अकाल मृत्यु योग

क्या जन्म कुंडली द्वारा अकाल-मृत्यु (एक्सीडेंट) योग का पता लगाया जा सकता है ? :-

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant),

Telephonic Consultation, face to face Consultation, best top remedy

वस्तुत: मृत्यु एक ऐसा अटल सत्य है, जिसे कोई बदल नहीं सकता। कब, किस कारण से, मौत को गले लगाना होगा, यह कोई भी नहीं जानता। कुछ लोगों की असमय और अस्वाभाविक मृत्यु हो जाती है। ऐसी मौत को ही अकाल मृत्यु कहते हैं। प्रश्न यह पैदा होता है कि क्या जातक की कुंडली के आधार पर अकाल मृत्यु के संबंध में जाना जा सकता है? इसका उत्तर है हां जाना तो जा सकता है, परंतु यह सरल बिल्कुल भी नहीं है, इसके लिए बहुत जटिल ज्योतिषीय गणनाओं का गुणा-भाग करना होता है, और इस के साथ-साथ ज्योतिषीय योगों का सामंजस्य बैठाना होता है। आगे की पंक्तियों में कुछ मान्य ग्रंथों से अकाल मृत्यु के योग लिख रहे हैं, परंतु ध्यान रहे केवल इन योगों को आधार मानकर अकाल मृत्यु की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती, बल्कि इस के साथ साथ ज्योतिष के अन्य नियमों का मिलान होना भी आवश्यक है, तभी इन में से कोई योग घटित हो सकता है।

ज्योतिष शास्त्र के कुछ मान्य ग्रंथों में – वृहद्पराशर होराशास्त्र, जातक पारिजात, फल दीपिका इत्यादि के आयुर्दाय अध्याय में कुछ अपमृत्यु (अकाल मृत्यु) के योगों का वर्णन मिलता है :-

1- लग्नेश तथा मंगल की युति यदि लग्न कुंडली के छठे, आठवें या बारहवें भाव में हो तो, जातक को शस्त्र से घाव होता है। इसी प्रकार का फल इन भावों में शनि और मंगल के होने से भी मिलता है।

2- यदि मंगल किसी जन्मपत्रिका में द्वितीय भाव, सप्तम भाव अथवा अष्टम भाव में स्थित हो, और उस मंगल पर सूर्य की पूर्ण दृष्टि हो तो, जातक की मृत्यु अग्नि से हो सकती है।

3- लग्न, द्वितीय भाव तथा बारहवें भाव में क्रूर ग्रहों की स्थिति हत्या का कारण बनती है।

4- दशम भाव की नवांश राशि का स्वामी राहु अथवा केतु के साथ स्थित हो तो, जातक की मृत्यु अस्वाभाविक होती है।

5- यदि जातक की कुंडली के लग्न में मंगल स्थित हो और उस पर सूर्य या शनि की अथवा दोनों की दृष्टि हो तो, दुर्घटना में मृत्यु होने की आशंका रहती है।

6- राहु-मंगल की युति अथवा दोनों का सम-सप्तक होकर एक-दूसरे से दृष्ट होना भी दुर्घटना का कारण हो सकता है।

7- षष्ठ भाव का स्वामी पापग्रह से युक्त होकर षष्ठ अथवा अष्टम भाव में हो तो, दुर्घटना होने का भय रहता है।

8- अष्टम भाव और लग्न भाव के स्वामी बलहीन हों और मंगल 6 घर के स्वामी के साथ बैठा हो तो, ये योग बनता है –

9- क्षीण चन्द्रमा 8वें भाव में हो तो भी यह योग बनता है, या लग्न में शनि हो, और उस पर शुभ ग्रहों की दृष्टि न हो, तथा उसके साथ सूर्य, चन्द्रमा, या सूर्य राहू हो तो भी यह योग बनता है..

ऐसे योंगों में मृत्यु के निम्न कारण होते हैं जैसे

शस्त्र से , 2- विष से, 3- फांसी लगाने से, 4- आग में जलने से, 5- पानी में डूबने से या 6- मोटर-वाहन की दुर्घटना से –

1- यदि जातक की कुंडली के लग्न में मंगल स्थित हो और उस पर सूर्य या शनि की अथवा दोनों की दृष्टि हो तो दुर्घटना में मृत्यु होने की आशंका रहती है।

2- राहु-मंगल की युति अथवा दोनों का सम-सप्तक होकर एक-दूसरे से दृष्ट होना भी दुर्घटना का कारण हो सकता है।

3- षष्ठ भाव का स्वामी पापग्रह से युक्त होकर षष्ठ अथवा अष्टम भाव में हो तो, दुर्घटना होने का भय रहता है।

4- लग्न, द्वितीय भाव तथा बारहवें भाव में क्रूर ग्रह की स्थिति हत्या का कारण बनती है।

5- दशम भाव की नवांश राशि का स्वामी राहु अथवा केतु के साथ स्थित हो तो, जातक की मृत्यु अस्वाभाविक होती है।

6- लग्नेश तथा मंगल की युति छठे, आठवें या बारहवें भाव में हो तो, जातक को शस्त्र से घाव होता है। इसी प्रकार का फल इन भावों में शनि और मंगल के होने से मिलता है।

7- यदि मंगल जन्मपत्रिका में द्वितीय भाव, सप्तम भाव अथवा अष्टम भाव में स्थित हो, और उस पर सूर्य की पूर्ण दृष्टि हो तो, जातक की मृत्यु आग से हो सकती है।

विशेष :- कुंडली में अनेक अपमृत्यु योगों को भंग करने वाले योग भी साथ-साथ बन रहे होते हैं, इस लिये कुंडली का सभी दृष्टियों से विचार करना आवश्यक है।
.
अपमृत्यु अथवा अल्पायु योगों का निवारण —

लग्नेश को मजबूत करें, उपाय के द्वारा और रत्नादि धारण अथवा रत्न दान के द्वारा, और इसके बाद भी यदि दुर्घटना होती है तो, महामृत्युंजय मंत्र का जाप या मृत्संजनी मंत्र का अनुष्ठान ही ऐसे जातक के जीवन रक्षा करता है।

क्या आप अल्पायु या अपमृत्यु योग का निवारण चाहते हैं तो, निम्न मंत्र का नित्य 11 बार जाप किया करें …

”अश्वत्थामा बलीर व्यासो हनुमानाश च विभिशाना कृपाचार्य च परशुरामम सप्तैता चिरंजीवानाम ”

1- अश्वत्थामा, 2 – राजा बलि, 3 – व्यास ऋषि, 4 – अंजनी नंदन श्री राम भक्त हनुमान, 5 – लंका के राजा विभीषण, 6 – महातपस्वी परशुराम, 7 – कृपाचार्य। ये सात नाम हैं जो अजर अमर हैं, और आज भी पृथ्वी पर विराजमान हैं।

अभेद्य महामृत्युंजय कवच : — जब जन्म कुंडली में मृत्यु का योग न हो लेकिन फिर भी व्यक्ति मृत्यु को प्राप्त हो जाए तो इसे अकाल मृत्यु कहा जाता है। हर समय किसी अनहोनी का डर लगा रहता है। इन्हीं कारणों से बचाव के लिए मां भगवती ने भगवान शिव से पूछा कि प्रभू अकाल मृत्यु से रक्षा करने और सभी प्रकार के अशुभों से रक्षा का कोई उपाय बताइए। तब भगवान शिव ने महामृत्युंजय कवच के बारे में बताया। महामृत्युंजय कवच को धारण करके मनुष्य सभी प्रकार के अशुभों से बच सकता है, और अकाल मृत्यु को भी टाल सकता है।

अकाल मृत्यु का भय नाश करता है, महामृत्युंजयग्रहों के द्वारा पिड़ीत आम जन मानस को मुक्ति सरलता से मिल सकती है। सोमवार के व्रत में भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है। प्राचीन शास्त्रों के अनुसार सोमवार के व्रत तीन तरह के होते हैं। सोमवार, सोलह सोमवार और सौम्य प्रदोष। इस व्रत को सावन माह में आरंभ करना शुभ माना जाता है।

सावन में शिव-शंकर की पूजा :-
सावन के महीने में भगवान शंकर की विशेष रूप से पूजा की जाती है। इस दौरान पूजन की शुरूआत महादेव के अभिषेक के साथ की जाती है। अभिषेक में महादेव को जल, दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, गंगाजल, गन्ना रस आदि से स्नान कराया जाता है। अभिषेक के बाद बेलपत्र, शमीपत्र, दूब, कुशा, कमल, नीलकमल, ऑक मदार, जंवाफूल कनेर, राई फूल आदि से शिवजी को प्रसन्न किया जाता है। इसके साथ की भोग के रूप में धतूरा, भाँग और श्रीफल महादेव को चढ़ाया जाता है।

क्यों किया जाता है महादेव का अभिषेक ? –
महादेव का अभिषेक करने के पीछे एक पौराणिक कथा का उल्लेख है कि, समुद्र मंथन के समय हलाहल विष निकलने के बाद जब महादेव इस विष का पान करते हैं तो वह मूर्छित हो जाते हैं। उनकी दशा देखकर सभी देवी-देवता भयभीत हो जाते हैं, और उन्हें होश में लाने के लिए निकट में जो चीजें उपलब्ध होती हैं, उनसे महादेव को स्नान कराने लगते हैं। इसके बाद से ही जल से लेकर तमाम उन चीजों से महादेव का अभिषेक किया जाता है।

‘मम क्षेमस्थैर्यविजयारोग्यैश्वर्याभिवृद्धयर्थं सोमव्रतं करिष्ये’

इसके पश्चात निम्न मंत्र से ध्यान करें-
‘ध्यायेन्नित्यंमहेशं रजतगिरिनिभं चारुचंद्रावतंसं रत्नाकल्पोज्ज्वलांग परशुमृगवराभीतिहस्तं प्रसन्नम्।
पद्मासीनं समंतात्स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं वसानं विश्वाद्यं विश्ववंद्यं निखिलभयहरं पंचवक्त्रं त्रिनेत्रम् ॥
ध्यान के पश्चात ‘ऊँ नम: शिवाय’ से शिवजी का तथा ‘ऊँ नम: शिवायै’ के अलावा जन साधारण को महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है । अत: शिव-पार्वती जी का षोडशोपचार पूजन कर राशियों के अनुसार दिये मंत्र से अलग-अलग प्रकार से पुष्प अर्पित करें।

राशियों के अनुसार क्या चढ़ावें भगवान शिव को..?-
भगवान शिव को भक्त प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र और समीपत्र चढ़ाते हैं। इस संबंध में एक पौराणिक कथा के अनुसार जब 88 हजार ऋषियों ने महादेव को प्रसन्न करने की विधि परम पिता ब्रह्मा से पूछी तो ब्रह्मदेव ने बताया कि महादेव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर होते हैं। ऐसे ही एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र और एक हजार बेलपत्र चढ़ाने के फल के बराबर एक शमीपत्र का महत्व होता है।

मेष:- ॐ ह्रौं जूं स:, इस त्र्यक्षरी महामृत्युञ्जय मंत्र बोलते हुए 11 बेलपत्र चढ़ावें।

वृषभ:- ॐ शशीशेषराय नम:, इस मंत्र से 84 शमीपत्र चढ़ावें।

मिथुन:- ॐ महा कालेश्वराय नम:, (बेलपत्र 51)।

कर्क:- ॐ त्र्यम्बकाय नम:, (नील कमल 61)।

सिंह:- ॐ व्योमाय पाय्घर्याय नम:, (मंदार पुष्प 108)

कन्या:- ॐ नम: कैलाश वासिने नंदिकेश्वराय नम:, (शमी पत्र 41)

तुला:- ॐ शशिमौलिने नम:, (बेलपत्र 81)

वृश्चिक:- ॐ महाकालेश्वराय नम:, ( नील कमल 11 फूल)

धनु:- ॐ कपालिक भैरवाय नम:, (जंवाफूल कनेर 108)

मकर:- ॐ भव्याय मयोभवाय नम:, (गन्ना रस और बेल पत्र 108)

कुम्भ:- ॐ कृत्सनाय नम:, (शमी पत्र 108)

मीन:- ॐ पिंङगलाय नम: (बेलपत्र में पीला चंदन से राम नाम लिख कर 108)

सावन सोमवार व्रत नियमित रूप से करने पर भगवान शिव तथा देवी पार्वती की अनुकम्पा बनी रहती है।जीवन धन-धान्य से भर जाता है।

सभी अनिष्टों का भगवान शिव हरण कर भक्तों के कष्टों को दूर करते हैं।

कुंडली में मृत्यु के प्रकार :-
हमारे प्राचीन ऋषि-महर्षियों ने ज्योतिष की गणना के आधार पर जीवन और मृत्यु के बारे में कुछ योग बताएं हैं, जसके आधार पर मृत्यु कैसे होगी किस प्रकार से होगी आइये देखते हैं-

लग्नेश के नवांश से मृत्यु का ज्ञान:- जन्म कुंडली में लग्न चक्र और नवांश को देखकर यह बताया जा सकता है की मृत्यु कैसे होगी ..

लग्नेश का नवांश मेष हो तो, पितदोष, पीलिया, ज्वर, जठराग्नि आदि से संबंधित बीमारी से मृत्यु होती है।

लग्नेश का नवांश वृष हो तो एपेंडिसाइटिस, शूल या दमा आदि से मृत्यु होती है।

लग्नेश का मिथुन नवांश हो तो, मेनिन्जाइटिस, सिर शूल, दमा आदि से मृत्यु होती है।

लग्नेश कर्क नवांश में हो तो, वात रोग से मृत्यु हो सकती है।

लग्नेश सिंह नवांश में हो तो, व्रण, हथियार या अम्ल से अथवा अफीम, नशा आदि के सेवन से मृत्यु होती है।

कन्या नवांश में लग्नेश के होने से बवासीर, मस्से आदि रोग से मृत्यु होती है।

तुला नवांश में लग्नेश के होने से घुटने तथा जोड़ों के दर्द अथवा किसी जानवर के आक्रमण चतुष्पद (पशु) के कारण मृत्यु होती है।

लग्नेश वृश्चिक नवांश में हो तो, संग्रहणी, यक्ष्मा आदि से मृत्यु होती है।

लग्नेश धनु नवांश में हो तो, विष ज्वर, गठिया आदि के कारण मृत्यु हो सकती है।

लग्नेश मकर नवांश में हो तो, अजीर्ण, अथवा, पेट की किसी अन्य व्याधि से मृत्यु हो सकती है।

लग्नेश कुंभ नवांश में हो तो, श्वास संबंधी रोग, क्षय, भीषण ताप, लू आदि से मृत्यु हो सकती है।

लग्नेश मीन नवांश में हो तो, धातु रोग, बवासीर, भगंदर, प्रमेह, गर्भाशय के कैंसर आदि से मृत्यु होती है।

हत्या एवं आत्महत्या के योग :-
शरीर के संवेदनशील तंत्र पर चंद्रमा का अधिकार होता है। कुंडली में चंद्रमा अगर शनि, मंगल, राहु-केतु, नेप्च्यून आदि ग्रहों के प्रभाव में हो तो, मन व्यग्रता का अनुभव करता है। दूषित ग्रहों के प्रभाव से मन में कृतघ्नता के भाव अंकुरित होते हैं, पाप की प्रवृत्ति पैदा होती है, और मनुष्य अपराध, आत्महत्या, हिंसक कर्म आदि की ओर उन्मुख हो जाता है। चंद्रमा की कलाओं में अस्थिरता के कारण आत्महत्या की घटनाएं अक्सर एकादशी, अमावस्या तथा पूर्णिमा के आस-पास होती हैं। मनुष्य के शरीर में शारीरिक और मानसिक बल कार्य करते हैं। मनोबल की कमी के कारण मनुष्य का विवेक काम करना बंद कर देता है, और अवसाद में हार कर वह आत्महत्या जैसा पाप कर बैठता है।
आत्महत्या करने वालों में 60 प्रतिशत से अधिक लोग अवसाद या किसी न किसी मानसिक रोग से ग्रस्त होते हैं।
आत्महत्या के कारण मृत्यु योग- जन्म कुंडली में निम्न स्थितियां हों तो जातक आत्महत्या की तरफ उन्मुख होता है।
लग्न व सप्तम स्थान में नीच ग्रह हो।

अष्टमेश पाप ग्रह शनि राहु से पीड़ित हो।

अष्टम स्थान के दोनों तरफ अर्थात् सप्तम व हो, उच्च या नीच राशिस्थ हो, अथवा मंगल व केतु की युति में हो।

सप्तमेश और सूर्य नीच भाव का हो, तथा राहु शनि से दृष्टि संबंध रखता हो।

लग्नेश व अष्टमेश का संबंध व्ययेश से हो।

मंगल व षष्ठेश की युति हो, तृतीयेश, शनि और मंगल अष्टम में हों।

अष्टमेश यदि जल तत्वीय हो तो जातक पानी में डूबकर और यदि अग्नि तत्वीय हो तो जल कर आत्महत्या करता है।

कर्क राशि का मंगल अष्टम भाव में हो तो जातक पानी में डूबकर आत्महत्या करता है।

हत्या या आत्महत्या के कारण होने वाली मृत्यु के अन्य योग:-

यदि मकर या कुंभ राशिस्थ चंद्र दो पापग्रहों के मध्य हो तो जातक की मृत्यु फांसी, आत्महत्या या अग्नि से होती है।

चतुर्थ भाव में सूर्य एवं मंगल तथा दशम भाव में शनि हो तो जातक की मृत्यु फांसी से होती है।

यदि अष्टम भाव में एक या अधिक अशुभ ग्रह हों तो जातक की मृत्यु हत्या, आत्महत्या, बीमारी या दुर्घटना के कारण होती है।

यदि अष्टम भाव में बुध और शनि स्थित हों तो जातक की मृत्यु फांसी से होती है।

यदि मंगल और सूर्य राशि परिवर्तन योग में हों और अष्टमेश से केंद्र में स्थित हों तो जातक को सरकार द्वारा मृत्यु दण्ड अर्थात् फांसी मिलती है।

शनि लग्न में हो और उस पर किसी शुभ ग्रह की दृष्टि न हो तथा सूर्य, राहु और क्षीण चंद्र युत हों तो जातक की गोली या छुरे से हत्या होती है।

यदि नवांश लग्न से सप्तमेश, राहु या केतु से युत हो तथा भाव 6, 8 या 12 में स्थित हो तो जातक की मृत्यु फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेने से होती है।

यदि चंद्र से पंचम या नवम राशि पर किसी अशुभ ग्रह की दृष्टि या उससे युति हो और अष्टम भाव अर्थात 22वें द्रेष्काण में सर्प, निगड़, पाश या आयुध द्रेष्काण का उदय हो रहा हो तो जातक फांसी लगाकर आत्महत्या करने से मृत्यु को प्राप्त होता है।

चौथे और दसवें या त्रिकोण भाव में अशुभ ग्रह स्थित हो या अष्टमेश लग्न में मंगल से युत हो तो जातक फांसी लगाकर आत्महत्या करता है।

दुर्घटना के कारण मृत्यु योग:-
जिस जातक के जन्म लग्न से चतुर्थ और दशम भाव में से किसी एक में सूर्य और दूसरे में मंगल हो, उसकी मृत्यु पत्थर से चोट लगने के कारण होती है।

यदि शनि, चंद्र और मंगल क्रमशः चतुर्थ, सप्तम और दशम भाव में हो तो, जातक की मृत्यु कुएं में गिरने से होती है।

सूर्य और चंद्रमा दोनों कन्या राशि में हों, और पाप ग्रह से दृष्ट हों तो, जातक की उसके घर में बंधुओं के सामने मृत्यु होती है।

यदि कोई द्विस्वभाव राशि लग्न में हो, और उस में सूर्य तथा चंद्र हों तो, जातक की मृत्यु जल में डूबने से होती है।

यदि चंद्रमा मेष या वृश्चिक राशि में दो पाप ग्रहों के मध्य स्थित हो तो जातक की मृत्यु शस्त्र या अग्नि दुर्घटना से होती है।

जिस जातक के जन्म लग्न से पंचम और नवम भावों में पाप ग्रह हों, और उन दोनों पर किसी भी शुभ ग्रह की दृष्टि नहीं हो, उसकी मृत्यु बंधन से होती है।

जिस जातक के जन्मकाल में किसी पाप ग्रह से युत चंद्रमा कन्या राशि में स्थित हो, उसकी मृत्यु उसके घर की किसी स्त्री के कारण होती है।

जिस जातक के जन्म लग्न से चतुर्थ भाव में सूर्य या मंगल और दशम में शनि हो, उसकी मृत्यु चाकू से होती है।

यदि दशम भाव में क्षीण चंद्र, नवम में मंगल, लग्न में शनि और पंचम में सूर्य हो तो, जातक की मृत्यु अग्नि, धुआं, बंधन या काष्ठादि के प्रहार के कारण होती है।

जिस जातक के जन्म लग्न से चतुर्थ भाव में मंगल, सप्तम में सूर्य और दशम में शनि स्थित हो तो, उसकी मृत्यु शस्त्र या अग्नि दुर्घटना से होती है।

जिस जातक के जन्म लग्न से दशम भाव में सूर्य और चतुर्थ में मंगल स्थित हो, उसकी मृत्यु सवारी से गिरने से या वाहन दुर्घटना में होती है।

यदि लग्न से सप्तम भाव में मंगल और लग्न में शनि, सूर्य एवं चंद्र हों उसकी मृत्यु मशीन आदि से होती है।

यदि मंगल, शनि और चंद्रमा क्रम से तुला, मेष और मकर या कुंभ में स्थित हों तो, जातक की मृत्यु विष्ठा में गिरने से होती है।

मंगल और सूर्य सप्तम भाव में, शनि अष्टम में और क्षीण चंद्र में स्थित हो तो, उसकी मृत्यु पक्षी के कारण होती है।

यदि लग्न में सूर्य, पंचम में मंगल, अष्टम में शनि और नवम में क्षीण चंद्र हो तो जातक की मृत्यु पर्वत के शिखर या दीवार से गिरने अथवा वज्रपात से होती है।

सूर्य, शनि, चंद्र और मंगल लग्न से अष्टमस्थ या त्रिकोणस्थ हों तो, वज्र या शूल के कारण अथवा दीवार से टकराकर या मोटर दुर्घटना से जातक की मृत्यु होती है।

चंद्रमा लग्न में, गुरु द्वादश भाव में हो, कोई पाप ग्रह चतुर्थ में और सूर्य अष्टम में निर्बल हो तो जातक की मृत्यु किसी दुर्घटना से होती है।

यदि दशम भाव का स्वामी नवांशपति शनि से युत होकर भाव 6, 8 या 12 में स्थित हो तो, जातक की मृत्यु विष भक्षण से होती है।

यदि चंद्र या गुरु जल राशि (कर्क, वृश्चिक या मीन) में अष्टम भाव में स्थित हो, और साथ में राहु हो तथा उसे पाप ग्रह देखता हो तो सर्पदंश से मृत्यु होती है।

यदि लग्न में शनि, सप्तम में राहु और क्षीण चंद्रमा तथा कन्या में शुक्र हो तो, जातक की शस्त्राघात से मृत्यु होती है।

यदि अष्टम भाव तथा अष्टमेश से सूर्य, मंगल और केतु की युति हो अथवा दोनों पर उक्त तीनों ग्रहों की दृष्टि हो तो जातक की मृत्यु अग्नि दुर्घटना से होती है।

यदि शनि और चंद्र भाव 4, 6, 8 या 12 में हो तथा अष्टमेश अष्टम भाव में दो पाप ग्रहों से घिरा हो तो, जातक की मृत्यु नदी या समुद्र में डूबने से होती है।

लग्नेश, अष्टमेश और सप्तमेश यदि एक साथ बैठे हों तो जातक की मृत्यु स्त्री के साथ होती है।

यदि कर्क या सिंह राशिस्थ चंद्रमा सप्तम या अष्टम भाव में हो और राहु से युत हो तो, मृत्यु पशु के आक्रमण के कारण होती है।

दशम भाव में सूर्य और चतुर्थ में मंगल स्थित हो तो, वाहन के टकराने से मृत्यु होती है।

अष्टमेश एवं द्वादशेश में भाव परिवर्तन हो, तथा इन पर मंगल की दृष्टि हो तो, जातक की अकाल मृत्यु होती है।

षष्ठ, अष्टम अथवा द्वादश भाव में चंद्रमा, शनि एवं राहु हों तो, जातक की मृत्यु अस्वाभाविक तरीके से होती है।

लग्नेश एवं अष्टमेश बलहीन हों, तथा मंगल षष्ठेश के साथ हो तो, जातक की मृत्यु कष्टदायक होती है।

चंद्रमा, मंगल एवं शनि अष्टमस्थ हों तो, मृत्यु शस्त्र से होती है।

षष्ठ भाव में लग्नेश एवं अष्टमेश हों, तथा षष्ठेश मंगल से दृष्ट हो तो, जातक की मृत्यु शत्रु द्वारा या शस्त्राघात से होती है।

लग्नेश और अष्टमेश अष्टम भाव में हों, तथा पाप ग्रहों से युत दृष्ट हों तो, जातक की मृत्यु प्रायः दुर्घटना के कारण होती है।

चतुर्थेश, षष्ठेश एवं अष्टमेश में संबंध हो तो, जातक की मृत्यु वाहन दुर्घटना में होती है।

अष्टमस्थ केतु 25 वें वर्ष में भयंकर कष्ट अर्थात् मृत्युतुल्य कष्ट देता है।

यदि अष्टम भाव में चंद्रमा, मंगल, और शनि हों तो, जातक की मृत्यु हथियार से होती है।

यदि द्वादश भाव में मंगल, और अष्टम भाव में शनि हो तो, भी जातक की मृत्यु हथियार द्वारा होती है।

यदि षष्ठ भाव में मंगल हो तो, भी जातक की मृत्यु हथियार से होती है।

यदि राहु चतुर्थेश के साथ षष्ठ भाव में हो तो, मृत्यु डकैती या चोरी के समय उग्र आवेग के कारण होती है।

यदि चंद्रमा मेष या वृश्चिक राशि में पापकर्तरी योग में हो तो, जातक जलने से या हथियार के प्रहार से मृत्यु को प्राप्त होता है।

यदि अष्टम भाव में चंद्रमा, दशम में मंगल, चतुर्थ में शनि और लग्न में सूर्य हो तो, मृत्यु कुंद वस्तु से होती है।

यदि सप्तम भाव में मंगल और लग्न में चंद्र तथा शनि हों तो, मृत्यु संताप के कारण या विचार गोष्ठी कारण होती है।

यदि लग्नेश और अष्टमेश कमजोर हों और मंगल षष्ठेश से युत हो तो, मृत्यु युद्ध में होती है।

यदि नवांश लग्न से सप्तमेश, शनि से युत हो, या भाव 6, 8 या 12 में हो तो मृत्यु जहर खाने से होती है।

यदि चंद्रमा और शनि अष्टम भाव में हो और मंगल चतुर्थ में हो, या सूर्य सप्तम में अथवा चंद और बुध षष्ठ भाव में हो तो, जातक की मृत्यु जहर खाने से होती है।

यदि शुक्र मेष राशि में, सूर्य लग्न में, और चंद्रमा सप्तम भाव में अशुभ ग्रह से युत हो तो, स्त्री के कारण मृत्यु होती है।

यदि लग्न स्थित मीन राशि में सूर्य, चंद्रमा और अशुभ ग्रह हों तथा, अष्टम भाव में भी अशुभ ग्रह हों तो, दुष्ट स्त्री के कारण मृत्यु होती है।

विभिन्न दुर्घटना योग:-
लग्नेश और अष्टमेश दोनों अष्टम में हो, अष्टमेश पर लाभेश की दृष्टि हो, (क्योंकि लाभेश षष्ठ से षष्ठम भाव का स्वामी होता है)।

द्वितीयेश, चतुर्थेश और षष्ठेश का परस्पर संबंध हो।

मंगल, शनि और राहु भाव 2, 4 अथवा 6 में हों।

तृतीयेश क्रूर हो तो, परिवार के किसी सदस्य से तथा चतुर्थेश क्रूर हो तो, जनता से आघात होता है।

अष्टमेश पर मंगल का प्रभाव हो, तो जातक गोली का शिकार होता है।

अगर शनि की दृष्टि अष्टमेश पर हो, और लग्नेश भी वहीं हो तो, गाड़ी, जीप, मोटर या ट्राॅली से दुर्घटना हो सकती है।

बीमारी के कारण मृत्यु योग:-
जिस जातक के जन्मकाल में शनि कर्क में एवं चंद्रमा मकर में बैठा हो, अर्थात् देानों ही ग्रहों में राशि परिवर्तन हो, उसकी मृत्यु जलोदर रोग से या जल में डूबने से होती है।

यदि कन्या राशि में चंद्रमा दो पाप ग्रहों के मध्य स्थित हो तो, जातक की मृत्यु रक्त विकार या क्षय रोग से होती है।

यदि शनि द्वितीय भाव में और मंगल दशम में हों तो, मृत्यु शरीर में कीड़े पड़ने से होती है।

जिस जातक के जन्मकाल में क्षीण चंद्रमा बलवान मंगल से दृष्ट हो, और शनि लग्न से अष्टम भाव में स्थित हो तो, उसकी मृत्यु गुप्त रोग या शरीर में कीड़े पड़ने से या शस्त्र से या अग्नि से होती है।

अष्टम भाव में पाप ग्रह स्थित हो तो, मृत्यु अत्यंत कष्टकारी होती है। इसी भाव में शुभ ग्रह स्थित हो, और उस पर बली शनि की दृष्टि हो तो, गुप्त रोग या नेत्ररोग की पीड़ा से मृत्यु होती है।

क्षीण चंद्र अष्टमस्थ हो, और उस पर बली शनि की दृष्टि हो तो, इस स्थिति में भी उक्त रोगों से मृत्यु होती है।

यदि अष्टम भाव में शनि एवं राहु हो तो, मृत्यु पुराने रोग के कारण होती है।

यदि अष्टम भाव में चंद्रमा हो, और साथ में मंगल, शनि या राहु हो तो, जातक की मृत्यु मिरगी से होती है।

यदि अष्टम भाव में मंगल हो, और उस पर बली शनि की दृष्टि हो तो, मृत्यु सर्जरी या गुप्त रोग अथवा आंख की बीमारी के कारण होती है।

यदि बुध और शुक्र अष्टम भाव में हो तो, जातक की मृत्यु नींद में होती है।

यदि मंगल लग्नेश हो (यदि मंगल नवांशेश हो) और लग्न में सूर्य और राहु तथा सिंह राशि में बुध और क्षीण चंद्रमा स्थित हों तो, जातक की मृत्यु पेट के आपरेशन के कारण होती है।

जब लग्नेश या सप्तमेश, द्वितीयेश और चतुर्थेश से युत हो तो, अपच के कारण मृत्यु होती है।

यदि बुध सिंह राशि में अशुभ ग्रह से दृष्ट हो तो, जातक की मृत्यु बुखार से होती है।

यदि अष्टमस्थ शुक्र अशुभ ग्रह से दृष्ट हो तो, मृत्यु गठिया या मधुमेह के कारण होती है।

यदि बृहस्पति अष्टम भाव में जलीय राशि में हो तो, मृत्यु फेफड़े की बीमारी के कारण होती है।

यदि राहु अष्टम भाव में अशुभ ग्रह से दृष्ट हो तो, मृत्यु चेचक, घाव, सांप के काटने, गिरने या पितृदोष से मृत्यु होती है।

यदि मंगल षष्ठ भाव में सूर्य से दृष्ट हो तो, मृत्यु हैजे से होती है।

यदि मंगल और शनि अष्टम भाव में स्थित हों तो धमनी में खराबी के कारण मृत्यु होती है।

नवम भाव में बुध और शुक्र हों तो, हृदय रोग से मृत्यु होती है।

यदि चंद्र कन्या राशि में अशुभ ग्रहों के घेरे में हो तो, मृत्यु रक्त की कमी के कारण होती है।

मेरे और लेख देखें :- shukracharya.com, aapkabhavishya.com, aapkabhavishya.in, astroguruji.in, rbdhawan.wordpress.com, gurujiketotke.com पर।

गर्भाधान मुहूर्त

गर्भाधान और आधान लग्न :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

जातक शास्त्र में जन्म लग्न को शुद्ध करने के लिये कुछ ज्योतिषीय योगों का उल्लेख मिलता है। जब किसी जातक का लग्न संधिकाल में हो और निर्णय करना कठिन हो, कि किस लग्न को स्वीकार किया जाये, तब लग्न को शुद्ध करने के लिये इन योगों की सहायता ली जा सकती है अथवा इन योगों की सहायता से किसी हद तक लग्न को शुद्धरूप में प्राप्त किया जा सकता है। यहां जातक ग्रन्थों से आधान लग्न के कुछ चुने हुये योग प्रस्तुत हैं, जिनकी सहायता से विद्वान ज्योतिषाचार्य लग्न निर्णय कर सकते हैं। आधान ज्ञान- प्रति मास मंगल और चन्द्रमा की राशि स्थिति के योग से स्त्रियों को ऋतु-धर्म हुआ करता है। जिस समय चन्द्रमा स्त्री जातिका की राशि से नेष्ट स्थान में हो, और शुभ पुरूष ग्रह (बृहस्पति) से देखा जाता हो, तथा पुरुष की राशि से दृष्ट-उपचय स्थान में हो, और बृहस्पति से दृष्ट हो तो, उस स्त्री को पुरूष का संयोग प्राप्त होगा। आधान लग्न से सप्तम भाव पर पाप ग्रह का योग या दृष्टि हो तो, रोषपूर्वक और शुभ ग्रह का योग एवं दृष्टि हो तो प्रसन्नतापूर्वक पति-पत्नी का संयोग होता है। आधान काल में जिस द्वादशांश में चन्द्रमा हो, उससे उतनी ही संख्या की अगली राशि में चन्द्रमा के जाने पर बालक का जन्म होता है। आधान काल में शुक्र, रवि, चन्द्रमा और मंगल अपने-अपने नवमांश में हों गुरू, लग्न अथवा केन्द्र या त्रिकोण में हों तो वीर्यवान पुरुष को निश्चय ही सन्तान प्राप्त होती है। यदि मंगल और शनि सूर्य से सप्तम भाव में हो तो, वे पुरुष के लिये तथा चन्द्रमा से सप्तम में हों तो स्त्री के लिये रोगप्रद होते हैं।

सूर्य से 12, 2 में शनि और मंगल हों तो, पुरुष के लिये और चन्द्रमा से 12-2 में ये दोनों हों तो, स्त्री के लिये घातक योग होता है, अथवा इन शनि, मंगल में से एक युत और अन्य से दृष्ट रवि हो तो, वह पुरुष के लिये और चन्द्रमा यदि एक से युत तथा अन्य से दृष्ट हो तो, स्त्री के लिये घातक होता है। दिन में गर्भाधान हो तो, शुक्र मातृग्रह और सूर्य पितृग्रह होते हैं। रात्रि में गर्भाधान हो तो, चन्द्रमा मातृग्रह और शनि पितृग्रह होते हैं। पितृग्रह यदि विषम राशियों में हो तो, पिता के लिये और मातृग्रह सम राशि में हो तो, माता के लिये शुभ कारक होता है। यदि पापग्रह बारहवें भाव में स्थित होकर पापग्रहों से देखा जाता हो, और शुभ ग्रहों से न देखा जाता हो, अथवा लग्न में शनि हो, तथा उस पर क्षीण चन्द्रमा और मंगल की दृष्टि हो, तो उस समय गर्भाधान होने से स्त्री का मरण होता है। लग्न और चन्द्रमा दोनों या उनमें से एक भी दो पापग्रहों के बीच में हो तो गर्भाधान होने पर स्त्री गर्भ के सहित मृत्यु को प्राप्त होती है।

लग्न अथवा चन्द्रमा से चतुर्थ स्थान में पापग्रह हो, मंगल अष्टम भाव में हो, अथवा लग्न से 4-12वें स्थान में मंगल और शनि हों, तथा चन्द्रमा क्षीण हो तो, गर्भवती स्त्री का मरण होता है। गर्भाधान काल में मास का स्वामी अस्त हो, तो गर्भपात होता है, इसलिये इस प्रकार के लग्न को गर्भाधान हेतु त्याग देना चाहिये। आधान कालिक लग्न या चन्द्रमा के साथ अथवा इन दोनों से 5-6-7-4-10वें स्थान में सब शुभ ग्रह हों, और 3-6-10वें भाव में सब पापग्रह हों तथा लग्न और चन्द्रमा पर सूर्य की दृष्टि हो तो, गर्भ सुखी रहता है। रवि, गुरू, चन्द्रमा, और लग्न-ये विषम राशि एवं नवमांश में हों, अथवा रवि और गुरू विषम राशि में स्थित हों तो, पुत्र का जन्म होता है, अथवा नपुंसक का जन्म होता है। शुक्र और चन्द्रमा सम राशि में हो तथा बुध मंगल लग्न और बृहस्पति विषम राशि में स्थित होकर पुरुष ग्रह से देखे जाते हों, अथवा लग्न एवं चन्द्रमा समराशि में हो या पूर्वोक्त बुध, मंगल लग्न एवं गुरू सम राशियों में हों तो यमल (जुड़वी सन्तान) को जन्म देने वाले होते हैं। उक्त सभी ग्रह यदि सम राशि और सम नवमांश में हों, अथवा मंगल चन्द्रमा और शुक्र ये समराशि में हों तो, विद्वजनों को कन्या का जन्म समझना चाहिये। ये सब द्विस्वभाव राशि में हों, और बुध से देखे जाते हों, तो अपने-अपने पक्ष के यमल (जुड़वी सन्तान) केे जन्म कारक होते हैं, अर्थात् पुरुष ग्रह दो पुत्रों के और स्त्री ग्रह दो कन्याओं के जन्मदाता होते हैं। यदि दोनों प्रकार के ग्रह हों तो, एक पुत्र और एक कन्या का जन्म समझना चाहिये। लग्न में विषम (3-5 आदि) स्थानों में स्थित शनि भी पुत्र जन्म का कारक होता है। क्रमशः विषम एवं समराशि में स्थित रवि और चन्द्रमा अथवा बुध और शनि एक दूसरे को देखते हों, अथवा सम राशिस्थ सूर्य को विषम राशिस्थ लग्न एवं चन्द्रमा पर मंगल की दृष्टि हो, अथवा चन्द्रमा समराशि और लग्न विषम राशि में स्थित हो, तथा उन पर मंगल की दृष्टि हो अथवा लग्न चन्द्रमा और शुक्र ये तीनों पुरुष राशियों के नवमांश में हों तो, इन सब योगों में नपुंसक का जन्म होता है।

शुक्र और चन्द्रमा सम राशि में हो तथा बुध मंगल लग्न और बृहस्पति विषम राशि में स्थित होकर पुरुष ग्रह से देखे जाते हों, अथवा लग्न एवं चन्द्रमा समराशि में हो या पूर्वोक्त बुध, मंगल लग्न एवं गुरू सम राशियों में हों तो, यमल (जुड़वी) सन्तान को जन्म देने वाले होते हैं। यदि बुध अपने (मिथुन या कन्या के) नवमांश में स्थित होकर द्विस्वभाव राशिस्थ ग्रह और लग्न को देखता हो तो, गर्भ में तीन सन्तान की स्थिति समझनी चाहिये। उनमें से दो तो बुध नवमांश के सदृश होंगे और एक लग्नांश के सदृश्य। यदि बुध और लग्न दोनाें तुल्य नवमांश में हों तो, तीनों सन्तानों को एक-सा ही समझना चाहिये। यदि धनु राशि का अंतिम नवांश लग्न हो, उसी अंश में बली ग्रह स्थित हों, और बलवान बुध या शनि से देखे जाते हों तो गर्भ में बहुत (तीन से अधिक) सन्तानों की स्थिति समझनी चाहिये। या पूर्वोक्त बुध, मंगल लग्न एवं गुरू सम राशियों में हों तो यमल (जुड़वी) सन्तान को जन्म देने वाले होते हैं।

गर्भ मासों के अधिपति:- शुक्र, मंगल, बृहस्पति, सूर्य, चन्द्रमा, शनि, बुध, आधान-लग्नेश, सूर्य, और चन्द्रमा ये गर्भाधान काल से लेकर प्रसव पर्यन्त दस मासों के क्रमशः स्वामी हैं। आधान समय में जो ग्रह बलवान या निर्बल होता है, उसके मास में उसी प्रकार शुभ या अशुभ फल होता है। बुध त्रिकोण (5-6) में हो, और अन्य ग्रह निर्बल हो तो गर्भस्थ शिशु के दो मुख, चार पैर, और चार हाथ होते हैं। चन्द्रमा वृष में और अन्य सब पाप ग्रह राशि संधि में हों तो, बालक गूंगा होता है। यदि उक्त ग्रहों पर शुभ ग्रहों की दृष्टि हो, और हाथ से रहित रहता है तो, वह बालक अधिक दिनों में बोलता है। मंगल और शनि यदि बुध की राशि नवमांश में हों तो शिशु गर्भ में ही दांत से युक्त होता है। चन्द्रमा कर्क राशि में होकर लग्न में हो, तथा उस पर शनि और मंगल की दृष्टि हो तो, गर्भस्थ शिशु कुबड़ा होता है। मीन राशि लग्न में हो, और उस पर शनि, चन्द्रमा, तथा मंगल की दृष्टि हो तो, गर्भ का बालक पंगु होता है।

पापग्रह और चन्द्रमा राशि संधि में हों, और उन पर शुभ ग्रह की दृष्टि न हो तो, गर्भस्थ शिशु जड़-बुद्धि (मूर्ख) होता है। मकर का अन्तिम अंश लग्न मे हो, और उस पर शनि चन्द्रमा तथा सूर्य की दृष्टि हो तो, गर्भ का बच्चा वामन (बौना) होता है। पंचम तथा नवम लग्न के द्रेष्काण में पापग्रह हो तो, जातक क्रमशः पैर, मस्तक और हाथ से रहित रहता है। गर्भाधान के समय यदि सिंह लग्न में सूर्य और चन्द्रमा हों, तथा उन पर शनि और मंगल की दृष्टि हो तो, शिशु नेत्रहीन अथवा नेत्रविकार से युक्त होता है। यदि शुभ और पापग्रह दोनों की दृष्टि हो तो आंख में फूला होती है। यदि लग्न से बाहरवें भाव में चन्द्रमा हो तो, बालक के वाम नेत्र, सूर्य हो तो दक्षिण नेत्र में कष्ट होता है। अशुभ योगों पर शुभ ग्रहों की दृष्टि हो तो, उन योगों के फल परिवर्तित होकर सम हो जाते हैं।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in,gurujiketotke.com, vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।