यह देखते हैं की इस की पीड़ित दंपति की जन्म कुंडली में संतान प्राप्ति का योग है या नहीं? अगर है, तो गर्भधारण करने में समस्या का कारण क्या है? जैसे की पूर्व जन्म के पाप, पितरों का श्राप, कुलविनाश का योग, इनमें से कोई विशेष कारण पता चलने के बाद वह उस समस्या का निराकरण सुझाते खोजते हैं। इन उपायों में से नारायण नागबली सर्वश्रेष्ठ उपाय माना जाता है। यदि यह अनुष्ठान उचित प्रकार से और मनोभाव से किया जाए, तो संतानोत्पत्ति की काफी संभावनाए हो जाती हैं।

भूत-प्रेत बाधा के कारण संतानोत्पत्ति में रूकावटें :-
कोई स्थाई अस्थाई संपत्ति जैसे के, घर जमीन या पैसा किसी से जबरन या ठग कर हासिल की जाती है तो, मृत्यु पश्चात् उस व्यक्ति की आत्मा उसी संपत्ति के मोह रहती है, उस व्यक्ति को मृत्यु पश्चात् जलाया या दफनाया भी जाए तो भी उस की इच्छाओं की आपूर्ति न होने के कारण उस की आत्मा को माया से मुक्ति नहीं मिल पाती, और वह आत्मा प्रेत योनी में भटकती है, और उस के पतन के कारण व्यक्ति को वह पीड़ा देने लगती है, यदि किसी शापित व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात् उसकी अंतेष्ठि विधि शास्त्रों अनुसार संपन्न न हो, या श्राद्ध न किया गया हो, तब उस वजह से उस से सम्बंधित व्यक्तिओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जैसे कि– संतति का आभाव, यदि संतान होती भी है, तो उस का अल्प जीवी होना
संतति का ना होना ही है।

1. काफी कष्टों के बावजूद आर्थिक अड़चनों का सामना करना
खेती में नुकसान।
2. व्यवसाय में हानि, नौकरी छूट जाना, कर्जे में डूब जाना,
परिवार में बिमारीयाँ।
3. मानसिक या शारीरिक परेशानी, विकलांग संतति का जन्म होना, या अज्ञात कारणों से पशुधन का विनाश।
4. परिवार के किसी सदस्यों को भूत बाधा होना।
5. परिवार के सदस्यों में झगड़े या तनाव होना।
6. महिलाओं में मासिक धर्म का अनियमित होना, या गर्भपात होना।
ऊपर लिखे हुये सभी या किसी भी परेशानी से व्यक्ति झूंज रहा हो तोतो, उसे नारायण-नागबली करने की सलाह दी जाती है।

श्राप सूचक स्वप्न :-
कोई व्यक्ति यदि निम्नलिखित स्वप्न देखता है, तो वह पिछले या इसी जन्म में श्रापित होता है :-
1. स्वप्न में नाग दिखना, या नाग को मारते हुवे दिखना, या टुकड़ो में कटा हुवा नाग दिखना।
2. किसी ऐसी स्त्री को देखना, जिसके बच्चे की मृत्यु हो गई है, वह उस बच्चे के प्रेत के पास बैठ कर अपने बच्चे को उठने को कह रही है, और लोग उसे उस प्रेत से दूर कर रहे है।
3. विधवा या किसी रोगी सम्बन्धी को देखना।
4. किसी ईमारत को गिरते हुए देखना।
5. स्वप्न में झगड़े देखना।
6. खुद को पानी में डूबते हुये देखना।
इस प्रकार के स्वप्नों से मुक्ति पाने के लिए नारायण-नागबली अनुष्ठान किया जाता है। धर्मसिंधु और धर्मनिर्णय इन प्राचीन ग्रंथो में इस अनुष्ठान के विषय में लिखा हुआ है।

दुर्मरण :-
किसी भी प्रकार से दुर्घटना यदि मृत्यु का कारण हो, और अल्पायु में मृत्यु होना दुर्मरण कहा जाता है। किसी मनुष्य की इस प्रकार से मृत्यु उस मनुष्य के परिवार के लिए अनेक परेशानियों का कारण बनती है। निम्नलिखित कारण से आने वाली मृत्यु दुर्मरण कहलाती है :-

1. विवाह से पहले मृत्यु होना।
2. परदेस में मृत्यु होना।
3. गले में अन्न अटक कर श्वास रुकने से मृत्यु होना।
4. पंचक, त्रिपाद या दक्षिणायन काल में मृत्यु होना।
5. आग में जल कर मृत्यु होना।
6. किसी खतरनाक जानवर के हमले से मृत्यु होना।
7. छोटे बच्चे का किसी के हाथों मारा जाना।
8. पानी में डूब जाने से मृत्यु होना।
9. आत्महत्या करना।
10. आकाशीय बिजली गिरने या बिजली के झटके से मृत्यु।
यह सब कारण हैं, जिसके कारण किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो, परिवार में आर्थिक, मानसिक वा शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं, इं परेशानियों को दूर करने के लिए परिजनों को नारायण-नागबली करवाने की सलाह दी जाती ।

——————————————————————————–

अधिक जानकारी के लिए अथवा ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- गुरू जी के कार्यालय में सम्पर्क करें :- 011-22455184, 09810143516

गुरू जी के लेख देखें :- astroguruji.in, aap ka bhavishya.in, rbdhawan@wordpress.com, guruji ke totke.com.

Astrological products and astrology course के लिए विजिट कीजिए :- http://www.shukracharya.com

रुद्राष्टकम्

श्री गोस्वामी तुलसीदास कृतं शिव रूद्राष्टक स्तोत्रं : –

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)
यूं तो भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सनातन ग्रंथों में, पुराणों में अनेक मंत्र उल्लेखित हैं, अनेक स्तुति व स्त्रोत भी हैं, जिनकी रचना अनेक ऋषियों और आचार्यों ने की है। जिनके जप व गान करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं, परंतु श्री शिव रुद्राष्टक स्त्रोत्र का महत्व और प्रभाव विलक्षण है। प्रतिदिन शिव रुद्राष्टक का पाठ किया जाए तो हर प्रकार की समस्याओं का समाधान स्वत: ही हो जाता है। साथ ही भगवान शिव की कृपा भी प्राप्त होती है। महाशिवरात्रि, श्रावण मास अथवा चतुर्दशी तिथि (मासिक शिवरात्रि) को इसका जप व गान किया जाए तो विशेष फल मिलता है।

श्री रामचरित मानस के उत्तर काण्ड में वर्णित इस रूद्राष्टक की कथा इस प्रकार है :- कागभुशुण्डि जो कि परम शिवभक्त थे। वह भगवान शिव को परमेश्वर एवं अन्य देवों से अतुल्य मानते थे। उनके गुरू श्री लोमेश थे जो भगवान शिव के साथ-साथ राम में भी असिम श्रद्धा रखते थे। इस कारण कागभुशुण्डि का अपने गुरू के साथ मत-भेद रहता था।
एक बार गुरूजी ने समझाया कि; स्वयं शिव भी राम नाम से आनन्दित रहते हैं, तो तू राम की महिमा को क्यों स्वीकार करने से इन्कार करता है। ऐसे प्रसंग को शिव विरोधी मान कर कागभुशुण्डि अपने गुरू से ही रूष्ट हो गए। इसके उपरांत कागभुशुण्डि ने एक बार एक महायज्ञ का आयोजन किया, परंतु अपने इस यज्ञ की सूचना अपने गुरू को नहीं दी। फिर भी सरल हृदय गुरू अपने भक्त के यज्ञ में समलित होने के लिए पहुँच गए। शिव पुजन में बैठे कागभुशुण्डि ने अपने गुरू लोमश को आया देखा। किन्तु अपने आसन से न उठे, न ही उनका कोई आदर सत्कार ही किया। सरल हृदय गुरू लोमश ने एक बार फिर इसका बुरा नहीं माना। पर महादेव तो महादेव ही हैं। वो अनाचार क्यों सहन करने लगे ? भविष्यवाणी हुई – अरे मुर्ख, अभिमानी ! तेरे सत्यज्ञानी गुरू ने सरलता वश तुझ पर क्रोध नहीं किया। लेकिन, मैं तुझे श्राप दुंगा। क्योंकि नीति का विरोध मुझे पसंद नहीं। यदि तुझे दण्ड ना मिला तो वेद मार्गी भ्रष्ट हो जाएंगे। जो गुरू से ईर्ष्या करते हैं, वो नर्क के भागी होते हैं। तू गुरू के समुख भी अजगर की भांति ही बैठा हुआ है। अत: अधोगति को पाकर अजगर बन जा तथा किसी वृक्ष की कोटर में ही रहना।
इस श्राप से दुःखी हो कर तथा अपने शिष्य के लिए क्षमा दान पाने की अपेक्षा से, शिव को प्रसन्न करने हेतु; ही गुरू लोमश ने प्रार्थना की तथा रूद्राष्टक की रचना और वाचना की तथा आशुतोष भगवान को प्रसन्न किया। इस कथा का सार है – शिव अनाचारी को क्षमा नहीं करते; बेशक वो उनका परम भक्त ही क्यूँ ना हो। परम शिव भक्त कागभुशुण्डि ने जब अपने गुरू की अवहेलना की तो; वे भगवान शिव के क्रोध-भाजन हुए। अपने शिष्य के लिए क्षमादान की अपेक्षा रखने वाले सहृदय गुरू लोमश ने रूद्राष्टक की रचना की तथा महादेव को प्रसन्न किया। गुरु के तप व शिव भक्ति के प्रभाव से यह शिव स्तुति मंगलकारी शक्तियों से सम्पन्न मानी जाती है। तथा मनुष्य के अहंकार को दूर कर उसे विनम्र बनाती है। शिव की इस स्तुति का वाचन करने से मन में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा, तनाव, द्वेष, ईर्ष्या और अहं दूर होता है। यह स्तुति सरल, सरस और भक्तिमय होने से शिव व शिव भक्तों को बहुत प्रिय है। इस स्तुति के पाठ से भगवान शिव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। यह कथा रामचरितमानस के उत्तरकाण्ड में वर्णित है।
नमामीशमीशान निर्वाणरूपं

विभुं व्यापकं ब्रह्मवेदस्वरूपम।

निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं

चिदाकाशमाकाशवासं भजेहम।

हे भगवन ईशान को मेरा प्रणाम ऐसे भगवान जो कि निर्वाण रूप हैं, जो कि महान ॐ के दाता हैं, जो सम्पूर्ण ब्रह्माण में व्यापत हैं, जो अपने आपको धारण किये हुए हैं, जिनके सामने गुण अवगुण का कोई महत्व नहीं, जिनका कोई विकल्प नहीं, जो निष्पक्ष हैं, जिनका आकार आकाश के सामान है, जिसे नापा नहीं जा सकता, उनकी मैं उपासना करता हूँ।
निराकारमोङ्करमूल, तुरीयं,

गिराज्ञानगोतीतमीशं, गिरीशम् ।

करालं महाकालकालं कृपालं

गुणागारसंसारपारं, नतोहम।

जिनका कोई आकार नहीं, जो ॐ के मूल हैं, जिनका कोई राज्य नहीं, जो गिरी के वासी हैं, जो कि सभी ज्ञान, शब्द से परे हैं, जो कि कैलाश के स्वामी हैं, जिनका रूप भयावह है, जो कि काल के स्वामी हैं, जो उदार एवम् दयालु हैं, जो गुणों का खजाना हैं, जो पुरे संसार के परे हैं उनके सामने मैं नत मस्तक हूँ।

तुषाराद्रिसंकाशगौरं गभिरं

मनोभूतकोटिप्रभाश्री शरीरम् ।

स्फुरन्मौलिकल्लोलिनी चारुगङ्गा

लसद्भालबालेन्दु कण्ठे भुजङ्गा।

जो कि बर्फ के समान शील हैं, जिनका मुख सुंदर है, जो गौर वर्ण के हैं, जो गहन चिंतन में हैं, जो सभी प्राणियों के मन में हैं, जिनका वैभव अपार है, जिनकी देह सुंदर है, जिनके मस्तक पर तेज है, जिनकी जटाओ में लहलहाती गंगा हैं, जिनके चमकते हुए मस्तक पर चाँद हैं, और जिनके कंठ पर सर्प का वास हैं।

चलत्कुण्डलं भ्रूसुनेत्रं विशालं

प्रसन्नाननं नीलकण्ठं दयालम् ।

मृगाधीशचर्माम्बरं मुण्डमालं

प्रियं शङ्करं सर्वनाथं भजामि।

जिनके कानों में बालियाँ हैं, जिनकी सुन्दर भोहे और बड़ी-बड़ी आँखे हैं, जिनके चेहरे पर सुख का भाव है, जिनके कंठ में विष का वास है, जो दयालु हैं, जिनके वस्त्र शेर की खाल हैं, जिनके गले में मुंड माला है, ऐसे प्रिय शंकर पूरे संसार के नाथ हैं, उनको मैं पूजता हूँ।

प्रचण्डं प्रकृष्टं प्रगल्भं परेशं

अखण्डं अजं भानुकोटिप्रकाशं ।

त्र्यःशूलनिर्मूलनं शूलपाणिं

भजेहं भवानीपतिं भावगम्यम।

जो भयंकर हैं, जो परिपक्व साहसी हैं, जो श्रेष्ठ हैं अखंड हैं, जो अजन्मे हैं, जो सहस्त्र सूर्य के सामान प्रकाशवान हैं, जिनके पास त्रिशूल है, जिनका कोई मूल नहीं है, जिनमे किसी भी मूल का नाश करने की शक्ति है, ऐसे त्रिशूल धारी माँ भगवती के पति जो प्रेम से जीते जा सकते हैं, उन्हें मैं वन्दन करता हूँ।

कलातीतकल्याण कल्पान्तकारी

सदा सज्जनानन्ददाता पुरारी।

चिदानन्दसंदोह मोहापहारी

प्रसीद प्रसीद प्रभो मन्मथारी।

जो काल से बंधे नहीं हैं, जो कल्याणकारी हैं, जो विनाशक भी हैं,जो हमेशा आशीर्वाद देते हैं, और धर्म का साथ देते हैं, जो अधर्मी का नाश करते हैं, जो चित्त का आनंद हैं, जो जूनून हैं, जो मुझसे खुश रहें, ऐसे भगवान जो कामदेव के नाशी हैं, उन्हें मेरा प्रणाम।

न यावद्, उमानाथपादारविन्दं

भजन्तीह लोके परे वा नराणाम।

न तावत्सुखं शान्ति, सन्तापनाशं

प्रसीद प्रभो सर्वभूताधिवासं।

जो यथावत नहीं हैं, ऐसे उमा पति के चरणों में वन्दन करता हूं, ऐसे भगवान को पूरे लोक के नर नारी पूजते हैं, जो सुख के सागर हैं, शांति हैं, जो सारे दु:खों का नाश करते हैं, जो सभी जगह वास करते हैं।

न जानामि योगं जपं नैव पूजां

नतोहं सदा सर्वदा शम्भुतुभ्यम्।

जराजन्मदुःखौघ तातप्यमानं

प्रभो पाहि आपन्नमामीश शंभो।

मैं कुछ नहीं जानता, ना योग, ना ध्यान, आप देव के सामने मेरा मस्तक झुकता है, सभी संसारिक कष्टों, दुःख दर्द से मेरी रक्षा करें, मेरी बुढ़ापे के कष्टों से से रक्षा करें। मैं सदा ऐसे शिव शम्भु को प्रणाम करता हूँ।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।