धनवान बनाने वाला मंत्र

दरिद्रता को समूल नष्ट करने के लिये श्री स्वर्णाकर्षण भैरव मंत्र :-

Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

श्री भैरव के अनेक रूप व साधनाओं का वर्णन तन्त्रों में वर्णित है। उनमें से एक श्रीस्वर्णाकर्षण भैरव साधना हैं, जो साधक को दरिद्रता से मुक्ति दिलाते हैं। जैसा इनका नाम है, वैसा ही इनके मंत्र का प्रभाव है। अपने भक्तों की दरिद्रता को नष्ट कर उन्हें धन-धान्य सम्पन्न बनाने के कारण ही इनका नाम ‘स्वर्णाकर्षण भैरव’ प्रसिद्ध है।

इनकी साधना विशेष रूप से रात्रि काल में कि जाती हैं। शान्ति-पुष्टि आदि सभी कर्मों में इनकी साधना अत्यन्त सफल सिद्ध होती है। इनके मन्त्र, स्तोत्र, कवच, सहस्रनाम व यन्त्र आदि का व्यापक वर्णन तन्त्रों में मिलता है। यहाँ पर सिर्फ मन्त्र-विधान दिया जा रहा है। ताकि जन -सामान्य लाभान्वित हो सकें।

प्रारंभिक पूजा विधान पूर्ण करने के बाद :-

विनियोग :- ॐअस्य श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव मन्त्रस्य श्रीब्रह्मा ॠषिः, पंक्तिश्छन्दः, हरि-हर ब्रह्मात्मक श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरवो देवता, ह्रीं बीजं, ह्रीं शक्तिः, ऊँ कीलकं, श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव प्रसन्नता प्राप्तये, स्वर्ण-राशि प्राप्तये श्रीस्वर्णाकर्षण-भैरव मन्त्र जपे विनियोगः।

ॠष्यादिन्यास :- ऊँ ब्रह्मा-ॠषये नमः – शिरसि।

ॐ पंक्तिश्छन्दसे नमः -मुखे।

ॐ हरि-हर ब्रह्मात्मक स्वर्णाकर्षण भैरव देवतायै नमः – ह्रदये।

ॐ ह्रीं बीजाय नमः – गुह्ये।

ॐ ह्रीं शक्तये नमः – पादयोः।

ॐ ॐ बीजाय नमः – नाभौ।

ॐ विनियोगाय नमः – सर्वाङ्गे।

करन्यास :– ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय – अंगुष्टाभ्यां नमः।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल बद्धाय – तर्जनीभ्यां नमः।

ॐ लोकेश्वराय – मध्यमाभ्यां नमः।

ॐ स्वर्णाकर्षण-भैरवाय नमः – अनामिकाभ्यां नमः।

ॐ मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय – कनिष्ठिकाभ्यां नमः।

ॐ महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं – करतल-कर पृष्ठाभ्यां नमः।

ह्रदयादिन्यासः- ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय – ह्रदयाय नमः।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल-बद्धाय – शिरसे स्वाहा।

ॐ लोकेश्वराय – शिखायै वषट्।

ॐ स्वर्णाकर्षण-भैरवाय – कवचाय हुम्।

ॐ मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय – नेत्र-त्रयाय वौषट्।

ॐ महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं – अस्त्राय फट्।

ध्यान-

पारिजात-द्रु-कान्तारे ,स्थिते माणिक्य-मण्डपे।

सिंहासन-गतं ध्यायेद्, भैरवं स्वर्ण – दायिनं।।

गाङ्गेय-पात्रं डमरुं त्रिशूलं ,वरं करैः सन्दधतं त्रिनेत्रम्।

देव्या युतं तप्त-सुवर्ण-वर्णं, स्वर्णाकृतिं भैरवमाश्रयामि।।

ध्यान करने के बाद पञ्चोपचार पूजन कर लें ।

मन्त्र :- ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ऐं श्रीं आपदुद्धारणाय ह्रां ह्रीं ह्रूं अजामल-बद्धाय लोकेश्वराय स्वर्णाकर्षण-भैरवाय मम दारिद्र्य-विद्वेषणाय महा-भैरवाय नमः श्रीं ह्रीं ऐं।

जप संख्या व हवन – एक लाख जप करने से उपरोक्त मन्त्र का पुरश्चरण होता है और खीर से दशांश हवन करने तथा दशांश तर्पण और तर्पण का दशांश मार्जन व मार्जन का दशांश ब्राह्मण भोजन करने से यह अनुष्ठान पूर्ण होता है। पुरश्चरण के बाद तीन या पाँच माला प्रतिदिन करने से एक वर्ष में दरिद्रता का निवारण हो जाता है। साथ ही उचित कर्म भी आवश्यक है। (साधना आरभ करने से पूर्व किसी योग्य विद्वान से परामर्श जरूर प्राप्त कर लें।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com, vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।

Advertisements

मंत्र जप के नियम


Dr.R.B.Dhawan

(Top Astrologer in Delhi, best Astrologer in Delhi)

वैदिक साहित्य में मंत्र जप करने के नियम व निर्देश दिये गये हैं, किस प्रयोग अथवा साधना के लिए सम्बंधित मंत्र का किस नियम से, और कितना जप किया जाना चाहिए मंत्र का जप कहां बैठकर, किस दिशा में, किस आसन में, किस मुहूर्त में, और किस माला से, किया जाना चाहिये? इसके अलावा भी बहुत से नियम हैं, इन सभी नियमों का निर्देश गुरु से प्राप्त होने पर ही मंत्र का जप आरम्भ करना चाहिए। यहां मंत्र जप के साधारण नियमों का उल्लेख किया जा रहा है :-

नग्नावस्था में कभी भी जप नहीं करना चाहिए ।

सिले हुए वस्त्र पहनकर जप नहीं करना चाहिए ।

शरीर व हाथ अपवित्र हों तो जप नहीं करना चाहिए ।

सिर के बाल खुले रखकर जप नहीं करना चाहिए ।

आसन बिछाए बिना जप नहीं करना चाहिए ।

बातें करते हुए जप नहीं करना चाहिए ।

आधिक लोगों की उपस्थिति में प्रयोग के निमित्त जप नहीं करना चाहिए।

मस्तक ढके बिना जप नहीं करना चाहिए।

अस्थिर चित्त से जप नहीं करना चाहिए ।

ऊंघते हुए भी जप नही करना चाहिए।

रास्ते चलते व रास्ते में बैठकर जप नहीं करना चाहिए ।

भोजन करते व रास्ते में बैठकर जप नहीं करना चाहिए ।

निद्रा लेते समय भी जप नहीं करना चाहिए ।

उल्टे-सीधे बैठकर या पांव पसारकर भी कभी जप नहीं करना चाहिए।

जप के समय छींक नहीं लेनी चाहिए, खंखारना नहीं चाहिए, थूकना नहीं चाहिए, गुप्त अंगों का स्पर्श नहीं करना चाहिए, व भयभीत अवस्था में भी जप नहीं करना चाहिए ।

अंधकारयुक्त स्थान में जप नहीं करना चाहिए ।
अशुद्ध व अशुचियुक्त स्थान में जप नहीं करना चाहिए ।

जप की गणना :-

जप की गणना के तीन प्रकार बतलाए गए हैं –

1. वर्णमाला जप।

2. अक्षमाला जप एवं

3. कर माला जप ।

1. वर्णमाला जप :– वर्णमाला के अक्षरों के आधार पर जप संख्या की गणना की जाए, उसे ‘वर्णमाला जप’ कहते हैं ।

2. अक्षमाला जप :– मनकों की माला पर जो जप किया जाता है, उसे अक्षमाला जप कहते हैं । अक्षमाला में एक सौ आठ मनकों की माला को प्रधानता प्राप्त है, और उसके पीछे भी व्यवस्थित वैज्ञानिक रहस्य है। प्रथम:- सम्पूर्ण तारामंडल (सभी ग्रह जिसकी परिक्रमा करते हैं) में 27 नक्षत्र हैं, और हर नक्षत्र के 4-4 चरण हैं, यह 27×4= 108 चरण होते हैं। हर नक्षत्र के प्रत्येक चरण तक मंत्र की सूक्ष्म कम्पन ऊर्जा पहुंचनी चाहिए, इसलिए एक माला में 108 मंत्र अनिवार्य हैं। दूसरा:- जीवन जगत् और सृष्टि का प्राणाधार सूर्य है, जो कि एक मास में एक भ्रमण पूरा कर लेता है । खगोलीय वृत्त 360 अंशों का है, और यदि इसकी कलाएं बनाई जाएं तो 360 × 60 = 21600 सिद्ध होती हैं, चूंकि सूर्य छह मास तक उत्तरायन तथा शेष छह मास दक्षिणायन में रहता है, अतः एक वर्ष में दो अयन होने से यदि इन कलाओं के दो भाग 21600÷2= 10800 सिद्ध होता है । सामंजस्य हेतु अंतिम बिंदुओं से संख्या को मुक्त कर दें तो, शुद्ध संख्या 108 बची रहती हैं, इसलिए भारतीय धर्मग्रंथों में कहीं कहीं उत्तरायन सूर्य के समय सीधे तरीके से तथा दक्षिणायन सूर्य के समय दाएं-बाएं तरीके से एक सौ आठ मनको की माला फेरने का विधान है, जिस से कार्यसिद्धि में शीघ्र सफलता मिलती है।

भारतीय कालगति में एक दिन रात का परिणाम 60 घड़ी माना गया है , जिसके 60 × 60 = 3600 पल तथा 3600 × 60 = 21600 विपल सिद्ध होते हैं । इस प्रकार इसके दो भाग करने से 10800 विपल दिन के और इतने ही रात्रि के सिद्ध होते हैं, और शुभकार्य में अहोरात्र का पूर्व भाग (दिन को) ही उत्तम माना गया है, जिसके विपल 10800 हैं, अतः उस शुभ कर्म में 108 मनकों की माला को प्रधानता देना भी तर्क संगत और वैज्ञानिक दृष्टि से उचित है । किसी भी मंत्र भी हजार अथवा लाख संख्या की गणना माला द्वारा ही संभव है । इसके लिए 108 मनकों की माला सर्वश्रेष्ठ मानी गई है ।

3. करमाला जप :- हाथ की उंगलियों के पोरवों (पर्वो) पर जो जप किया जाता है, उसे “करमाला जप” कहते हैं । नित्य सामान्यतः बिना माला के भी जप किया जा सकता है, किन्तु विशिष्ट कार्य या अनुष्ठान-प्रयोग हेतु माला प्रयोग में लाई जाती है ।

माला संबंधी सावधानी :- माला फेरते समय निम्न सावधानियां बरतनी आवश्यक हैं कि माला सदा दाहिने हाथ में रखनी चाहिए । गोमुखी में रखकर या वस्त्र से ढककर ही जप करें। माला भूमि पर नहीं गिरनी चाहिए, उस पर धूल नहीं जमनी चाहिए । माला अंगूठे, मध्यमा व अनामिका से फेरना ठीक है । दूसरी उंगली तर्जनी से भूलकर भी माला नहीं फेरनी चाहिए । (कर्मविशेष छोड़कर)। मनकों पर नाखून नहीं लगने चाहिए । माला में जो सुमेरु होता है, उसे लांघना नहीं चाहिए । यदि दुबारा माला फेरनी हो तो वापस माला बदलकर फेरें । मनके फिराते समय सुमेरु भूमि का कभी स्पर्श न करें । इस बात के प्रति सदा सावधान रहना चाहिए ।

मेरे और लेख देखें :- Aapkabhavishya.in, astroguruji.in, gurujiketotke.com,vaidhraj.com,shukracharya.com, rbdhawan@wordpress.com पर भी।