कर्म और भाग्य

Dr.R.B.Dhawan (Astrological Consultant)

कर्म और भाग्य का सम्बन्ध अटूट है, कर्म जैसे रहे हों भाग्य भी वैसा ही होगा, कर्म कैसे किये हैं, जिस कारण भाग्य ऐसा बना है? यह जातक की जन्मकुंडली (कर्म कुंडली) से सांकेतिक भाषा से पता चलता है।

मनुष्य को सामान्य सफलतायें यद्यपि पुरूषार्थ से मिल जाती हैं। लेकिन असाधारण सफलतायें पुरूषार्थ के साथ-साथ भाग्य की देन हैं। जातक की जन्म पत्रिका उसके संचित कर्मो का अभिलेखा होती है। क्योंकि व्यक्ति का जन्म उसके पूर्व जन्मार्जित कर्म फल भोग के लिये होता है। व्यक्ति के जन्मांग के 12 भाव 12 राशियों का प्रतिनीधित्व करते हैं। तथा उनके स्वामी ग्रह (7 ग्रह) भावेश कहलाते हैं। वे कुंडली में अपनी स्थिति के अनुसार शुभाशुभ फल देते हैं। ये ग्रह क्रमशः लग्नेश, धनेश, पराक्रमेश, सुखेश, पंचमेश, ऋणेश, सप्तमेश, अष्टमेश, भाग्येश, कर्मेश (राज्येश) लाभेश एवं व्ययेश कहलाते हैं।

चन्द्र, बुध, गुरू, शुक्र को सौम्य ग्रह कहा गया है। सूर्य, मंगल, शनि एवं राहु, केतु को पाप ग्रह कहा गया है। सौम्य ग्रह केन्द्र एवं त्रिकोण में बैठकर जीवन को सुखद बनाते हैं। पाप ग्रह जहाँ बैठते हैं, वहाँ हानि करते हैं। प्रत्येक ग्रह अपने से सातवें भाव को पूर्ण दृष्टि से देखता है, लेकिन गुरू, राहु, केतु को पाँचवी, नौवीं भी पूर्ण दृष्टि होती है। इसी प्रकार मंगल की चौथी और आठवीं भी पूर्ण दृष्टि होती है। तथा शनि की तीसरी और दसवीं भी पूर्ण दृष्टि होती है। ज्योतिष के दो सिद्धान्त देखें, स्थान वृद्धि करे शनि, दृष्टि वृद्धि करो गुरू।‌ इस के अलावा जो भाव अपने स्वामी से दृष्ट होगा। वह ग्रह उस भाव की वृद्धि होगी। ग्रह स्वराशि, उच्च राशि, मित्र राशि, नीच राशि, एवं शत्रु राशि में स्थिति अनुसार अपना शुभाशुभ फल देते हैं। वक्री ग्रह भी अपनी प्रकृति अनुसार फल देते हैं। जन्म कुंडली में ग्रह जिस राशि में है, यदि नवांश कुंडली में भी वह ग्रह उसी राशि में हो तो श्रेष्ठ फल देता है। जन्म कुंडली के एक, चार, सात एवं दसवां भाव केन्द्र भाव कहलाते हैं। तथा पाँचवां एवं नौवां भाव त्रिकोण और छठा, आठवां एवं बारहवाँ भाव त्रिक भाव होते हैं। तृतीय एकादश भाव को उपचय कहा जाता है।
जन्म लग्न की भाँति चन्द्र लग्न एवं सूर्य लग्न को भी पृथक महत्व दिया गया है। चलित गोचर ग्रह फल के लिये तो चन्द्र लग्न ही प्रमुख है। इस प्रकार तीनो लग्नों, चलित ग्रह, नवांश, विंशोत्तरी महादशा आदि का समन्वय युक्त फल कथन ही सही बैठता है।

जन्म कुंडली का दूसरा भाव धन संचय का, चौथा भाव अचल सम्पति का दशम भाव कमाई का/तनख्वाह का, ग्यारहवां भाव दिन प्रतिदिन के लाभ का तथा पाँचवे एवं नौवे भाव एकाएक सम्पत्ति लाभ के माने जाते हैं। छठे भाव से रोग, ऋण एवं शत्रुता का विचार करते हैं। आठवें भाव से दरिद्रता एवं द्वादश भाव से व्यय तथा हानि देखते हैं। पाप ग्रह अपनी प्रकृति के अनुसार फलनाश करते हैं। वहीं सौम्य ग्रह केन्द्र एवं त्रिकोण में स्थित होकर जीवन को सुखमय बनाते हैं। यदि स्थिति उल्टी हो अर्थात शुभ ग्रह त्रिक स्थानों मे हों और अशुभ ग्रह केन्द्र त्रिकोण मे हों तो निश्चित ही व्यक्ति का जीवन अत्यंत संघर्षमय हो जाता है। ज्योतिष विज्ञान इस तथ्य को प्रमाणित करता है। कि व्यक्ति उच्च ग्रहों की महादशा में जन्म जन्मांतर में किये गये सत्कर्मो का फल भोगता है। और नीच ग्रहों की दशा में पूर्व जन्मार्जित दुष्कर्मो का स्वराशि एवं वर्गोतमी ग्रहों की महादशा में उस जन्म के कर्मो का फल भी मिलता है। जन्मांग गत ग्रह हमारे कर्म फलभोग की सूचना देते हैं।

यदि चन्द्र लग्न एवं सूर्य लग्न पाप ग्रहों के मध्य पाप कर्तरी योग बनायें तो जीवन घोर संघर्ष युक्त रहता है। और वहीं यदि ये लग्ने शुभ मध्यत्व (अर्थात सूर्य लग्नः चन्द्र लग्न के दोनों ओर शुभ ग्रह हों) में हों तो जातक सामान्य परिश्रम प्रयास से ही अच्छी सफलता पा लेता है। यदि धनेश एवं लाभेश दोनों छठे भाव में स्थित हों तो व्यक्ति जीवन भर ऋण भार से दबा रहता है। यदि लग्नेश एवं नवमेश में भाव परिवर्तन हो तो व्यक्ति भौतिक उन्नति के साथ आध्यात्मिक उन्नत्ति भी करता है। चन्द्र एवं गुरू एक दूसरे से सम-सप्तक हों तो व्यक्ति दूसरे के धन का सुखोपभोग करता है। वैसे भी चन्द्र से गुरू का केन्द्र में होना गज केसरी राज योग देता है। और व्यक्ति शासकीय सेवा से जुड़ता है। यदि द्वितीय, पंचम, नवम, दशम एवं लाभ भाव में उच्च राशि के ग्रह विशेषतः शुक्र या केतु हों तो व्यक्ति को अचानक धन लाभ देते हैं। ये ग्रह अपनी दशा एवं महादशा तथा गोचर में श्रेष्ठ स्थिति बनने पर अवश्य लाभ देते हैं। ग्रहों का भाव परिवर्तन फलो में वृद्धि करता है, यथा लाभेश दूसरे भाव में हो और द्वितीयेश लाभ भाव में हो तो व्यक्ति की सुख-समृद्धि बढ़ती रहती है। छठे, आठवें, बारहवें भाव के स्वामियों की दशा में खर्चे अधिक एवं आय कम हो जाती है। केन्द्र एवं त्रिकोण स्थित ग्रहों की महादशा में आय-व्यय का श्रेष्ठ संतुलन बना रहता है। गुरू एवं शुक्र की महादशा उचित एवं न्यायिक मार्गों से धन देती है। वहीं शनि एवं राहु दो नम्बर के मार्ग से धन लाभ कराते हैं। यदि दशम भाव में राहु अपनी उच्च राशि में हो तो अपनी महादशा में व्यक्ति को करोड़ों रूपयों का लाभ देता है। महादशा के साथ अन्तर्दशा पर भी गौर करें यदि अन्तर्दशा का स्वामी ग्रह महादशा के स्वामी से छठा, आठवां, बारहवां हो तो धन प्राप्ति में बाधाये आती हैं। यदि अन्तर्दशा का स्वामी महादशा नाथ से दूसरा हो तो धन संग्रह होता है। चतुर्थ होने पर अचल संपत्ति का लाभ एवं वृद्धि देता है। त्रिकोण होने पर आकस्मिक लाभ तथा दसवें होने पर राज्य से लाभ देता है। लाभेश की महादशा प्रचुर धन लाभ देती है।

यज्जातकेषु द्रतिणं प्रदिष्टं या कर्म वार्ता कथिता ग्रहस्य। आलोक योगोद् भावंज, तत्सर्व कृतिन्योजय तद् दशायाम।।

अर्थात् ग्रहों के जो द्रव्य, आजीविका, वर्ण, स्वभाव, दृष्टि तथा योगज फल कहे गये हैं। वे सब फल उन ग्रहों की दशा अन्तर्दशा में धटित होते हैं। यदि लग्नेश छठे, आठवें, बारहवें, भाव को छोड़कर कहीं विद्यमान हो तो मनुष्य राजाओं द्वारा सम्मानित होता है। लग्नेश की स्थिति शुक्र के साथ होना अनिवार्य है। दशमेश से लग्नेश का सम्बन्ध राजयोगकारी कहा गया है। यदि दोनों ही बलशाली हों, क्रूर ग्रहों के प्रभाव से मुक्त हों तो अवश्य ही राज पद की प्राप्ति होती है। दशम भाव में लग्नेश तथा लग्न में दशमेश होने से व्यक्ति बहुत सी भूमि का स्वामी धन एवं सौन्दर्य के कारण विख्यात् तथा बहुत धन सम्पत्ति का स्वामी होता है। एकादश स्थान में लग्नेश तथा लग्न में एकादशेश व्यक्ति को राजा एवं दीर्घायु बनाता है।

लग्नाधीशेऽर्थगेचेद् धन भवन पतौ लग्नयातेऽर्थवान् स्यात्। बुध्या चार प्रवीणः परम सूकृत्कृत्सारभृद् भोग शलीः जातकंलकार।।

लग्नेश धन भाव में धनेश लग्न में होने पर जातक धनी, बुद्धि से आचरण करने वाला धार्मिक अच्छे कार्य करने वाला यथार्थवान एवं भोगी होता है। राहु-केतु के नाम से लोग भयभीत रहते हैं। लेकिन:-

केन्द्रऽथवा कोण गृहे वसेतां, तमोग्रहावन्य तरेज चाँदि। नाथेन सम्बन्धवशाद् भवेतां, तौ कारकावुक्तमि हेति विज्ञै।।

यदि राहु-केतु केन्द्र या त्रिकोण में स्थित हो तथा उनका दूसरे केन्द्र से या त्रिकोण से सम्बन्ध हो अथवा केन्द्र में होते हुये त्रिकोणेश से या त्रिकोण में रहते हुये केन्द्रेश से सम्बन्ध हो तो ये उत्तम योग कारक होते हैं। या तीसरे, छठे, ग्यारहवें भाव में हो तो इनकी दशा शुभ फल देती है। वक्री ग्रह की दशा में धन, स्थान और सुख हानि होती है। व्यर्थ भ्रमण एवं सम्मान हानि भी होती है। मार्गी ग्रह की महादशा धन, सम्मान, सुख, यशवृद्धि एवं श्रेष्ठ आजीविका दायक होती है। यदि पंचमेश एवं नवमेश केन्द्र में हो तथा बुध, चन्द्र व गुरू द्वारा दृष्ट हो तो जातक धनी, सुखी, संतुष्ट एवं धर्मात्मा होता है। लग्न के नवांश का स्वामी और नवमेश दोनों परम उच्चांश में हो, और लाभेश बलवान हो तो, व्यक्ति के पास अटूट सम्पत्ति होती है। नवम भाव में सूर्य, गुरू तथा दशम भाव में मंगल बुध हो तो जातक राज्य में सर्वोच्च पद पाता है। सर्व दृष्टि से सुखी एवं सम्पन्न रहता है। यदि लग्न को छोड़कर सभी ग्रह परस्पर त्रिकोण भाव में स्थित हो या लग्नेश बली होकर केन्द्र में हो तथा चतुर्थेश लग्न में हो और शुभ ग्रहों से दृष्ट हो तो जातक भूमिपति बनता है। भूमि से ही अथाह लाभ पाता है।

इस प्रकार व्यक्ति के जन्मांग में अनेकानेक सूयोग्य- कूयोग उसके जीवन का संचालन करते हैं। हमारे शुभ कर्म हमें सुयोग्य तथा अशुभ कर्म कुयोग प्रदान करते हैं। कर्म ही हमारे भाग्य का निर्माण करते हैं। कर्म फल भोग का सिद्धान्त होने से व्यक्ति के पूर्व जन्मार्जित कर्म ही वर्तमान भाग्य का निर्धारण करते हैं। रीति-नीति धर्माचरणा तथा देवी-देव पूजा, जप, अनुष्ठान दानादि के द्वारा कुयोगों के दुष्परिणामों से बचा जा सकता है। तथा सूयोगों को बलवान बनाकर पूर्ण लाभ लिया जा सकता है।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————-

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, gurujiketotke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

नीलम Neelam

नीलम कब धारण करें-

Dr.R.B.Dhawan, top, best astrologer

नीलम रत्न शनि ग्रह का रत्न है, यह रत्न नवरत्नों में से एक और मूल्यवान तथा अति प्रभावशाली रत्न है, शनि ग्रह का प्रतिनिधि यह रत्न चमत्कारी और तुरंत अपना प्रभाव प्रकट करने वाला, किस्मत पलटने की ताकत रखने वाला माना गया है।
इस रत्न के विषय में लोक मान्यता यह है कि, यह रत्न विरले ही किसी जातक को अनुकूल बैठता है। जिस किसी को अनुकूल बैठता है, उसकी किस्मत ही पलट देता है। यह रत्न रंक से राजा भी बना देता है, और अनूकूल नहीं बैठने पर राजा से रंक भी बना देता है।
मैने अनेक ऐसे जातकों को नीलम धारण करने की सलाह दी है, जिनकी जन्म कुंडली में शनि ग्रह योगकारक है, अथवा योगकारक होकर शुभ ग्रहों के साथ युति बना रहा है, या फिर योगकारक होकर शुभ स्थान में स्थित है।

वस्तुत: मैंने नीलम धारण करवाने के बाद उन जातकों के जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन देखा है। उनमें से कुछ तो आर्थिक संकट के चलते न केवल अपना व्यापार ही बंद कर चुके थे, बल्कि भयंकर कर्ज से दबे हुये भी थे, और कुछ का व्यापार बंद होने के कागार पर था। कुछ लोग ऐसे भी थे जो नौकरी-पेशा थे, और अपने अधिकारियों से तंग आकर नौकरी छोड चुके थे, उनके सामने भी भयंकर आर्थिक संकट मंडरा रहा था। ऐसी स्थिति में कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है, मैंने अपने 32 वर्ष के अनुभव से और ज्योतिष के मूल सिद्धांतों को कुंडलियों पर लागू करने के बाद ही कहा कि, जातक की कुंडली में शनि ग्रह विशेष स्थिति में स्थित है। इस लिये नीलम धारण करने से न केवल समस्या का समाधान होगा अपितु अत्यंत आर्थिक सहायता भी प्राप्त होगी।
नीलम धारण करने के मामले में पहले किसी दीर्घ-अनुभवी विद्वान ज्योतिषाचार्य से सलाह अवश्य लेनी चाहिये। क्योकि कभी-कभी शनि ग्रह का चमत्कारी रत्न ‘‘नीलम’’ शनिग्रह जैसे क्रूर स्वाभाव को भी धारक पर प्रकट कर देता है, इसी लिये विशेष परिस्थितीयों में ही तथा शनि ग्रह की अनुकूलता प्राप्त करने के लिये ‘‘नीलम रत्न’’ धारण करने की सलाह अवश्य दी जाती है।

कब धारण करें नीलम :-
नीलम के विषय में मेरा अपना पिछले 32 वर्ष का अनुभव रहा है कि, नीलम रत्न केवल वृष एवं तुला लग्न वालों को ही धारण करना चाहिये, वह भी कुंडली का पूर्ण विश्लेषण के उपरांत क्योकि तुला लग्न के लिये शनि चतुर्थेश-पंचमेश होता है, और वृष लग्न के लिये शनि नवम और दशम स्थान का स्वामी होकर योगकारक ग्रह कहलता है। परंतु वृष-तुला लग्न में जब शनि की स्थिति कुंडली के किसी केन्द्र या त्रिकोण स्थान में हो। जैसे-

1. वृष लग्न की कुंडली में नवमेश-दशमेश शनि की स्थिति यदि नवम स्थान में हो, तो (शनि इस लग्न में केन्द्र-त्रिकोण नवम-दशम दोनो स्थान) का स्वामी होगा, और नवम स्थान में स्वगृही (अपनी मकर राशि) में योगकारक स्थित में होने के कारण अत्यंत शुभ फल प्रकट करेगा। परंतु इस शुभ योग के लिये शर्त यह है कि इस स्थान में शनि के साथ कोई पाप स्थान का स्वामी ग्रह स्थित नहीं होना चाहिये, अथवा कुंडली के इस स्थान में शनि वक्री नहीं होना चाहिये। यदि शनि नवम में वक्री या किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित होगा, तब शनि रत्न नीलम का अशुभ फल होगा अथवा नीलम धारण के शुभ प्रभाव में कमी हो जायेगी। वृष लग्न की कुंडली में नवम भाव स्थित शनि के शुभ प्रभाव में कमी तब भी होती है, जब शनि ग्रह अपनी इस राशि में वाल्यावस्था, कुमारावस्था, वृद्धावस्था अथवा मृतावस्था में हो। वृष लग्न और नवम भाव में पाप युक्त या वक्री स्थिति में शनि नहीं है, तब भी अवस्था देखना आवश्यक है।

शनि की अवस्था (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा कुम्भ राशि में) –

बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

शनि की अवस्था- (शनि की स्थिति वृष या तुला लग्न तथा मकर राशि में) –

मृतावस्था- में शनि (00 से 06 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
वृद्धावस्था- में शनि (06 से 12 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
युवावस्था- में शनि (12 से 18 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 100 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
कुमारावस्था- में शनि (18 से 24 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 50 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।
बाल्यावस्था- में शनि (24 से 30 अंश) की स्थिति में हो, तब नीलम धारण से 25 प्रतीशत ही शुभफल की प्राप्ति होगी।

2. वृष लग्न की कुंडली में दशम स्थान कुम्भ राशि (मूल त्रिकोण राशि) का शनि न केवल योगकारक होता है, मकर से अधिक शुभ फल प्रदान करता है। इस कुम्भ राशि में दशम (केन्द्र) में स्थित शनि भी यदि किसी पाप स्थान के स्वामी के साथ स्थित नहीं, वक्री नहीं है, और युवावस्था में भी है, शनि ग्रह शुभ व बलवान माना जाता है, और नीलम धारण करने वाले धारक को अत्यंत शुभफल की प्राप्ति होती है। परंतु यदि अवस्था में भी कमजोर हो, तो तब यह शनि का रत्न नीलम पूर्ण शुभ फल नहीं देता, अपितु नीलम धारण करने वाले को न्यून शुभफल ही प्राप्त होता है।

3. तुला लग्न की कुंडली में शनि चतुर्थ व पंचम स्थान का स्वामी होकर योगकारक होता है, इस लिये तुला लग्न वाले जातक की कुंडली में शनि की स्थिति यदि चतुर्थ या पंचम में हो, और शनि ग्रह के मार्गी तथा युवावस्था में होने पर जातक नीलम धारण करके 100 प्रतीशत शुभ फल प्राप्त करते हैं। तथा बाल्य, कुमार, वृद्ध और मृत अवस्था में अथवा शनि ग्रह का पाप स्थान के स्वामी से सम्बंध अथवा शनि के वक्री होने पर शुभ फल में कमी हो जाती है।
विशेष– वृष तथा तुला लग्न वाले जातक के लिये शनि की स्थिति इन दो स्थानों (नवम-दशम अथवा चतुर्थ-पंचम स्थान) के अतिरिक्त भी (कुंडली के अन्य भावों में) शुभ हो सकती है, परंतु वह स्थिति कितनी शुभ या अशुभ होगी, कुंडली के अन्य ग्रहों की स्थिति के अनुसार ही निर्णय किया जा सकता है। अतः नीलम धारण से शुभाशुभ फल प्राप्त हो सकता है, अथवा नहीं? यदि शुभफल प्राप्त हो सकता है, तो कितने प्रतीशत? इस शुभाशुभ का निर्णय कुंडली का पूर्ण विश्लेषण करने के पश्चात ही हो सकता है।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

——————————————————-

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

प्रेम रोग, Prem rog

प्रेम रोग और शुक्र ग्रह (ज्योतिष में प्रेम का कारक ग्रह शुक्र को माना गया है।

Dr.R.B.Dhawan, top best astrologer in Delhi, astrological consultant.

आजकल चारों ओर योग की चर्चा हो रही है। इसके ठीक विपरीत भोग के लिए भी कानून सरल हो गये हैं, विपरीत लिंग के प्रेम पाश में बंधे कुछ युवक-युवती पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित होकर दैहिक सुख के भंवर में फंस जाते हैं, उन्हें लगता है कि जीवन में उसे आत्मसंतुष्टि प्राप्त हो यही जीवन का उद्देश्य है। कुछ लोगों का कहना है की भोग भी इसी योग का ही एक स्वरूप प्रेम है। तर्क दिया जाता है कि भगवत प्राप्ति के लिए भी प्रेम आवश्यक है, कहा भी है –

मिलहिं न रघुपति बिनु अनुरागा।
किये जोग तप ग्मान विराग।।

योग, तप, ज्ञान और वैराग्य में भी यदि प्रेम का पुट नहीं हो तो, भगवद् प्राप्ति नहीं होती। प्रेम का जब प्रथम बार हृदय में प्रवेश होता है तो, प्रत्येक जीव एक विशेष ऊर्जा से आहत हो जाता है। अपने प्रेमी के दर्शन न होने पर वह इतना व्याकुल हो जाता है कि, उसे कहीं भी चैन सुख नहीं मिल पाता। चाहे प्रेम का स्वरूप कोई भी हो। मीरा के प्रेम का स्वरूप पूर्णतः आध्यात्मिकता से प्रेरित था फिर भी मीरा कहती थी-

हे री मैं तो प्रेम दिवानी मेरो दरद न जाने कोय।
घायल की गति घायल जाने और न जाने कोय।
मीरा री प्रभु परी मिटेगी जब वैध सांवरो होय।

वर्तमान में भी इस प्रकार के प्रेम का स्वरूप कहीं-कहीं प्रतीत होता है, लेकिन अधिकांश तथा मात्र धोखा ही नजर आता है। पश्चिमी सभ्यता एवं संस्कृति के प्रभाव के कारण वर्तमान में प्रेम सिर्फ दिल्लगी बनकर रह गया है। अर्थात एक से बिछुड़ना दूसरे से जुड़ना, (अफेयर्स और ब्रेकप) इस प्रकार से क्रम चलता रहता है, एवं जिंदगी गुजरती रहती है। पुराने वस्त्र उतार कर जिस प्रकार नये वस्त्र धारण किये जाते हैं, उसी प्रकार इसका स्वरूप भी बन गया है। इसी प्रेम के स्वरूप को समझने हेतु हम ज्योतिष शास्त्र की शरण में जाए तो हमें कुछ संकेत अवश्य प्राप्त होंगे कि जातक का प्रेम स्वच्छ एवं निर्मल है, अर्थात पूर्णतः पवित्र मन से प्रेरित है, या कामवासना से प्रेरित है।
ज्योतिष में शुक्र को प्रेम का स्थायी कारक माना गया है। जन्मांग चक्र का पंचम भाव प्रेम का आधिपत्य की सूचना देता है, पंचम से पंचम अर्थात नवम भी प्रेम का भाव है। चतुर्थ भाव हृदय का, तृतीय भाव जातक की इच्छा का तो एकादश भाव सर्वविधि लाभ का एवं अष्टम कामेन्द्रियों का और द्वादश स्थान काम वासना की संतुष्टि का भाव माना जाता है। ग्रहों में चन्द्र को चंचल एवं मन का कारक भाव माना जाता है। शुक्र प्रेम तथा कामेच्छा को पैदा एवं मंगल काम वासना को ऊर्जा देता है, बृहस्पति शुद्ध आध्यात्मिकता का एवं शनि ग्रह वैराग्य व राहु, केतु विजातीय स्वभाव के ग्रह होने से विजातीय संबंधों को दर्शाते हैं। इन कारकों और कुंडली के ग्रहों की परस्पर युति एवं दृष्टि पर ही शु़क्र अर्थात प्रेम का स्वरूप निर्धारित होता है। शुक्र की युति किस भाव में एवं किस ग्रह के साथ है, शुक्र पर किस ग्रह की दृष्टि है, आदि स्थितियां प्रेम के स्वरूप को नियंत्रित एवं नियमित करती है।

विभिन्न ग्रहों की शुक्र से युति एवं प्रेम का स्वरूप :-

सूर्य एवं शुक्र की युति होने पर जातक अपने प्रेम में प्रतिष्ठा को महत्वपूर्ण मानता है। उसका प्रेम हमेशा अपने से उच्च स्तर के लोगों से प्रेरित होता है, उनसे सुख प्राप्त करने की कोशिश भी करता है। लग्न से पंचम, नवम या दशम से युति होने पर प्रेमी से मान- सम्मान एवं सुख की प्राप्ति बिना किसी परेशानी के प्राप्त हो जाती है, लेकिन अन्य भावों में युति होने पर संघर्ष प्रेम प्राप्ति हेतु बना रहता है।
चन्द्र एव शुक्र की युति होने पर जातक प्रेम के मामले में चंचल रहता है। विशेष रूप से जब दोनों में से कोई एक लग्नेश हो या लाभ भाव में युति हो। लाभ भाव में युति होने एवं दोनों में से कोई एक अष्टम या द्वादश का स्वामी भी हो तो ऐसा जातक शारीरिक सुखी की प्राप्ति होने तक ही प्रेम संबंध रखता है। अन्य भावों में युति होने पर भी जातक प्रेम संबंधाें को स्थायी नहीं रख पाता दशम या द्वादश से युति हो तो, विदेशी स्त्रियों से प्रेम करवाकर आर्थिक सुख भी देता है।
मंगल व शुक्र की युति होने पर जातक का प्रेम वासना से युक्त होता है। वासना पूर्ति हेतु प्रेम परिवर्तन होता रहता है, लग्न में यदि युति बन रही हो तो, ऐसा जातक सभी सीमाएं पार कर व्याभिचारी बन जाता है। सप्तम या अष्टम में होने पर वासना पूर्ति हेतु अपने चारित्रिक पतन को बढ़ाता है एवं दु:ख प्राप्त करता है।
बुध व शुक्र की युति होने पर जातक-जातिका का प्रेम राजकुमार की भांति होता है। ऐसा जातक प्रेम के मामले में किसी की दखलांदाजी पसंद नहीं करता है, एवं प्रेम की स्थिति अनुसार परिवर्तित भी कर लेता है। ऐसे जातक रोमांटिक प्रेमी होते हैं। प्रेम को रोमांच मानकर चलना इनकी नियति बन जाती है। सप्तम में युति होने पर जातक अपनी महिला मित्र का पूर्णतया सुखोपभोग करने में कुशल रहता है।
बृहस्पति एवं शुक्र की युति होने पर प्रेम में सौंदर्य, सौशिष्यता, आध्यात्मिकता व दार्शनिकता का प्रभाव देखने को मिलता है। बृहस्पति व शुक्र दोनों धन के कारक हैं। इसलिए आर्थिक स्तर, ज्ञान से प्रभावित होकर प्रेम का आविर्भाव होता है। इस प्रकार की युति जातक को पूर्णतः धन, मान, सम्मान एवं आत्म स्वाभिमान को जागृत करने वाली होती है।
शनि, राहु व केतु से यदि शुक्र की युति बन रही हो तो, प्रेम अन्य वर्गों से होता है। प्रेम विजातीय स्वरूप का हो जाता है। ऐसा जातक भोगी एवं व्याभिचारी होता है। विषय लाभ की प्राप्ति के लिए हमेशा आतुर रहता है। उसका प्यार बिना द्वंद्व वाला एवं जल्दी ही प्रचारित हो जाता है। राहु की युति प्रेम के लिए पृथक्कता का वातावरण निर्मित करवाती है, तो केतु से युति होने पर प्रेम संबंध घनिष्ठ बनाने हेतु जातक को प्रेरित करती है।
इन युतियों के होने पर भी पूर्णतः प्रभाव कभी कभार नहीं दिखता क्योंकि जब शुक्र से युति कारक ग्रह की शुक्र से अंशात्मक दूरी अधिक हो तो, जातक के प्रेम में उस ग्रह संबंधी भावों, विशेषताओं का स्पष्ट एवं पूर्णतः प्रभाव दृष्टिगोचर होगा। लेकिन दूरी होने पर प्रभाव का असर तो रहेगा, लेकिन जातक की प्रेम को अभिव्यक्त करने की क्षमता कम होगी। प्रेम के स्वरूप को पूर्णतया प्रकट करने की जातक की अभिलाषा मूर्त रूप नहीं ले पाएगी। जातक के अन्तर्मन पर ही इसका प्रभाव अधिक होगा। बाह्य मन पर एवं व्यवहार पर नहीं।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

——————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

गुरू पूर्णिमा

जब महादेवजी ने बताई पार्वतीजी को गुरु की महिमा :- (गुरू पूर्णिमा पर विशेष) :-

Dr.R.B.Dhawan, Astrological consultant, Top best Astrologer in Delhi, experience Astrologer in Delhi

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुर्गुरुर्देवो महेश्वर:।

गुरु: साक्षात्परं ब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नम:।।

अखण्डमण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम्।

तत्पदं दर्शितं येनं तस्मै श्रीगुरवे नम:।।

एक बार पार्वतीजी ने महादेवजी से गुरु की महिमा बताने के लिए कहा। तब महादेवजी ने कहा :-

गुरु ही ब्रह्मा, गुरु ही विष्णु, गुरु ही शिव और गुरु ही परमब्रह्म है; ऐसे गुरुदेव को नमस्कार है। अखण्ड मण्डलरूप इस चराचर जगत में व्याप्त परमात्मा के चरणकमलों का दर्शन जो कराते हैं; ऐसे गुरुदेव को नमस्कार है।

ध्यानमूलं गुरोर्मूर्ति: पूजामूलं गुरो: पदम्। मंत्रमूलं गुरोर्वाक्यं मोक्षमूलं गुरो: कृपा।।

अर्थात्– गुरुमूर्ति का ध्यान ही सब ध्यानों का मूल है, गुरु के चरणकमल की पूजा ही सब पूजाओं का मूल है, गुरुवाक्य ही सब मन्त्रों का मूल है, और गुरु की कृपा ही मुक्ति प्राप्त करने का प्रधान साधन है। गुरु शब्द का अभिप्राय जो अज्ञान के अंधकार से बंद मनुष्य के नेत्रों को ज्ञानरूपी सलाई से खोल देता है, वह गुरु है। जो शिष्य के कानों में ज्ञानरूपी अमृत का सिंचन करता है, वह गुरु है। जो शिष्य को धर्म, नीति आदि का ज्ञान कराए, वह गुरु है। जो शिष्य को वेद आदि शास्त्रों के रहस्य को समझाए, वह गुरु है।

गुरुपूजा का अर्थ :-
गुरुपूजा का अर्थ किसी व्यक्ति का पूजन या आदर नहीं है वरन् उस गुरु की देह में स्थित ज्ञान का आदर है, ब्रह्मज्ञान का पूजन है।

गुरुपूर्णिमा मनाने का कारण :-
वैसे तो गुरू सदा पूजनीय हैं, परंतु आषाढ़ पूर्णिमा के दिन सभी अपने-अपने गुरु की पूजा विशेष रूप से करते हैं। यह सद्गुरु के पूजन का पर्व है, इसलिए इसे गुरुपूर्णिमा कहते हैं। जिन ऋषियों-गुरुओं ने इस संसार को इतना ज्ञान दिया, उनके प्रति कृतज्ञता दिखाने का, ऋषिऋण चुकाने का और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का पर्व है गुरुपूर्णिमा। यह श्रद्धा और समर्पण का पर्व है। गुरुपूर्णिमा का पर्व पूरे वर्षभर की पूर्णिमा मनाने के पुण्य का फल तो देता ही है, साथ ही मनुष्य में कृतज्ञता का सद्गुण भी भरता है। गुरु गोविन्द दोउ खड़े काके लागूं पांय। बलिहारी गुरु आपने गोविन्द दियो बताय।।
माता-पिता जन्म देने के कारण पूजनीय हैं, किन्तु गुरु धर्म और अधर्म का ज्ञान कराने से अधिक पूजनीय हैं। इष्टदेव के रुष्ट हो जाने पर तो गुरु बचाने वाले हैं,‌ परन्तु गुरु के अप्रसन्न होने पर कोई भी बचाने वाला नहीं हैं। गुरुदेव की सेवा-पूजा से जीवन जीने की कला के साथ परमात्मा की प्राप्ति का मार्ग भी दिखाई पड़ जाता है। कवच अभेद विप्र गुरु पूजा। एहि सम विजय उपाय न दूजा।।

अर्थात् :- वेदज्ञ ब्राह्मण ही गुरु है, उन गुरुदेव की सेवा करके, उनके आशीर्वाद के अभेद्य कवच से सुरक्षित हुए बिना संसार रूपी युद्ध में विजय प्राप्त करना मुश्किल है।

गुरुपूर्णिमा को व्यासपूजा क्यों कहते हैं? :-
आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा को भगवान वेदव्यास का अवतरण पृथ्वी पर हुआ था इसलिए यह व्यासपूजा या व्यासपूर्णिमा कहलाती है। व्यासजी ऋषि वशिष्ठ के पौत्र व पराशर ऋषि के पुत्र हैं। व्यासदेवजी गुरुओं के भी गुरु माने जाते हैं। वेदव्यासजी ज्ञान, भक्ति, विद्वत्ता और अथाह कवित्व शक्ति से सम्पन्न थे। इनसे बड़ा कवि मिलना मुश्किल है। उन्होंने ब्रह्मसूत्र बनाया, संसार में वेदों का विस्तार करके ज्ञान, उपासना और कर्म की त्रिवेणी बहा दी, इसलिए उनका नाम ‘वेदव्यास’ पड़ा। पांचवा वेद ‘महाभारत’ और श्रीमद्भागवतपुराण की रचना व्यासजी ने की। अठारह पुराणों की रचना करके छोटी-छोटी कहानियों द्वारा वेदों को समझाने की चेष्टा की। संसार में जितने भी धर्मग्रन्थ हैं, चाहे वे किसी भी धर्म या पन्थ के हों, उनमें अगर कोई कल्याणकारी बात लिखी है तो वह भगवान वेदव्यास के शास्त्रों से ली गयी है। इसलिए कहा जाता है–‘व्यासोच्छिष्टं जगत्सर्वम्’ अर्थात् जगत में सब कुछ व्यासजी का ही उच्छिष्ट है।
विलक्षण गुरु समर्थ रामदास के अदम्य साहसी शिष्य छत्रपति शिवाजी छत्रपति शिवाजी महाराज समर्थ गुरु रामदास स्वामी के शिष्य थे। एक बार सभी शिष्यों के मन में यह बात आयी कि शिवाजी के राजा होने से समर्थ गुरु उन्हें ज्यादा प्यार करते हैं। स्वामी रामदास शिष्यों का भ्रम दूर करने के लिए सबको लेकर जंगल में गए और एक गुफा में जाकर पेटदर्द का बहाना बनाकर लेट गए। शिवाजी ने जब पीड़ा से विकल गुरुदेव को देखा तो पूछा– ‘महाराज! इसकी क्या दवा है?’
गुरु समर्थ ने कहा – शिवा! रोग असाध्य है। परन्तु एक दवा काम कर सकती है, पर जाने दो।
शिवा ने कहा ‘गुरुदेव दवा बताएं, मैं आपको स्वस्थ किए बिना चैन से नहीं रह सकता।’
गुरुदेव ने कहा इसकी दवा है– सिंहनी का दूध और वह भी ताजा निकला हुआ; परन्तु यह मिलना असंभव सा है।
शिवा ने पास में पड़ा गुरुजी का तुंबा उठाया और गुरुदेव को प्रणाम कर सिंहनी की खोज में चल दिए। कुछ दूर जाने पर उन्हें एक सिंहनी अपने दो शावकों (बच्चों) के साथ दिखायी पड़ी। अपने बच्चों के पास अनजान मनुष्य को देखकर वह शिवा पर टूट पड़ी और उनका गला पकड़ लिया। शूरवीर शिवा ने हाथ जोड़कर सिंहनी से विनती की– ‘गुरुदेव की दवा के लिए तुम्हारा दूध चाहिए’ उसे निकाल लेने दो। गुरुदेव को दूध दे आऊँ, फिर तुम मुझे खा लेना।’ ऐसा कहकर उन्होंने ममता भरे हाथों से सिंहनी की पीठ सहलाई। मूक प्राणी भी ममता की भाषा समझते हैं। सिंहनी ने शिवा का गला छोड़ा और बिल्ली की तरह शिवा को चाटने लगी। मौका देखकर शिवा ने उसका दूध निचोड़कर तुंबा में भर लिया और सिंहनी पर हाथ फेरते हुए गुरुजी के पास चल दिए।
उधर गुरुजी सभी शिष्यों को आश्चर्य दिखाने के लिए शिवा का पीछा कर रहे थे। शिवा जब सिंहनी का दूध लेकर लौट रहे थे तो रास्ते में गुरुजी को शिष्यों के साथ देखकर शिवा ने पूछा– ‘गुरुजी, पेटदर्द कैसा है?’
गुरु समर्थ ने शिवा के सिर पर हाथ फेरते हुए कहा– ‘आखिर तुम सिंहनी का दूध ले आए। तुम्हारे जैसे शिष्य के होते गुरु की पीड़ा कैसे रह सकती है?’
भारतीय परम्परा में गुरुसेवा से ही भक्ति की सिद्धि हो जाती है। गुरु की सेवा तथा प्रणाम करने से देवताओं की कृपा भी मिलने लगती है।
‘गुरु को राखौ शीश पर सब विधि करै सहाय।’
कलिकाल में सद्गुरु न मिलने पर भगवान शिव ही सभी के गुरु हैं क्योंकि ‘गुरु’ शब्द से जगद्गुरु परमात्मा ईश्वर का ही बोध होता है; इसलिए कहा भी गया है :-

वसुदेवसुतं देवं कंसचाणूर मर्दनम्। देवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दे जगद्गुरुम्।।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

नारायण नागबली

नारायण नागबली (संतान बाधा निवारण हेतु पितृ दोष का प्रभावशाली उपाय):-

Dr.R.B.Dhawan astrological consultant, top Best Astrologer in Delhi,

नारायण नागबली छविनारायण नागबलि ये दोनो अनुष्ठान पद्धतियां संतान सुख की अपूर्ण इच्छा, कामना पूर्ति के उद्देश से किय जाते हैं, इसीलिए ये दोनो अनुष्ठान काम्य प्रयोग कहलाते हैं। वस्तुत: नारायणबलि और नागबलि ये अलग-अलग पूजा अनुष्ठान हैं। नारायण बलि का उद्देश मुखत: पितृदोष निवारण करना है। और नागबलि का उद्देश सर्प शाप, नाग हत्या का दोष निवारण करना है। इन में से केवल एक नारायण बलि या नागबलि अकेले नहीं कर सकते, इस लिए ये दोनो अनुष्ठान एक साथ ही करने पड़ते हैं।

पितृदोष निवारण के लिए ही नारायण नागबलि अनुष्ठान करने के लिये शास्त्रों मे निर्देशित किया गया है । प्राय: यह अनुष्ठान जातक के पूर्वजन्म के दुर्भाग्य संबधी दोषों से मुक्ति दिलाने के लिए किये जाते हैं। ये अनुष्ठान किस प्रकार व कौन इन्हें कर सकता है? इसकी पूर्ण जानकारी होना आवश्यक है। ये अनुष्ठान जिन जातकों के माता पिता जिवित हैं, वे भी विधिवत सम्पन्न कर सकते हैं, यज्ञोपवीत धारण करने के बाद कुंवारा ब्राह्मण यह अनुष्ठान सम्पन्न करा सकता है। संतान प्राप्ति एवं वंशवृद्धि के लिए ये अनुष्ठान सपत्नीक करने चाहीयें। यदि पत्नी जीवित न हो तो कुल के उद्धार के लिए पत्नी के बिना भी ये कर्म किये जा सकते हैं। यदि पत्नी गर्भवती हो तो गर्भ धारण से पाचवें महीने तक यह अनुष्ठान किया जा सकता है। घर में कोई भी मांगलिक कार्य हो तो ये अनुष्ठान एक साल तक नही किये जाते हैं। माता या पिता की मृत्यु् होने पर भी एक साल तक ये अनुष्ठान करने निषिद्ध माने गये हैं।

दोनों प्रकार यह अनुष्ठान एक साथ और निम्नलिखित इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए किये जाते हैं :-

1. काला जादू के प्रभाव से मुक्ति पाने के लिए।
2. संतान प्राप्ति के लिए।
3. भूत प्रेत से छुटकारा पाने के लिए।
4. घर के किसी व्यक्ति की दुर्घटना के कारण मृत्यु होती है (अपघात, आत्महत्या, पानी में डूबना) इस की वजह से अगर घर में कोई समस्याए आती है तो, उन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए यह अनुष्ठान किया जाता है।

संतान प्राप्ति के लिए :-
सनातन मान्यता के अनुसार प्रत्येक दम्पत्ती की कम से कम एक पुत्र संतान प्राप्ति की प्रबल इच्छा होती है, और इस इच्छा की पूर्ति न होना दम्पत्ती के लिए बहुत दुःखदाई होता है, हालांकि इस आधुनिक युग में टेस्ट ट्यूब बेबी जैसी उपचार पद्धतियां उपलब्ध हैं, लेकिन कुछ जोड़ों की कमाई के हिसाब से यह बहुत खर्चीली होती हैं। इस लिये बहुत से लोग इन महेंगे उपचारों के कारण खर्च करने में समर्थ नहीं होते, और कुछ इस के लिए कर्जा लेते हैं, लेकिन जब कभी इस महेंगे उपचारों का भी कोई लाभ नहीं होता, तब यह जोड़े ज्योतिषीयों के पास जाते हैं, और एक अच्छा अनुभवी ज्योतिषी ही इस समस्या का समाधान और उपचारों की विफलता का कारण बता सकता है।

शास्त्र कहते हैं :- जहां रोग है, वहां उपचार भी है। इसी नियम को ध्यान में रखते हुऐ हमारे पूर्वज ऋषियों ने इन समस्याओं के समाधान हेतु ज्योतिष शास्त्र में कुछ विशेष उपाय सुझाए हुए है, सब से पहेले ज्योतिषी यह देखते हैं की इस की पीड़ित दंपति की जन्म कुंडली में संतान प्राप्ति का योग है या नहीं? अगर है, तो गर्भधारण करने में समस्या का कारण क्या है? जैसे की पूर्व जन्म के पाप, पितरों का श्राप, कुलविनाश का योग, इनमें से कोई विशेष कारण पता चलने के बाद वह उस समस्या का निराकरण सुझाते खोजते हैं। इन उपायों में से नारायण नागबली सर्वश्रेष्ठ उपाय माना जाता है। यदि यह अनुष्ठान उचित प्रकार से और मनोभाव से किया जाए, तो संतानोत्पत्ति की काफी संभावनाए हो जाती हैं।

भूत-प्रेत बाधा के कारण संतानोत्पत्ति में रूकावटें :-
कोई स्थाई अस्थाई संपत्ति जैसे के, घर जमीन या पैसा किसी से जबरन या ठग कर हासिल की जाती है तो, मृत्यु पश्चात् उस व्यक्ति की आत्मा उसी संपत्ति के मोह रहती है, उस व्यक्ति को मृत्यु पश्चात् जलाया या दफनाया भी जाए तो भी उस की इच्छाओं की आपूर्ति न होने के कारण उस की आत्मा को माया से मुक्ति नहीं मिल पाती, और वह आत्मा प्रेत योनी में भटकती है, और उस के पतन के कारण व्यक्ति को वह पीड़ा देने लगती है, यदि किसी शापित व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात् उसकी अंतेष्ठि विधि शास्त्रों अनुसार संपन्न न हो, या श्राद्ध न किया गया हो, तब उस वजह से उस से सम्बंधित व्यक्तिओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जैसे कि– संतति का आभाव, यदि संतान होती भी है, तो उस का अल्प जीवी होना
संतति का ना होना ही है।

1. काफी कष्टों के बावजूद आर्थिक अड़चनों का सामना करना
खेती में नुकसान।
2. व्यवसाय में हानि, नौकरी छूट जाना, कर्जे में डूब जाना,
परिवार में बिमारीयाँ।
3. मानसिक या शारीरिक परेशानी, विकलांग संतति का जन्म होना, या अज्ञात कारणों से पशुधन का विनाश।
4. परिवार के किसी सदस्यों को भूत बाधा होना।
5. परिवार के सदस्यों में झगड़े या तनाव होना।
6. महिलाओं में मासिक धर्म का अनियमित होना, या गर्भपात होना।
ऊपर लिखे हुये सभी या किसी भी परेशानी से व्यक्ति झूंज रहा हो तोतो, उसे नारायण-नागबली करने की सलाह दी जाती है।

श्राप सूचक स्वप्न :-
कोई व्यक्ति यदि निम्नलिखित स्वप्न देखता है, तो वह पिछले या इसी जन्म में श्रापित होता है :-
1. स्वप्न में नाग दिखना, या नाग को मारते हुवे दिखना, या टुकड़ो में कटा हुवा नाग दिखना।
2. किसी ऐसी स्त्री को देखना, जिसके बच्चे की मृत्यु हो गई है, वह उस बच्चे के प्रेत के पास बैठ कर अपने बच्चे को उठने को कह रही है, और लोग उसे उस प्रेत से दूर कर रहे है।
3. विधवा या किसी रोगी सम्बन्धी को देखना।
4. किसी ईमारत को गिरते हुए देखना।
5. स्वप्न में झगड़े देखना।
6. खुद को पानी में डूबते हुये देखना।
इस प्रकार के स्वप्नों से मुक्ति पाने के लिए नारायण-नागबली अनुष्ठान किया जाता है। धर्मसिंधु और धर्मनिर्णय इन प्राचीन ग्रंथो में इस अनुष्ठान के विषय में लिखा हुआ है।

दुर्मरण :-
किसी भी प्रकार से दुर्घटना यदि मृत्यु का कारण हो, और अल्पायु में मृत्यु होना दुर्मरण कहा जाता है। किसी मनुष्य की इस प्रकार से मृत्यु उस मनुष्य के परिवार के लिए अनेक परेशानियों का कारण बनती है। निम्नलिखित कारण से आने वाली मृत्यु दुर्मरण कहलाती है :-

1. विवाह से पहले मृत्यु होना।
2. परदेस में मृत्यु होना।
3. गले में अन्न अटक कर श्वास रुकने से मृत्यु होना।
4. पंचक, त्रिपाद या दक्षिणायन काल में मृत्यु होना।
5. आग में जल कर मृत्यु होना।
6. किसी खतरनाक जानवर के हमले से मृत्यु होना।
7. छोटे बच्चे का किसी के हाथों मारा जाना।
8. पानी में डूब जाने से मृत्यु होना।
9. आत्महत्या करना।
10. आकाशीय बिजली गिरने या बिजली के झटके से मृत्यु।
यह सब कारण हैं, जिसके कारण किसी व्यक्ति की मृत्यु होती है तो, परिवार में आर्थिक, मानसिक वा शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं, इं परेशानियों को दूर करने के लिए परिजनों को नारायण-नागबली करवाने की सलाह दी जाती ।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

पंद्रह मुखी रूद्राक्ष

पंद्रह मुखी रूद्राक्ष, 15 Mukhi Rudraksh Nepal, 15 Mukhi Rudraksh Original Nepal,

Dr.R.B.Dhawan (गुरूजी) astrologer, Astrological Consultant, specialist : marriage problems, top best astrologer in delhi

रक्ष जाति के आचार्य shukracharya का वचन है कि- पंद्रहमुखी रूद्राक्ष अत्यन्त दुर्लभ रूद्राक्षों की श्रेणी में आता है। यह रूद्राक्ष परम प्रभावशाली तथा अल्प कालावधि में ही शिवजी को प्रसन्न करने वाला रूद्राक्ष है, यह रूद्राक्ष साक्षात् देवमणि है। गुरू जी (Dr.R.B.Dhawan) और पुराणों के अनुसार पंद्रह विद्या, का साक्षात रूप है। इसमें महादेव की विशेष शक्ति निहित होती है, इसलिये नवग्रहों से उत्पन्न दोष इसे धारण करने मात्र से शांत होते हैं। यह रूद्राक्ष कठिन से कठिन परिस्थितियों में धारण करने वाले का मार्गदर्शन करता है। जो व्यक्ति इस रूद्राक्ष को कंठ के मध्य में धारण करते हैं, वह सर्वत्र पूजित होते हैं, और अंत समय वे स्वर्ग को प्राप्त होते हैं। चमड़ी के जटिल से जटिल रोगों को दूर करने की इसमें शक्ति है। धारक को आत्मरक्षा करने में समर्थ बनाता है। यह रूद्राक्ष धारक को हानि, दुर्घटना, जटिल रोग, आर्थिक चिन्ता से मुक्त रखकर धारक को सुरक्षा-समृद्धि देता है। वैसे तो यह रूद्राक्ष सभी जटिल रोगों को दूर करने वाला माना गया है, फिर भी Dr.R.B.Dhawan के अनुभव अनुसार इस रूद्राक्ष में पौरुष रोग को दूर करने की महान शक्ति है। इसी लिए दुर्बल पुरुष के लिए अधिक महत्त्वपूर्ण माना गया है, और इसीलिये इस की मांग अधिक होने से यह अधिक मूल्यावान भी होता है। वैसे भी यह रूद्राक्ष बहुत ही कम मात्रा में उत्पन्न होता है, और इसकी मांग इसकी उपलब्धता से कहीं अधिक है। पंद्रहमुखी रूद्राक्ष स्वास्थ्य लाभ, रोगमुक्ति और शारीरिक तथा मानसिक-व्यापारिक उन्नति में सहायक होता है। धारण करने पर आध्यात्मिक तथा भौतिक सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। इस रूद्राक्ष को धारण करने से शत्रुओं का नाश होता है, इस लिए यह रूद्राक्ष त्रिकाल सुखदायक है, यह समस्त रोगों का हरण करने वाला, सदैव आरोग्य प्रदान करने वाला है। इसके धारण करने से कुल की मर्यादा और कुल वृद्धि अवश्य होती है। इससे बल और उत्साह का वर्धन होता है, और निर्भयता प्राप्त होती है, तथा संकट काल में सरंक्षण भी प्राप्त होता है। पंद्रहमुखी रूद्राक्ष धारण करने वाला व्यक्ति सदा सही निर्णय लेता है, और संकटों, कुपरिस्थितियों एवं चिंताओं से छुटकारा पाता है, धारणकर्ता में विशेष ओजस गुणों का विकास होने लगते हैं। यह शास्त्रोक्त सत्य है कि जिसने पंद्रहमुखी रूद्राक्ष धारण कर लिया, उसेे उत्तम संतान की प्राप्ति होती है, और गृहस्थ जीवन भी अच्छा होता है। गर्भपात रूक जाता है, व गुणवान संतान उत्पन्न होती है।

पंद्रहमुखी रूद्राक्ष धारण का मंत्र है- ॐ पशुपतय नम:’ मंत्र का 108 बार जाप करते हुए धारण करें।
लाभ- अलौकिक मार्गदर्शन, जटिल और पौरुष रोगों की शांति।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

चौदह मुखी रूद्राक्ष

चौदह मुखी रूद्राक्ष, 14 Mukhi Rudraksh Nepal, 14 Mukhi Rudraksh Original Nepal,

Dr.R.B.Dhawan (गुरूजी) Astrologer, Astrological Consultant, specialist : marriage problems, top best astrologer in delhi

असुराचार्य shukracharya के अनुसार- चौदह मुखी रूद्राक्ष अत्यन्त दुर्लभ रूद्राक्षों की श्रेणी में आता है। परम प्रभावशाली तथा अल्प समय में ही शिवजी को प्रसन्न करने वाला यह चौदह मुखी रूद्राक्ष साक्षात् देवमणि है। Dr.R.B.Dhawana जी का कथन है कि- पुराणों में वर्णित है कि यह रूद्राक्ष चौदह विद्या, 14 लोक, 14 मनु का साक्षात् रूप है। इसमें हनुमानजी की शक्ति भी निहित होती है, इसलिये शनि से संबंधित सभी दोष इसे धारण करने मात्र से शांत होते हैं। यह रूद्राक्ष आज्ञाचक्र का नियन्ता है। जो व्यक्ति इस रूद्राक्ष को कपाल के मध्य में धारण करते हैं, उनकी पूजा देवता और ब्राह्यण करते हैं, और वे निर्वाण (स्वर्ग) को प्राप्त हो जाते हैं। यह शिवजी तीसरे नेत्र के समान है, और धारक को आत्म रक्षा एवं कार्य के सही नियोजन में सहायक बनाता है। यह रूद्राक्ष धारक को हानि, दुर्घटना, रोग, चिन्ता से मुक्त रखकर साधक को सुरक्षा-समृद्धि देता है, यह रूद्राक्ष सभी रूद्राक्षों में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण माना गया है, और इसीलिये यह अधिक मूल्यावान होता है। ये बहुत ही कम संख्याओं में उत्पन्न होता है, और इसकी मांग इसकी उपलब्धता से कहीं अधिक होती है। चौदह मुखी रूद्राक्ष shukracharya संस्थान में उपलब्ध है, क्योंकि इस रूद्राक्ष को स्वयं भगवान शिव ने धारण किया था, इसे धारण करने से परिवार का कल्याण होता है, चतुर्दशमुखी रूद्राक्ष स्वास्थ्य लाभ, रोगमुक्ति और शारीरिक तथा मानसिक-व्यापारिक उन्नति में सहायक होता है। 14 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से आध्यात्मिक लाभ तथा भौतिक सुख तथा सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। इस रूद्राक्ष को मस्तक पर धारण करना चाहिये। जो मनष्य इसे मंत्र सिद्ध करके धारण करते हैं, वह रूद्रलोक में जाकर बसते हैं। इससे परमपद की प्राप्ति होती है, शत्रुओं का नाश होता है, बैकुंठ की प्राप्ति होती है। यह जेल भय से मुक्ति भी दिलाता है। यह रूद्राक्ष त्रिकाल सुखदायक है, यह समस्त रोगों का हरण करने वाला सदैव आरोग्य प्रदान करने वाला है। इसके धारण करने से वंशवृद्धि अवश्य होती है। इससे बल और उत्साह का वर्धन होता है। इससे निर्भयता प्राप्त होती है, और संकट काल में सरंक्षण प्राप्त होता है। विपत्ति और दुर्घटना से बचाव के लिये हनुमान जी (रूद्र) के प्रतीक माने जाने वाले इस 14 मुखी रूद्राक्ष को अवश्य प्रयोग करना चाहिये। चतुर्दशमुखी रूद्राक्ष धारक को भविष्य देखने की दृष्टि प्रदान करता है, यह ‘देवमणि’ रूद्राक्ष है। चतुर्दशमुखी रूद्राक्ष धारण करने वाला व्यक्ति सदा सही निर्णय लेता है, और संकटों, कुपरिस्थितियों एवं चिंताओं से छुटकारा पाता है, तथा भूत-पिशाच, डाकिनी, शाकिनी का प्रकोप उसके निकट भी नहीं आता। धारणकर्ता में विशेष गुण विकसित होने लगते हैं। यह आचार्य shukracharya द्वारा शास्त्रोक्त सिद्ध है कि जिसने 14 मुखी रूद्राक्ष धारण कर लिया, शनि जैसा प्रतिकूल ग्रह भी अनुकूल हो जाता है। चौदह मुखी रूद्राक्ष की माला पुरूष या स्त्री द्वारा धारण करने से उत्तम संतान की प्राप्ति होती है, और गृहस्थ जीवन भी अच्छा होता है। ग्यारह मुखी तथा चौदह मुखी दोनों रूद्राक्ष की माला को पेट पर बांधने से बार-बार हो जाने वाला गर्भपात नहीं होता। और उच्च कोटि की संतान उत्पन्न होती है।

14 मुखी रूद्राक्ष धारण का मंत्र है- ॐ नमः ॐ हनुमते नमः।
चैतन्य मंत्र- ॐ औं हस्फ्रें हसख्फ्रें। इस मंत्र से रूद्राक्ष को चैतन्य कर धारण करना चाहिये।
उपयोग- यह रूद्राक्ष भविष्य दर्शन, कल्पना शक्ति एवं ध्यान में सहायक है।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

गौरी शंकर रुद्राक्ष

गौरी-शंकर रुद्राक्ष, Gori Shankar Rudraksh Nepal, Gori Shankar original Rudraksh Nepal,

Dr.R.R.Dhawan – astrological consultant, top best astrologer in Delhi

Aacharya, shukracharya के अनुसार गौरी शंकर रुद्राक्ष प्राकृतिक रूप से परस्पर जुड़े दो रूद्राक्षों को ही गौरी-शंकर रूद्राक्ष कहा जाता है। गौरी-शंकर रूद्राक्ष gauri Shankar Rudraksha को भगवान् शिव तथा माता गौरी का स्वरूप माना जाता है, इसलिये इसका नाम गौरी शंकर रूद्राक्ष है। यह रूद्राक्ष हर प्रकार की सिद्धियों का दाता है। यह रूद्राक्ष एक मुखी तथा चैदह मुखी की तरह बहुत दुर्लभ तथा विशिष्ट रूद्राक्ष है। कुछ लोग इसे अर्धनारीश्वर रूद्राक्ष भी कहते हैं। यह सुख-शांति, विवाह, संतान, सात्विक शक्ति, धन-धान्य, वैभव, प्रतिष्ठा, दैवीय कृपा और स्थाई लक्ष्मी प्रदाता रूद्राक्ष है। इस gauri Shankar Rudraksha रूद्राक्ष को उपयोग में लाने से भगवान शिव और माता पार्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इसमें द्विमुखी रूद्राक्ष के जैसे गुण होते हैं, ऐसी मान्यता है। गौरी-शंकर रूद्राक्ष में एक मुखी रूद्राक्ष और चैदह मुखी रूद्राक्ष दोनों की शक्तियाँ समाहित होती हैं। गौरी-शंकर को पति-पत्नी के बीच, पिता-पुत्र के बीच, या दो मित्रों के बीच सम्बन्ध सुधारने के लिये धारण करते हैं। विवाह के इच्छुक युवक-युवती इसे धारण करते हैं। सामंजस्य, आकर्षण, मंगल कामनाओं की सिद्धि में यह रूद्राक्ष बहुत सहायक है। गौरी-शंकर रूद्राक्ष gauri Shankar Rudraksha सर्वसिद्धि प्रदाता रूद्राक्ष कहा गया है। यह सात्विक शक्ति में वृद्धि करने वाला, मोक्ष प्रदाता है। महिलाओं के लिये गौरी-शंकर रूद्राक्ष सफल वैवाहिक जीवन के लिये लाभकारी माना गया है। यह रूद्राक्ष भगवान शिव और उमादेवी का संयुक्त प्रतिरूप होने के कारण वंशवृद्धि द्वारा सृष्टि का विकास करता है। अतः पारिवारिक शांति एवं एकजुटता के लिये श्रेष्ठ है। गुरू जी Dr.R.B.Dhawan का कहना है की जन्म पत्री में यदि दुःखदायी कालसर्प योग पूर्णरूप से अथवा आंशिक रूप से प्रकट होकर जीवन को कष्टमय बना रहा हो तो, व्यक्ति को अविलम्ब 8 मुखी 9 मुखी और गौरी-शंकर रूद्राक्ष gauri Shankar Rudraksha अर्थात तीनों ही रूद्राक्षों का संयुक्त बन्ध बनवाकर धारण करना चाहिये क्योंकि कालसर्प दोष केवल शिव कृपा से ही दूर होता है, और गौरी-शंकर रूद्राक्ष के साथ राहू एवं केतु के 8 एवं 9 मुखी रूद्राक्ष बन्ध निश्चित रूप से कालसर्प योग से पूर्णतः मुक्ति दिलाने में सर्वश्रेष्ट हैं। गौरी-शंकर रूद्राक्ष धारण करने से पुरूषों को स्त्री सुख प्राप्त होता है, तथा परस्पर सहयोग एवं सम्मान तथा प्रेम की वृद्धि होती है। यह रूद्राक्ष शिव-शक्ति के लिये उपयोगी माना गया है। यह बहुत दुर्लभ रूद्राक्ष है। परंतु shukracharya संस्थान में उपलब्ध है। इस से जीवन सर्वतोन्मुखी विकास की ओर अग्रसर होता है। संक्षेप में यह धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष को देने वाला चतुर्वर्ग प्रदाता रूद्राक्ष है, यह ध्यान में भी प्रबल सहायक है। सर्वाधिक गौरी-शंकर में कुल 1, 10 या 11 मुख होते हैं, ऐसे भी गौरी-शंकर है, जिनमें 11 मुख या फिर दोनों दानों में एक-एक मुख होता है। गौरी-शंकर कंठा जिसमें 33 बीज होते हैं, सन्यासी पहनते हैं, जिन्हें अपने ब्रह्यचर्य की रखा करनी होती है। अधिकांशतः लोग इसे पहनने की बजाय इसकी पूजा करते हैं। इसके 33 दानों के कंठे से निसृत ऊर्जा सामान्य व्यक्ति में वैराग्य की भावना पैदा करती है। गौरी शंकर रूद्राक्ष को पूजा स्थान के साथ-साथ तिजोरी, गल्ले, में स्थापित करते हैं। धारण करने के लिये इसे सोने या चांदी में मढ़वा लेना श्रेष्ठ है।

धारण करने के लिये मंत्र- ॐ ऐं हृीं युगलरूपिण्यै नमः। ॐ गौरी-शंकराभ्यां नमः।
चैतन्य मंत्र- ॐ ऐं हृीं क्लीं क्ष्म्यौं स्वाहा।। इस मंत्र से रूद्राक्ष को चैतन्य कर धारण करना चाहिये।
उपयोग- बड़े से बड़ा विघ्न इस रूद्राक्ष को धारण करने से समूल नष्ट होता है, मानसिक शारीरिक रोगों से पीड़ित पुरूषों/स्त्रियों के लिये ये रूद्राक्ष दिव्यौषधि की तरह काम करता है।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

त्रिजुटी रूद्राक्ष

त्रिजुटी रूद्राक्ष – Trijuti Rudraksh Nepal, trijuti original Rudraksh Nepal,

Dr.R.B.Dhawan – astrological consultant, top best astrologer in delhi

आचार्य shukracharya के अनुसार – त्रिजुटी एक बहुत ही अलग प्रकार का रूद्राक्ष होता है। इस रूद्राक्ष में तीन रूद्राक्ष एक साथ जुड़े होते हैं, इसे trijuti Rudraksh गौरी पाठ रूद्राक्ष भी कहते हैं। यह शिव-पार्वती-गणेश यानि सम्पूर्ण शिव परिवार के रूप में पाया जाता है। यह रूद्राक्ष अत्यन्त दुर्लभ होता है, कभी-कभी कई साल में भी एक रूद्राक्ष पैदा नहीं होता है। यह रूद्राक्ष प्रजाति का सबसे दुर्लभ रत्न समझा जाता है। जितना फल एक मुखी रूद्राक्ष से, चैदह मुखी रूद्राक्ष, तथा गौरी-शंकर रूद्राक्ष सहित सभी रूद्राक्ष पहनने से मिलता है, उससे करोड़ों गुना फल श्री trijuti Rudraksh गौरी पाठ रूद्राक्ष दर्शन से ही प्राप्त हो जाता है। यह रूद्राक्ष एक तरह से अप्राप्य होता है, इसकी कीमत दो या तीन लाख रूपये तक होती है। गुरू जी Dr.R.B.Dhawan के अनुसार इस के दर्शन भी किसी भाग्य वाले को ही प्राप्त होते हैं, ऐसी ही मान्यता है। त्रिजुटी trijuti Rudraksh रूद्राक्ष प्रकृति का अजूबा है। तीन रूद्राक्ष पेड़ पर ही जुड़ जाते हैं। यानी कि गौरी-शंकर में एक रूद्राक्ष और मिल जाता है। त्रिजुटी के अनेक प्रकार हैं, पर तीनों दानें एक आकार व आकृति के हों, और समान रूप से जुड़े हों, यह दुर्लभ है। ऐसा दाना shukracharya संस्थान में उपलब्ध है। यह रूद्राक्ष कई वर्षों में एक बार उपजता है। यह ब्रह्याण्ड के मूल गुणों का प्रतीक है। इसे धारण करने मात्र से गुरू ब्रह्या, गुरू विष्णु, गुरू महेश की कृपा स्वतः प्राप्त हो जाती है। यह सम्पूर्ण व्यक्तित्व का सूचक है, और धारक को हर कठिनाई के समय पूरा साथ देता है। नेतृत्व एवं यश प्राप्ति में यह बहुत सहायक है। त्रिजुटी में मुख कितने भी हो सकते हैं। यह दिव्य रूद्राक्ष है, और धारक को इसकी विचित्र ऊर्जाओं के साथ तादात्म्य पाने में समय लगता है। विशेष परिस्थितियों में इसे धारण करने के बजाय केवल पूजा स्थान पर ही रख दिया जाता है।

त्रिजुटी रूद्राक्ष के साथ जपने योग्य मंत्र :- ॐ त्र्यंबकम् यजामहे सुगंधि पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मोक्षीय मामृतात्।। (महामृत्युजय मंत्र) तथा ॐ नमः शिवाय।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।

गर्भगौरी रूद्राक्ष

गर्भगौरी रूद्राक्ष – Garbh Gori Rudraksh Nepal, Garbh Gori Rudraksh original Nepal,

Dr.R.B.Dhawan – astrological consultant, top best astrologer in Delhi,

यह रूद्राक्ष गौरी-शंकर रूद्राक्ष का वह रूप है, जिसमें दो रूद्राक्ष एक दूसरे से जुड़े होते हैं, और इनमें से एक दाना दूसरे से छोटा होता है। असुर गुरु shukracharya का कथन है कि इस रुद्राक्ष को धारण करने से गर्भरक्षा होती है, यह भगवान गणेश और माता गौरी की शक्ति तथा सायुज्यता का घोेतक तथा प्रेमपूर्ण संबध का प्रतीक है, इसी लिए इस रूद्राक्ष को गर्भगौरी रूद्राक्ष कहते हैं। उपाय के रूप में यदि किसी गर्भवती को गर्भपात abortion का भय हो तो यह रूद्राक्ष धारण करने से गर्भरक्षा होती है। यह गौरी-शंकर रूद्राक्ष जैसा होता है, परंतु एक रूद्राक्ष छोटा और दूसरा सामान्य आकार का होता है। और जिसमें दो रूद्राक्ष प्राकृतिक ढंग से जुड़े हुये होते हैं। इस रूद्राक्ष को धारण करने से गर्भरक्षा होती है, और गर्भपात abortion होने के भय से मुक्ति मिलती है। किसी स्त्री के गर्भ धारण में शारीरिक कठिनाई हो या बार-बार गर्भपात abortion हो जाता हो तो यह रूद्राक्ष अवश्य धारण करें।

विशेष संदेश :- आप मेरे ज्योतिषीय अनुभवों का लाभ Live Vedio द्वारा लेना चाहते हैं तो, मेरे YouTube channel : AstroGuruji पर मेरे वीडियो देखें, मेरा वीडियो पसंद आयें तो :- channel को Subscribe और Like जरूर करें, तथा Bell बटन को दबाएं।

———————————————————–

गुरू जी के लेख देखें :- aapkabhavishya.com, astroguruji.in, aapkabhavishya.in, vaidhraj.com, rbdhawan.wordpress.com, guruji ke totke.com. astroguruji.in

गुरु जी से ज्योतिषीय परामर्श के लिए :- http://www.shukracharya.com पर Paid सर्विस उपलब्ध है।